हां, मैं टेबल पर चढ़ा और माइक तोड़ दिया, लेकिन ये लोकतंत्र के लिए किया : संजय सिंह

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद ने अमर्यादित व्यवहार की बात स्वीकार की है. (फाइल फोटो)
आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद ने अमर्यादित व्यवहार की बात स्वीकार की है. (फाइल फोटो)

आप सांसद (AAP MP) संजय सिंह (Sanjay Singh) ने अमर्यादित व्यवहार की बात स्वीकार की है. उन्होंने माना है कि वो सदन में टेबल पर चढ़ गए और माइक तोड़ दिया. इसके पीछे उनका तर्क है कि ऐसा उन्होंने लोकतंत्र बचाने (Save the Democracy) के लिए किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2020, 7:12 PM IST
  • Share this:
रूपाश्री नंदा


नई दिल्ली. राज्यसभा (Rajya Sabha) के आठ सांसद कृषि बिल (Farm Bill) के विरोध में अमर्यादित व्यवहार (unruly behaviour) को लेकर निलंबन झेल रहे हैं. आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) भी इनमें से एक हैं. लेकिन दिलचस्प रूप से न्यूज18 से बातचीत में संजय सिंह ने अमर्यादित व्यवहार की बात स्वीकार की है. उन्होंने माना है कि वो सदन में टेबल पर चढ़ गए और माइक तोड़ दिया. इसके पीछे उनका तर्क है कि ऐसा उन्होंने लोकतंत्र बचाने के लिए किया है. उनका कहना है- 'सरकार को इस बिल के लिए माफी मांगनी चाहिए. सरकार लोकतंत्र का गला घोंटना चाहती है.' संजय सिंह के व्यवहार को लेकर न्यूज18 की रूपाश्री नंदा ने बातचीत की है.

'सरकार लोकतंत्र का गला घोंट रही है'
राज्यसभा के सभापति और देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू का कहना है कि अपने अभद्र व्यवहार को लेकर किसी भी सांसद ने माफी नहीं मांगी है. इस पर संजय सिंह का कहना है कि सांसद दिमागी रूप से कमजोर या पागल नहीं हैं. वो देश की संसद के प्रति उत्तरदायी हैं. सांसद इंतजार कर रहे हैं कि सरकार न्याय करेगी और सदन को संविधान और कानून के हिसाब से चलाएगी. देखिए किस तरह के नियम लाए जा रहे है! विपक्षी सांसदों का कहना था कि बिल पर वोटिंग होनी चाहिए लेकिन सरकार इसके लिए तैयार नहीं थी. दरअसल सरकार को शर्मसार होना चाहिए और इस बिल को लेकर देश के किसानों से माफी मांगनी चाहिए.





''हमसे जो कुछ हो सकता था, वो हमने किया'
प्रदर्शन से क्या हासिल हुआ के सवाल पर संजय सिंह ने कहा-अगर सरकार लोकतंत्र का गला घोंटती रहेगी और संविधान के लिए कोई सम्मान नहीं प्रदर्शित करेगी तो हम आखिर क्या कर सकते हैं? हम लोग जो अधिकतम कर सकते थे, वो हमने किया है. अब हम बस किसानों की आंखों में देख कर कह सकते हैं कि जितना विरोध हो सके, उतना कीजिए.

वहीं माफी मांगने की बात पर संजय सिंह कहते हैं कि पहले सरकार को माफी मांगनी चाहिए. इस बिल को वापस लेना चाहिए. सरकार ने एक पाप किया है. (पूरा इंटरव्यू यहां क्लिक कर पढ़ा जा सकता है.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज