Home /News /nation /

हैदराबाद के डॉक्टरों ने बनाया रिकॉर्ड, ऑपरेशन कर मरीज की किडनी से निकाले 156 स्टोन

हैदराबाद के डॉक्टरों ने बनाया रिकॉर्ड, ऑपरेशन कर मरीज की किडनी से निकाले 156 स्टोन

डॉक्टरों को इस ऑपरेशन को पूरा करने में करीब तीन घंटे का वक्त लगा. (सांकेतिक तस्वीर)

डॉक्टरों को इस ऑपरेशन को पूरा करने में करीब तीन घंटे का वक्त लगा. (सांकेतिक तस्वीर)

Kidney Operation Record: 50 वर्षीय मरीज के शरीर में ये सफल ऑपरेशन सिर्फ एक छेद के जरिए किया गया. इतनी बड़ी संख्या में किडनी बाहर निकालने के लिए बड़े ऑपरेशन की जरूरत थी लेकिन डॉक्टरों ने लैप्रोस्कोपी और एंडोस्कोपी का इस्तेमाल किया है. लैप्रोस्कोपी और एंडोस्कोपी का इस्तेमाल कर देश में कभी इतनी बड़ी संख्या में स्टोन नहीं निकाले गए. डॉक्टरों ने रिकॉर्ड कायम किया है.

अधिक पढ़ें ...

    हैदराबाद. तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद (Hyderabad) के एक बड़े अस्पताल में करीब तीन घंटे चले ऑपरेशन में डॉक्टरों ने एक मरीज की किडनी से 156 स्टोन (156 Stone) निकाले हैं. बड़ी बात ये है कि 50 वर्षीय मरीज के शरीर में ये सफल ऑपरेशन सिर्फ एक छेद के जरिए किया गया. इतनी बड़ी संख्या में किडनी बाहर निकालने के लिए बड़े ऑपरेशन की जरूरत थी लेकिन डॉक्टरों ने लैप्रोस्कोपी और एंडोस्कोपी (laparoscopy and endoscopy) का इस्तेमाल किया है. लैप्रोस्कोपी और एंडोस्कोपी का इस्तेमाल कर देश में कभी इतनी बड़ी संख्या में स्टोन नहीं निकाले गए. डॉक्टरों ने रिकॉर्ड कायम किया है.

    मरीज अब स्वस्थ अवस्था में है और अपने रेगुलर रूटीन में वापस लौट चुका है. एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मरीज हुबली जिले का रहने वाला है. मरीज का ऑपरेशन हैदराबाद के प्रीती यूरोलॉजी एंड किडनी हॉस्पिटल में हुआ है. मरीज का नाम बसवराज मदीवालार है. वो पेशे से शिक्षक है. स्टोन की शिकायत का उसे तब पता चला था जब एकाएक एक दिन बहुत तेज दर्द हुआ. बाद में टेस्ट में पता चला कि उसकी किडनी में बड़ी मात्रा में स्टोन मौजूद हैं.

    ये भी पढ़ें: शीना बोरा से आरुषि तलवार तक: भारत की 5 ऐसी हत्याएं, जिसने पूरे देश को हिला दिया

    शरीर में किडनी सामान्य जगह पर नहीं है, चुनौतीपूर्ण था ऑपरेशन
    डॉक्टरों ने बताया कि मरीज के शरीर में किडनी सामान्य जगह पर नहीं है. इसे साइंस की भाषा में एक्टोपिक किडनी (ectopic kidney) कहते हैं. ऐसी स्थिति में व्यक्ति के शरीर में किडनी यूरीनरी ट्रैक्ट के पास नहीं होती. मरीज के शरीर में किडनी पेट की तरफ मौजूद है. अस्पताल ने एक स्टेटमेंट में कहा-ऐसी जगह पर मौजूद किडनी से स्टोन निकालना एक चुनौतीपूर्ण काम था. इस मरीज के शरीर में स्टोन कम से कम दो साल से डेवलप हो रहे थे.

    शारीरिक स्थिति को देखते हुए एंडोस्कोपी और लैप्रोस्कोपी का इस्तेमाल किया गया
    स्टेटमेंट कहता है- मरीज को पहले कभी दर्द का एहसास नहीं हुआ था. इसी वजह से उसे पता नहीं चल पाया कि इतनी बड़ी मात्रा में स्टोन उसकी किडनी में बन चुके हैं. जब वो अस्पताल आया तो उसकी पूरी शारीरिक स्थिति जानने के बाद ही ऑपरेशन किया गया. उनकी शारीरिक स्थिति को देखते हुए एंडोस्कोपी और लैप्रोस्कोपी का इस्तेमाल किया गया. जबकि इसके लिए मेजर सर्जरी की जरूरत थी.

    Tags: Hyderabad, Kidney

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर