ओडिशा के अस्पताल में कोविड-19 के टीके ‘कोवैक्सिन’ का रोगियों पर परीक्षण शुरू

ओडिशा के अस्पताल में कोविड-19 के टीके ‘कोवैक्सिन’ का रोगियों पर परीक्षण शुरू
ओडिशा में कोवैक्सीन का परीक्षण शुरू किया गया है (सांकेतिक फोटो, AP Photo)

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा चयनित 12 केंद्रों में से एक आयुर्विज्ञान संस्थान और एसयूएम अस्पताल (SUM Hospital) में बहुप्रतीक्षित बीबीवी152 कोविड-19 टीके (BBV152 COVID-19 vaccine) या कोवैक्सिन (Covaxin) का परीक्षण शुरू हो गया है.

  • Share this:
भुवनेश्वर. नए कोरोना वायरस (Novel Coronavirus) के खिलाफ देश में विकसित किये गये (indigenously developed) संभावित टीके कोवैक्सिन (Covaxin vaccine) का सोमवार को यहां के एक संस्थान में इंसानों पर नैदानिक परीक्षण (Clinical Trail) शुरू हो गया है. एक वरिष्ठ अधिकारी (senior officer) ने यह जानकारी दी.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा चयनित 12 केंद्रों में से एक आयुर्विज्ञान संस्थान और एसयूएम अस्पताल (Institute of Medical Sciences and SUM Hospital) में बहुप्रतीक्षित बीबीवी152 कोविड-19 टीके (BBV152 COVID-19 vaccine) या कोवैक्सिन (Covaxin) का परीक्षण शुरू हो गया है. संस्थान के एक अधिकारी ने बताया कि पहले और दूसरे चरण की प्रक्रिया के लिए इन 12 केंद्रों का चयन किया गया है.

कुछ चयनित लोगों को लगाई कई कोवैक्सिन, जो परीक्षण के लिए खुद आगे आये
परीक्षण प्रक्रिया के प्रधान अनुसंधानकर्ता डॉ. ई वेंकट राव ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि भारत बायोटेक द्वारा विकसित की जा रही कोवैक्सिन कुछ चयनित लोगों को लगाई गई जो इस महत्वपूर्ण परीक्षण का हिस्सा बनने के लिये खुद आगे आए थे.
उन्होंने कहा कि टीका लगवाने के लिये आगे आए स्वयंसेवकों को कड़ी जांच प्रक्रिया से गुजरना पड़ा और उन्हें भारत के औषधि महानियंत्रण (Drugs Controller General of India- DCGI) द्वारा तय प्रोटोकॉल का पालन करते हुए यह टीके लगाए गए.



यह भी पढ़ें: PM न करते पहल तो आज हमारे पास नहीं होते राफेल लड़ाकू विमान- रिटायर्ड एयर मार्शल

भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के परीक्षण में शामिल होंगे 500 से ज्यादा वॉलंटियर्स
यह पहले ही बताया जा चुका है कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ विरोलॉजी (NIV) के सहयोग से विकसित भारत बायोटेक (BB) की कोवैक्सीन का परीक्षण 12 अस्पतालों- एम्स, दिल्ली और पटना, और PGI रोहतक सहित 12 शहरों में किया जाएगा. पहले चरण में 500 से अधिक वॉलंटियर्स को शामिल किया जाएगा. ये सभी स्वस्थ और 18 से 55 वर्ष की आयु के बीच के और बिना किसी गंभीर रोग से संक्रमित हुए लोग होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading