Home /News /nation /

hyderabad woman loses baby as doctors leave for function

लेबर पेन में तड़पती महिला को छोड़ डॉक्टर गए शादी की पार्टी में, गर्भ में ही हो गई बच्चे की मौत

परिवार का आरोप है कि समय पर मरीज की देखभाल नहीं होने से गर्भ में ही बच्चे की मौत हो गई. (सांकेतिक तस्वीर)

परिवार का आरोप है कि समय पर मरीज की देखभाल नहीं होने से गर्भ में ही बच्चे की मौत हो गई. (सांकेतिक तस्वीर)

अस्पताल के सूत्रों ने आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि मरीज को समय पर सारी सुविधाएं दी गई और प्रोटोकॉल के अनुसार उचित इलाज किया गया. परिवार का आरोप है कि समय पर मरीज की देखभाल नहीं होने से गर्भ में ही बच्चे की मौत हो गई.

हैदराबाद. शहर के चारेगघाट हॉस्पिटल से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. आरोप है कि डॉक्टर ने एक प्रेग्नेंट महिला को लेबर पेन में तड़पता छोड़ दिया और शादी के एक समारोह में चले गए. लिहाजा गर्भ में ही बच्चे की मौत हो गई. अस्पताल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच की जा रही है.

अंग्रेजी अखबार न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक पुलिस ने कहा कि गोलनाका इलाके का एक ठेकेदार सैयद आरिफ अपनी 24 वर्षीय पत्नी सुरैया फातिमा का इलाज इम्तियाज अस्पताल में करवा रहा था. उसकी डिलीवरी होने वाली थी. शुक्रवार को उसकी तबीयत खराब होने पर आरिफ उसे उसके माता-पिता के यहां ले गया और वहां से वे इलाज के लिए इम्तियाज अस्पताल गए. फातिमा का बीपी असामान्य होने के कारण उसका इलाज कर घर भेज दिया गया. शनिवार को फिर से जब उसने बेचैनी और पीठ में तेज दर्द की शिकायत की तो उसे उसी अस्पताल में ले जाकर डॉक्टर की सलाह पर वहां भर्ती कराया गया.

डॉक्टर कर रहे थे पार्टी!
जैसे ही वह ठीक हो गई, डॉक्टर उसे डिलीवरी के लिए ले गए. बाद में रात के दौरान, उसे प्रसव पीड़ा (लेबर पेन) हुई और उसके परिवार के लोगों ने अस्पताल के कर्मचारियों को इसके बारे में बताया. लेकिन डॉक्टर सहित उनमें से कोई भी अस्पताल परिसर में मौजूद नहीं था. बाद में पता चला कि सभी डॉक्टर और स्टाफ अस्पताल की बिल्डिंग की सबसे ऊपरी मंजिल पर अस्पताल के मालिक की पोती के शादी से पहले हो रहे एक समारोह में पार्टी कर रहे थे. फातिमा के परिवार का आरोप है कि समय पर मरीज की देखभाल नहीं होने से गर्भ में ही बच्चे की मौत हो गई.

हॉस्पिटल का आरोपों से इनकार
हालांकि, अस्पताल के सूत्रों ने आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि मरीज को समय पर सारी सुविधाएं दी गईं और प्रोटोकॉल के अनुसार उचित इलाज किया गया. अस्पताल के मुताबिक मरीज के शरीर में थक्के बन गए और उसकी हालत बिगड़ने लगी. इस पर उसके परिवार के सदस्य भड़क गए और अस्पताल के कर्मचारियों के साथ मारपीट की. पुलिस की मौजूदगी में काफी समझाने के बाद परिजन ऑपरेशन के लिए राजी हुए. फातिमा का ऑपरेशन किया गया और थक्के और भ्रूण को हटा दिया गया. सूत्रों ने कहा कि प्रोटोकॉल के अनुसार मरीज को पोस्ट-ऑपरेटिव देखभाल दी जा रही है और वह अब ठीक हो रही है.

Tags: Hyderabad, Pregnant woman

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर