होम /न्यूज /राष्ट्र /

'जिस RJD को भ्रष्ट बताया, उसके साथ गठबंधन को कैसे जायज ठहराएंगे' : नीतीश कुमार पर बरसे केंद्रीय मंत्री

'जिस RJD को भ्रष्ट बताया, उसके साथ गठबंधन को कैसे जायज ठहराएंगे' : नीतीश कुमार पर बरसे केंद्रीय मंत्री

नीतीश कुमार के साथ राजद नेता तेजस्वी यादव. (फाइल फोटो)

नीतीश कुमार के साथ राजद नेता तेजस्वी यादव. (फाइल फोटो)

Nitish Kumar News: राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात के बाद नीतीश कुमार ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. नीतीश ने कहा कि राजग से नाता तोड़ने का फैसला जद (यू) ने लिया है.

हाइलाइट्स

राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात के बाद नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया.
राजग से अलग होने का फैसला लिए जाने के बाद नीतीश कुमार राज्यपाल से मिलने पहुंचे.
नीतीश कुमार ने कहा कि राजग से नाता तोड़ने का फैसला जद (यू) ने लिया.

नई दिल्ली. बिहार में सियासी सरगर्मियां तेज होने के बीच प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आठ वर्ष में दूसरी बार अपने सहयोगी भारतीय जनता पार्टी से नाता तोड़ लिया है. नीतीश कुमार ने मंगलवार को राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात के बाद कहा कि उन्होंने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. नीतीश अपनी पार्टी जद (यू) की बैठक में भाजपा नीत राजग से अलग होने का फैसला लिए जाने के बाद राज्यपाल से मिलने पहुंचे थे.

वहीं, नीतीश के इस कदम को केंद्रीय मंत्री आर.के. सिंह ने ‘सत्ता के लिए राजनीति’ करार दिया. उन्होंने कहा, ‘राजद के 15 साल के शासन में राज्य और पीछे चला गया, सीएम नीतीश कुमार ने भी कई बार ऐसा कहा. वह राजद के साथ गठबंधन में जाने को कैसे जायज ठहराएंगे, जिसे उन्होंने भ्रष्ट बताया है? यह सब सत्ता के लिए राजनीति है, इसमें कोई नैतिकता नहीं है और उन्हें शर्म आनी चाहिए.’

गिरिराज सिंह ने भी नीतीश पर साधा निशाना
केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भी नीतीश कुमार पर राजनीतिक निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने अपने स्वार्थ के कारण भाजपा से गठबंधन तोड़ा है. मंगलवार को बैठक के लिए पटना रवाना होने से पहले दिल्ली में मीडिया से बात करते हुए गिरिराज सिंह ने कहा कि वो नीतीश कुमार को उस नाम से नहीं बुला सकते, जिस नाम से उन्हें तेजस्वी यादव (आरजेडी नेता) ने बुलाया था. सिंह ने कहा कि जिस तेजस्वी यादव के साथ मिलकर वो सरकार बनाने जा रहे हैं, उन्हीं तेजस्वी यादव ने उनके बारे में क्या कहा था? किस तरह के शब्दों का इस्तेमाल किया था?

कई मुद्दों पर भाजपा और जदयू में मतभेद देखे गए
भाजपा और जदयू दोनों दलों के बीच गत कई महीने से तकरार चल रही है. इन दोनों के बीच कई मुद्दों पर सार्वजनिक रूप से असहमति देखने को मिली थी जिनमें जातीय आधार पर जनगणना, जनसंख्या नियंत्रण कानून और सशस्त्र बलों में भर्ती की नई ‘अग्निपथ’ योजना शामिल हैं. गौरतलब है कि कुमार वर्ष 2017 में राजद और कांग्रेस का साथ छोड़कर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में लौट आए थे.

विधानसभा में बहुमत के लिए 121 एमएलए की जरूरत
भाजपा के साथ तीन बार सरकार बनाने वाले नीतीश कुमार वर्ष 2014 में राजग को छोड़ राजद व कांग्रेस के नए महागठबंधन सरकार में शामिल हो गए थे. प्रदेश की 242 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिए 121 विधायकों की आवश्यकता है. राजद के पास सबसे अधिक 79 विधायक हैं, उसके बाद भाजपा के 77 और जद (यू) के पास 44 विधायक हैं. (इनपुट भाषा से भी)

Tags: Jdu, Nitish kumar, RJD, Tejashwi Yadav

अगली ख़बर