Assembly Banner 2021

FTII के 'युधिष्ठिर' बोले: मुझे भी दें काबिलियत दिखाने का मौका!

गजेंद्र चौहान ने कहा है कि उनके बारे में कोई राय बनाने से पहले वह अपनी क्षमता दिखाने का एक मौका पाने के हकदार हैं।

गजेंद्र चौहान ने कहा है कि उनके बारे में कोई राय बनाने से पहले वह अपनी क्षमता दिखाने का एक मौका पाने के हकदार हैं।

गजेंद्र चौहान ने कहा है कि उनके बारे में कोई राय बनाने से पहले वह अपनी क्षमता दिखाने का एक मौका पाने के हकदार हैं।

  • Share this:
नई दिल्लीभारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) के चेयरमैन पद पर अभिनेता व भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्य गजेंद्र चौहान की नियुक्ति की खबर आने पर संस्थान के विद्यार्थियों द्वारा अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाने के बाद चौहान ने कहा है कि उनके बारे में कोई राय बनाने से पहले वह अपनी क्षमता दिखाने का एक मौका पाने के हकदार हैं।

चौहान ने विद्यार्थियों के साथ एक बैठक का आग्रह भी किया और कहा कि किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले मामले पर बैठ कर बातचीत कर लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मेरी पृष्ठभूमि जाने बगैर, मुझे जाने बगैर, मेरी क्षमताओं को जाने बगैर, उन्होंने (विद्यार्थी) अपने से (विरोध करने का) निर्णय लिया है।

चौहान ने  कहा कि मैं उनसे अनुरोध करूंगा कि बातचीत की मेज पर आएं और बातचीत करें। यदि आप अब भी ऐसा ही सोचते हैं तो हम कोई दूसरा विकल्प चुनेंगे। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने मेरे नाम पर निर्णय सोच-विचार कर लिया है। उन्होंने मेरी पृष्ठभूमि और मेरी क्षमताओं को हर हाल में जांचा-परखा होगा। यह सिर्फ मेरे पार्टी (भाजपा) से जुड़े होने के कारण नहीं हुआ है, इसमें अन्य चीजें भी हैं।



संस्थान के विद्यार्थी यह कहते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए कि यह नियुक्ति राजनीति से प्रेरित है। चौहान बी.आर. चोपड़ा द्वारा निर्मित-निर्देशित 'महाभारत' में युधिष्ठिर की भूमिका के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने 'तुमको ना भूल पाएंगे' और 'बागबां' जैसी फिल्मों में छोटी-छोटी भूमिकाएं भी निभाई है।
एक रपट में यह भी कहा गया है कि विद्यार्थियों की परिषद ने किसी दूसरे अध्यक्ष की तत्काल नियुक्ति करने की मांग की है, जो संस्थान के कामकाज के साथ न्याय करने के लिहाज से योग्य हो।

परिषद के अध्यक्ष हरिशंकर नचिमुथू से जब संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें अभी आगे की कार्रवाई पर निर्णय लेना है। नचिमुथू ने बताया कि हम आपस में कुछ चर्चा कर रहे हैं। हम दरअसल रणनीति तैयार कर रहे हैं, क्योंकि संस्थान सोमवार को खुलेगा। आज के बहिष्कार की जरूरत नहीं थी, क्योंकि आज छुट्टी का दिन है।

इस बीच चौहान ने जोर देकर कहा कि वह पिछले 34 वर्षों से मनोरंजन उद्योग का हिस्सा हैं और उन्होंने विद्यार्थियों से आग्रह किया कि उन्हें संस्थान में काम करने दिया जाए। पत्र सूचना कार्यालय ने मंगलवार को जारी एक विज्ञप्ति में चौहान की नियुक्ति की घोषणा की थी।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज