होम /न्यूज /राष्ट्र /मैं वामपंथी और पर्रिकर थे संघी, पर दोस्ती के बीच दीवार नहीं बनी विचारधारा: सुधींद्र कुलकर्णी

मैं वामपंथी और पर्रिकर थे संघी, पर दोस्ती के बीच दीवार नहीं बनी विचारधारा: सुधींद्र कुलकर्णी

गोवा के चार बार मुख्यमंत्री रह चुके मनोहर पर्रिकर का 63 साल की उम्र में रविवार शाम निधन हो गया. (फाइल)

गोवा के चार बार मुख्यमंत्री रह चुके मनोहर पर्रिकर का 63 साल की उम्र में रविवार शाम निधन हो गया. (फाइल)

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के पूर्व सलाहकार और बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव सुधींद्र कुलकर्णी ने मनोहर पर्रिकर क ...अधिक पढ़ें

    मनोहर पर्रिकर और मैं 1970 के दशक के मध्य में आईआईटी बॉम्बे में एक साथ पढ़े थे. वह वहां मेरे सीनियर थे और हम लोग एक ही होस्टल में रहा करते थे. होस्टल में मेरा कमरा नंबर दो था, जबकि पर्रिकर कमरा नंबर चार में रहते थे. यह बस एक ब्लॉक दूर था.

    आईआईटी कैंपस में पर्रिकर काफी लोकप्रिय थे. सभी लोग उन्हें जानते थे. उनके संगठनात्मक कौशल और क्षमताओं का हर कोई कायल था. वह आईआईटी की सभी अकादमिक और राजनीतिक गतिविधियों का हिस्सा थे.

    मनोहर पर्रिकर का आज शाम होगा अंतिम संस्कार- Live Updates

    विचारधारा के लिहाज से मैं और पर्रिकर एक दूसरे से बिल्कुल उलट थे. मैं मार्क्सवादी था और पर्रिकर आरएसएस के कट्टर समर्थक. हम आपस खूब वाद-विवाद किया करते थे, लेकिन कभी भी यह हमारी दोस्ती के बीच नहीं आया.

    ये भी पढ़ें- गोवा में गहराया राजनीतिक संकट, नए CM पर नहीं बन रही सहमति

    1977 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल वापस ले लिया, जिसके बाद लोकसभा चुनावों की घोषणा हुई. उस वक्त डॉ. सुब्रमण्यम स्वामी जनता पार्टी के टिकट बॉम्बे में हमारे क्षेत्र से खड़े हुए, तब पर्रिकर और मैंने उनके लिए मिलकर चुनाव प्रचार किया. मैंने मार्क्सवादी के तौर पर और उन्होंने आरएसएस समर्थक के रूप में प्रचार अभियान चलाया. हम लोग तब काफी उत्साह में थे और पोवई और उसके आसपास हफ्तों तक चुनाव प्रचार किया.

    आईआईटी के बाद भी पर्रिकर और मैं संपर्क में रहे. वर्ष 1997 में मैं पर्रिकर की पार्टी बीजेपी से जुड़ गया. गोवा जैसे छोटे से राज्य से होने के बावजूद वह तभी पार्टी में काफी लोकप्रिय और मजबूत नेता बन चुके थे.

    गोवा सहित पूरे भारत के लिए उनके पास एक बड़ा विजन था. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा आयोजित मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में मनोहर स्टार स्पीकर थे. उनके पास बहुत से विचार थे. मैं उन्हें बहुत पहले से जानता था और यह मेरे लिए कोई चौंकाने वाली बात नहीं थी.

    2013 में बीजेपी छोड़ने से पहले तक पार्टी में हम दोनों मिलकर काम करते रहें. पार्टी पॉलिटिक्स हमारी दोस्ती के बीच कभी नहीं आई और यह उनके निधन तक चलती रही.

    (पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के पूर्व सलाहकार और बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव सुधींद्र कुलकर्णी ने मनोहर पर्रिकर को कुछ यूं याद किया)

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: BJP, Goa, IIT, Manohar parrikar, Narendra modi

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें