Good News: बेंगलुरु में दौड़ेगी 1080 KM/hr की स्पीड वाली हाइपरलूप, 10 मिनट में पूरी होगी घंटे भर की दूरी!

अभी बेंगलुुरु के किसी हिस्से से एयरपोर्ट तक जाने में करीब एक घंटे का समय लगता है. (Image- Hyperloop)
अभी बेंगलुुरु के किसी हिस्से से एयरपोर्ट तक जाने में करीब एक घंटे का समय लगता है. (Image- Hyperloop)

हाइपरलूप (Hyperloop) एक कैप्सूल रूपी चुंबकीय ट्रेन है, जो 1000-1300 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ़्तार से दौड़ सकती है. इसके शुरू होने से बेंगलुरु के लोग एयरपोर्ट तक की करीब एक घंटे की दूरी सिर्फ 10 मिनट में पूरी कर पाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 28, 2020, 11:26 AM IST
  • Share this:
बेंगलुरु. कर्नाटक के लोगों के लिए अच्छी खबर है. जल्द ही बेंगलुरु (Bengaluru) से केंपैगौड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Kempegowda International Airport) पहुंचना आसान हो जाएगा. आने वाले दिनों में आप बेंगलुरु के किसी भी हिस्से से एयरपोर्ट तक सिर्फ 10 मिनट में पहुंच जाएंगे. अभी इसमें एक घंटा या इससे थोड़ा ज्यादा समय लगता है. हाइपरलूप टेक्नोलॉजी (Hyperloop technology) से ये संभव हो पाएगा.

The News Minute की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका आधारित वर्जिन द हाइपरलूप ने बेंगलुरु इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (बीआईएएल) के साथ रविवार को प्रस्तावित हाइपरलूप कॉरिडोर (Hyperloop corridor) के लिए व्यवहार्यता अध्ययन (feasibility study) करने के लिए एक MoU साइन कर लिया है. इस स्टडी के प्रत्येक छह महीनों में से दो चरणों में पूरा होने की उम्मीद है. शुरुआती विश्लेषण के मुताबिक,1080 किमी प्रति घंटे की स्पीड के साथ हाइपरलूप ट्रेन एयरपोर्ट से शहर के केंद्र तक प्रति घंटे हजारों यात्रियों को ले जा सकती है. हाइपरलूप एक कैप्सूल रूपी चुंबकीय ट्रेन है, जो 1000-1300 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ़्तार से दौड़ सकती है.

फ्लाइट में बैठने से पहले एयरपोर्ट पर होगा कोविड-19 टेस्ट, देने होंगे इतने रुपये



रिपोर्ट के मुताबिक, बीआईएएल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और मैनेजिंग डायरेक्टर हरि मरार ने कहा, 'बीआईएएल (BIAL) बेंगलुरु एयरपोर्ट को परिवहन हब के रूप में परिवर्तित करके भारत का नया प्रवेश द्वार बनाने की योजना बना रहा है. हम इस ऐतिहासिक कदम को उठाने के लिए उत्साहित हैं, जो कर्नाटक राज्य और क्षेत्र के आर्थिक विकास को उत्प्रेरित कर सकता है. तकनीकी नवाचार विश्व स्तरीय परिवहन केंद्र के निर्माण और उसे बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है. यह अध्ययन एक महत्वपूर्ण कदम है.'
बता दें कि ये MoU तब साइन किया गया जब KIAL 2024 तक एक और टर्मिनल का विस्तार करने की तैयारी कर रहा है. स्थापित सड़क नेटवर्क के अलावा, एयरपोर्ट को जल्द ही कुछ हफ्तों में उप-शहरी (Sub-Urban) रेलवे के साथ जोड़ा जाएगा और चार वर्षों में मेट्रो कनेक्टिविटी भी स्थापित होगी.

Delhi Airport: IndiGo या GoAir की फ्लाइट से ट्रैवल करने से पहले ध्यान दें, होने जा रहा ये बदलाव

रविवार को एमओयू का आदान-प्रदान ऑनलाइन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया गया. इसमें वर्जिन हाइपरलूप के चैयरमेन सुल्तान बिन सुलेयम और कर्नाटक सरकार के मुख्य सचिव और BIAL में निदेशक मंडल के अध्यक्ष टीएम विजय भास्कर, प्रमुख सचिव कपिल मोहन की मौजूदगी में वर्चुअली साइन किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज