हुर्रियत ने कश्मीर पर बातचीत करने की अपील की, फिर से विश्वास बहाल करने के बताए उपाय

हुर्रियत कॉन्‍फ्रेंस के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक ने कश्‍मीर के सभी नए कानून को रद्द करने की मांग की.

हुर्रियत कॉन्‍फ्रेंस (Hurriyat Conference) के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक (Mirwaiz Umar Farooq) ने जम्‍मू-कश्‍मीर में जनसांख्यिकीय परिवर्तन पर रोक लगाने और केंद्र सरकार के सभी कानूनों को रद्द करने को सूचीबद्ध किया है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. कश्‍मीर विवाद (Kashmir Dispute) का हल निकालने के लिए भारत, पाकिस्‍तान और जम्‍मू-कश्‍मीर के बीच बातचीत की वकालत करने वाले अलगाववादी संगठन हुर्रियत कॉन्‍फ्रेंस (Hurriyat Conference) ने भारत सरकार से बातचीत का माहौल बनाने के लिए कई कदम उठाए हैं. जम्मू और कश्मीर (Jammu and Kashmir) से विशेष राज्‍य का दर्जा हटाए जाने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटे जाने के बाद अपने पहले महत्वपूर्ण राजनीतिक बयान में, हुर्रियत कॉन्‍फ्रेंस के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक (Mirwaiz Umar Farooq) ने जम्‍मू-कश्‍मीर में जनसांख्यिकीय परिवर्तन पर रोक लगाने और केंद्र सरकार के सभी कानूनों को रद्द करने को सूचीबद्ध किया है. उन्‍होंने कहा कि जम्‍मू-कश्‍मीर के लिए बनाए गए कानूनों को तुरंत रद्द किया जाना चाहिए, जो घाटी की आवाम को शक्तिहीन करता है. इसके साथ ही उन सभी युवाओं और राजनीतिक कैदियों की रिहाई करनी चाहिए जो कश्‍मीर में शांति और अमन चाहते हैं.

    हुर्रियत कॉन्‍फ्रेंस ने कहा, हमने हमेशा क्षेत्र के सभी लोगों के लिए शांति और विकास की वकालत की है. हमें इस बात का विश्‍वास है कि भारत, पाकिस्तान और जम्मू-कश्मीर के लोगों के बीच बातचीत से कश्‍मीर का हल आसानी से निकाला जा सकता है. गुरुवार को दिए अपने नीतिगत बयान में हुर्रियत कॉन्‍फ्रेंस के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक ने कहा, किसी भी संवाद के लिए आपस में विश्‍वास का माहौल होना पहली आवश्‍यकता है. इसे हासिल करने के लिए सरकार को जनसांख्यिकीय परिवर्तन के सभी उपायों और जम्मू-कश्मीर के लोगों की शक्ति कम करने वाले सभी कानूनों को रद्द करना चाहिए.

    विशेष रूप से अगस्त 2019 से जो भी कश्‍मीरी युवा और सभी राजनीतिक दल से जुड़े सदस्‍य जो जेलों में बंद हैं या फिर घर में नजरबंद हैं, जिसमें हुर्रियत अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक भी शामिल हैं उन्‍हें छोड़ दिया जाना चाहिए.

    इसे भी पढ़ें :- 'कश्मीर में बहाल करेंगे आर्टिकल 370...' बीजेपी ने दिग्विजय सिंह का क्लब हाउस चैट जारी कर साधा निशाना



    बता दें कि हुर्रियत ने 5 अगस्त, 2019 से पहले की स्थिति को बहाल करने की मांग करना बंद कर दिया है. जबकि भारत के साथ बातचीत को फिर से शुरू करने के लिए पाकिस्तान के प्रयासों पर जोर दिया है. हुर्रियत के बड़े नेता ने कहा कि आर्टिकल 370 को बहाल करने की बात करना बेकार है क्‍योंकि उनका ध्यान विवाद के समाधान पर है. उन्‍होंने कहा कि हम इस तरह का कदम लोगों में विश्‍वास की कमी को दूर करने के लिए उठा रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि हमारा पूरा ध्‍यान आर्टिकल 35 ए (जिसने तत्कालीन राज्य के लोगों को भूमि और नौकरियों पर विशेष अधिकार दिया था) पर है. हमारी कोशिश है कि इस पूरे विवाद का कोई हल निकाला जा सके.

    इसे भी पढ़ें :- पाकिस्तान की भारत को धमकी- कश्मीर में कोई कदम उठाया तो क्षेत्रीय शांति-सुरक्षा को होगा खतरा

    हुर्रियत का बयान भारत-पाकिस्तान संबंधों के बीच आई कमी के बाद आया है, जिसका अलगाववादी समूह ने स्वागत किया है. हुर्रियत ने कहा कि अब देखना ये होगा कि इसका असर जम्मू-कश्मीर में किस तरह से दिखाई पड़ता है. हुर्रियत ने केंद्र सरकार की ओर से बनाए गए कानूनों को परेशान करने वाला बताया है और कहा है कि इससे कश्‍मीर के किसी भी विवाद का समाधान नहीं निकलेगा. उन्‍होंने कहा, जनसंख्‍या परिवर्तन के उद्देश्य से कानूनों पारित करने और लागू करने के भारत सरकार के एकतरफा फैसले से जम्मू-कश्मीर के लोगों की पहचान खोने का डर लगातार बढ़ता जा रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.