दुश्मनों के परखच्चे उड़ाएगा आर्टिलरी गन सिस्टम, भारतीय सेना कर रही है ट्रायल, देखें VIDEO

इस गन सिस्टम को डीआरडीओ द्वारा विकसित किया गया है. (फोटो साभारः ANI)

इस गन सिस्टम को डीआरडीओ द्वारा विकसित किया गया है. (फोटो साभारः ANI)

Howitzer Advanced Towed Artillery Gun System: डीआरडीओ द्वारा विकसित की गई इस बंदूक को भारतीय सेना (Indian Army) की जरूरत को ध्यान में रखकर बनाया गया है. इस बंदूक के जरिए लगभग 50 किलोमीटर लंबी दूरी पर टारगेट को नष्‍ट किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 6, 2020, 9:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के बाद देश को आत्मनिर्भर भारत का संदेश दिया जा रहा है. तकनीक, उद्योग को बढ़ाने के साथ-साथ भारत रक्षा प्रणाली को भी आत्मनिर्भर बनाने में लगा हुआ है. इसी कड़ी में भारत में निर्मित हॉवित्जर एडवांस्ड टिल्ड आर्टिलरी गन सिस्टम (Howitzer Advanced Towed Artillery Gun System) का ट्रायल किया जा रहा है.

डीआरडीओ द्वारा विकसित की गई इस बंदूक को भारतीय सेना (Indian Army) की जरूरत को ध्यान में रखकर बनाया गया है. इस बंदूक के जरिए लगभग 50 किलोमीटर लंबी दूरी पर टारगेट को नष्‍ट किया जा सकता है. न्यूज एजेंसी ANI ने इस गन के ट्रायल का वीडियो ट्वीट किया है. इस आर्टिलरी गन सिस्टम का ट्रायल महाराष्ट्र के अहमदनगर में किया जा रहा है.



कितनी स्वदेशी है यह बंदूक?
ATAGS को डीआरडीओ के आयुध रिसर्च और ​डेवलपमेंट विभाग ने विकसित किया है और इसका उत्पादन देश की मल्टीनेशनल कंपनी भारत फोर्ज करेगी. इस बंदूक के निर्माण में 95 फीसदी कंटेंट स्वदेशी बताया गया है. बीएफएल के अलावा, महिंद्रा डिफेंस नैवल सिस्टम, टाटा पावर स्ट्रैटजिक और पब्लिक सेक्टर की ऑर्डिनेंस फैक्टरी बोर्ड भी डेवलपमेंट व उत्पादन में पार्टनर हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज