Home /News /nation /

हैदराबाद: भारत के पहले बौने शख्स बने शिवलाल, जिन्हें मिला ड्राइविंग लाइसेंस, जानें पूरी कहानी

हैदराबाद: भारत के पहले बौने शख्स बने शिवलाल, जिन्हें मिला ड्राइविंग लाइसेंस, जानें पूरी कहानी

तेलंगाना के गट्टीपल्‍ली शिवपाल की ऊंचाई मात्र 3 फीट के करीब है. ( फाइल फोटो )

तेलंगाना के गट्टीपल्‍ली शिवपाल की ऊंचाई मात्र 3 फीट के करीब है. ( फाइल फोटो )

तेलंगाना राज्‍य के हैदराबाद (Hyderabad) के रहने वाले गट्टीपल्‍ली शिवलाल (Gattipally Shivpal) ऐसे पहले बौने शख्‍स हैं जिनकी हाइट मात्र 3 फीट होने के बावजूद उन्‍होंने भारत में ड्राइविंग लाइसेंस (Driving Licence) हासिल करने में सफलता पाई है. उनकी उम्र 42 साल है. तमाम विषमताओं के बावजूद उन्‍होंने 2004 में अपनी डिग्री पूरी की और ऐसा करने वाले वे अपने जिले के पहले बौने व्‍यक्ति थे. शिवलाल ने कहा कि आज मैं द लिम्‍का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स और कई अन्य के लिए नामांकित हूं. ड्राइविंग की ट्रेनिंग लेने के लिए कई दिव्‍यांगों ने मुझसे संपर्क किया है.

अधिक पढ़ें ...

    हैदराबाद. तेलंगाना राज्‍य के हैदराबाद (Hyderabad) के रहने वाले गट्टीपल्‍ली शिवलाल (Gattipally Shivpal) ऐसे पहले बौने शख्‍स हैं जिनकी हाइट मात्र 3 फीट होने के बावजूद उन्‍होंने भारत में ड्राइविंग लाइसेंस (Driving Licence) हासिल करने में सफलता पाई है. उनकी उम्र 42 साल है. तमाम विषमताओं के बावजूद उन्‍होंने 2004 में अपनी डिग्री पूरी की और ऐसा करने वाले वे अपने जिले के पहले बौने व्‍यक्ति थे. उन्‍होंने कहा कि लोगों को मेरी हाइट को लेकर न जाने क्‍या परेशानी थी कि वे मुझे तंग करते थे, मुझ पर कमेंट्स करते थे. इस कारण से मैंने खुद ड्राइविंग सीखने की कोशिश की और मैं सफल रहा.

    मीडिया से चर्चा में शिवलाल ने कहा कि आज मैं द लिम्‍का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स और कई अन्य के लिए नामांकित हूं. ड्राइविंग की ट्रेनिंग लेने के लिए कई दिव्‍यांगों ने मुझसे संपर्क किया है. इनमें से अधिकतर की हाइट कम है. इसको देखते हुए मैंने अगले साल से शारीरिक रूप से कमजोर लोगों के लिए ड्राइविंग स्‍कूल खोलने का फैसला कर लिया है. शिवलाल एक प्रायवेट संस्‍था में काम करते हैं. उन्‍हें नौकरी पर जाने के लिए बस, टैक्‍सी में काफी दिक्‍कते होती थीं. कभी लोग उन पर कमेंट्स भी करते थे. ऐसे में जब एक वीडियो में उन्‍होंने देखा कि एक बौना अमेरिकी कार ड्राइव कर रहा है तब उन्‍होंने ऐसा करने की ठान ली.

    ये भी पढ़ें :   कर्नाटक के गृह मंत्री ने पुलिसवालों को कहा ‘कुत्ता’, आखिर किस बात से हुए नाराज, VIDEO वायरल

    ये भी पढ़ें :   EXCLUSIVE: ‘सिद्धू के लिए मुझे दरकिनार करना कांग्रेस को पड़ेगा भारी’, कैप्टन अमरिंदर सिंह बोले- राहुल-प्रियंका के आगे सोनिया गांधी बेबस

    120 ड्राइविंग स्‍कूलों ने किया मना, एक दोस्‍त ने सिखाई ड्राइविंग 

    मीडिया से चर्चा में उन्‍होंने बताया कि हैदराबाद में एक ऐसा शख्‍स मिल गया जो डिमांड के आधार पर कारों को कस्‍टम डिजाइन करता है. उन्‍होंने कहा कि अपने हिसाब से कार में कई बदलाव किए. उन्‍होंने बताया कि शहर के 120 ड्राइविंग स्‍कूलों ने अलग-अलग कारण गिनाते हुए मुझे सिखाने से मना कर दिया था. इसके बाद एक दोस्‍त ने मदद की और मुश्किल आसान हो गई.

    गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी नाम 

    अब, शिवलाल के पास तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स तो हैं हीं. उनके नाम बौने श्रेणी में ड्राइविंग लाइसेंस रखने का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड भी है. उनके नो गियर्स ऑटोमैटिक व्हीकल को तेलंगाना सरकार ने मंजूरी दे दी है. शिवलाल ने बताया कि इन दिनों मैं मेरी पत्‍नी को ड्राइविंग सिखा रहा हूं. इसके बाद अन्‍य लोगों को भी आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए शहर में एक विशेष ड्राइविंग स्कूल खोलने की योजना है.

    Tags: Driving Licence, Hyderabad

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर