अपना शहर चुनें

States

GHMC Election: कैब ड्राइवर की बीवी और सिलाई करने वाली महिला लड़ेंगी चुनाव, TDP ने दिया टिकट

कैब ड्राइवर की पत्नी फरहाना बेगमपेट डिवीजन से चुनावी मैदान में हैं. जबकि, सिलाई का काम करने वाली रेखा रामगोपालपेट डिवीजन से चुनाव लड़ रही हैं.
कैब ड्राइवर की पत्नी फरहाना बेगमपेट डिवीजन से चुनावी मैदान में हैं. जबकि, सिलाई का काम करने वाली रेखा रामगोपालपेट डिवीजन से चुनाव लड़ रही हैं.

तेलुगू देशम पार्टी (TDP) ने निकाय चुनाव में पहली बार बेहद बेहद गरीब पृष्ठभूमि की दो महिलाएं फरहाना और रेखा को टिकट दिया है. कैब ड्राइवर की पत्नी फरहाना बेगमपेट डिवीजन से चुनावी मैदान में हैं, जबकि सिलाई का काम करने वाली रेखा रामगोपालपेट डिवीजन से चुनाव लड़ रही हैं. GHMC चुनाव के नतीजे 4 दिसंबर को आएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2020, 10:38 AM IST
  • Share this:
Hyderabad Municipal Election 2020: हैदराबाद में एक दिसंबर को ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (GHMC) के चुनाव होने हैं. तेलुगू देशम पार्टी (TDP) ने निकाय चुनाव में पहली बार मामूली पृष्ठभूमि की दो महिलाएं फरहाना और रेखा को टिकट दिया है. कैब ड्राइवर की पत्नी फरहाना बेगमपेट डिवीजन से चुनावी मैदान में हैं. जबकि, सिलाई का काम करने वाली रेखा रामगोपालपेट डिवीजन से चुनाव लड़ रही हैं. GHMC चुनाव के नतीजे 4 दिसंबर को आएंगे.

न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में फरहाना ने कहा कि अगर वह जीतती हैं तो अपने क्षेत्र में विकास के लिए कड़ी मेहनत करेंगी. फरहाना कहती हैं, 'मैं एक निम्न-मध्यम वर्गीय परिवार से आती हूं. मेरे पति एक कैब ड्राइवर हैं. भाई ऑटोरिक्शा चलाता है. हम मूलभूत सुविधाओं की कमी का सामना कर रहे हैं. हमने पहले अधिकारियों से संपर्क किया था, लेकिन वे हमारी मदद के लिए कभी आगे नहीं आए. मेरे इलाके में बुनियादी सुविधाओं की बहुत समस्या है. इसलिए मैंने चुनाव लड़ने का कदम उठाया.

तेलंगाना BJP अध्यक्ष ने कहा- निकाय चुनाव जीते तो रोहिंग्याओं के खिलाफ करेंगे सर्जिकल स्ट्राइक, ओवैसी ने किया पलटवार



विकास के लिए काम करेंगे- फरहाना
सातवीं पास फरहाना कहती हैं, 'इलाके में अन्य सुविधाओं को छोड़ दो, हमारे यहां तो एक कब्रिस्तान भी नहीं है. हमें पुलिस की अनुमति के साथ अपनों को दफनाने के लिए दूसरे इलाकों में जाना पड़ता है. कई बार अनुमति मिलने में दो-दो दिन की देरी होती है, तब तक मजबूरन लाश को घर पर ही रखना पड़ता है. मेरा भाई सालों से इसके खिलाफ लड़ रहा था. अब जब मुझे चुनाव लड़ने का मौका मिला, तो हम निश्चित रूप से जीतेंगे और विकास के लिए काम करेंगे.'

चुनाव जीतकर जरूरतमंदों की करूंगी मदद- रेखा
वहीं, रामगोपालपेट डिवीजन से टीडीपी उम्मीदवार रेखा कहती हैं, 'मैं खुश हूं कि मुझे चुनाव लड़ने का मौका मिला. अक्सर अमीर ही चुनाव लड़ते हैं और अपनी बेहतरी के लिए चुनाव जीतते हैं. गरीबों या जरूरतमंदों की सेवा के लिए वो ज्यादा कुछ नहीं करते. हमारे घर के सामने ज्यादातर समय सीवेज ओवरफ्लो होता है. हम कई मुद्दों पर लड़ रहे हैं. मुझे खुशी है कि टीडीपी ने मुझे चुनाव लड़ने और जरूरतमंदों की सेवा करने का मौका दिया है.'



Hyderabad में निकाय चुनाव के लिए कल CM Yogi करेंगे रैली 

2016 के ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में किसे मिली थी जीत?
बता दें कि 2016 के ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में टीआरएस ने 150 वार्डों में से 99 वार्ड में जीत दर्ज की थी, जबकि असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM ने 44 जीता था. वहीं, बीजेपी महज तीन ही नगर निगम वार्ड में जीत दर्ज कर सकी थी और कांग्रेस को महज दो वार्डों में ही जीत मिली थी. इस तरह से ग्रेटर हैदराबाद और पुराने हैदराबाद के निगम पर केसीआर और ओवैसी की पार्टी ने कब्जा जमाया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज