2007 हैदराबाद बम धमाके: दो दोषियों को मौत की सजा, एक को उम्रकैद

स्‍पेशल एनआईए कोर्ट ने अनीक सैयद और इस्‍माइल चौधरी को मौत की सजा सुनाई है.

News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 6:49 PM IST
2007 हैदराबाद बम धमाके: दो दोषियों को मौत की सजा, एक को उम्रकैद
हैदराबाद में 2007 में बम धमाके हुए थे.
News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 6:49 PM IST
हैदराबाद के दोहरे बम धमाके मामले में कोर्ट ने दो दोषियों को मौत की सजा सुनाई है. स्‍पेशल एनआईए कोर्ट ने अनीक सैयद और इस्‍माइल चौधरी को मौत की सजा सुनाई है. वहीं एक अन्‍य दोषी तारिक अंजुम को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. कोर्ट ने चार सितंबर को हैदराबाद के गोकुल चाट और लुंबिनी पार्क में 2007 में हुए दोहरे बम विस्फोट मामले में दो आरोपियों को दोषी करार दिया है, जबकि दो आरोपियों को बरी कर दिया गया है.

इन बम धमाकों में 44 लोगों की जान चली गई थी और 68 लोग घायल हो गए थे. तेलंगाना पुलिस की काउंटर इंटेलिजेंस शाखा ने मामले की जांच की और पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया था. ये सभी इंडियन मुजाहिदीन के कथित आतंकवादी थे. एजेंसी ने पांचों आरोपियों के खिलाफ चार आरोप-पत्र दायर किए थे और दो फरार आरोपियों रियाज भटकल और इकबाल भटकल को भी नामजद किया था.

कोर्ट ने पिछले सप्‍ताह अनीक और इस्‍माइल को बम धमाकों में दोषी करार दिया था. तेलंगाना पुलिस की काउंटर इंटेलिजेंस शाखा ने मामले की जांच की और पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया था. ये सभी इंडियन मुजाहिदीन के कथित आतंकवादी थे. एजेंसी ने पांचों आरोपियों के खिलाफ चार आरोप-पत्र दायर किए थे और दो फरार आरोपियों रियाज भटकल और इकबाल भटकल को भी नामजद किया था.

अभियोजन पक्ष के मुताबिक, अनीक शफीक सईद ने लुंबिनी पार्क में बम रखा था जबकि गोकुल चाट पर रियाज भटकल ने बम रखा था. वहीं एक और बम इस्माइल चौधरी ने रखा था. तारिक अंजुम पर विस्फोट के बाद अन्य आरोपियों को शरण देने का आरोप था. प्रसिद्ध भोजनालय गोकुल चाट के पास हुए विस्फोट में 32 लोगों की जान चली गई थी और 47 घायल हो गए थे जबकि राज्य सचिवालय से सटे लुंबिनी पार्क के ओपन एयर थिएटर में हुए विस्फोट में 12 लोग मारे गए थे और 21 अन्य घायल हुए थे.

25 अगस्त 2007 को हैदराबाद में एक के बाद एक लगातार दो बम विस्फोट हुए थे. इसमें गोकुल घाट पर हुए एक बम विस्फोट में 32 लोगों की जान गई थी, जबकि लुम्बिनी पार्क में हुए विस्फोट में 10 लोगों ने जान गंवाई थी. इन बन विस्फोटों में 50 से ज्यादा लोग घायल हए थे.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर