MI-17 हेलीकॉप्टर क्रैश: अंतिम चरण में जांच, 2 IAF अधिकारियों का हो सकता है कोर्ट मार्शल

पाकिस्‍तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा की गई एयर स्‍ट्राइक के बाद 27 फरवरी को पाकिस्‍तान ने जवाबी कार्रवाई की कोशिश की थी.

News18Hindi
Updated: June 9, 2019, 9:27 PM IST
MI-17 हेलीकॉप्टर क्रैश: अंतिम चरण में जांच, 2 IAF अधिकारियों का हो सकता है कोर्ट मार्शल
हेलीकॉप्‍टर क्रैश के बाद की तस्‍वीर (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
News18Hindi
Updated: June 9, 2019, 9:27 PM IST
श्रीनगर के पास 27 फरवरी को भारतीय वायुसेना के क्रैश हुए हेलीकॉप्‍टर एमआई-17 की जांच अब आखिरी चरण में पहुंच गई है. इस हादसे में हेलीकॉप्‍टर में मौजूद सभी 6 लोगों की मौत हो गई थी. एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में गंभीर चूक के कारण वायुसेना के दो अधिकारियों का कोर्ट मार्शल भी किया जा सकता है.

पाकिस्‍तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा की गई एयर स्‍ट्राइक के बाद 27 फरवरी को पाकिस्‍तान ने जवाबी कार्रवाई की कोशिश की थी. जिसके बाद श्रीनगर के पास भारतीय वायुसेना का हेलीकॉप्‍टर एमआई- 17 क्रैश हो गया था.

हालांकि जांच पूरी होने के बाद ही मामले की सच्‍चाई सामने आएगी. एएनआई रिपोर्ट्स के अनुसार, एमआई-17 हेलीकॉप्‍टर को श्रीनगर में तैनात वायु सेना के डिफेंस सिस्‍टम स्‍पाइडर ने ही गलती से हिट कर दिया था. जिसके कारण हेलीकॉप्‍टर क्रैश हो गया था.

एएनआई की रिपोर्ट्स में ऐसा भी कहा जा रहा है कि एयर कॉमोडोर रैंक के अधिकारी की देखरेख में चल रही कोर्ट ऑफ इक्‍क्‍वॉयरी की प्रक्रिया भी पूरी हो गई है. लेकिन आरोपी अधिकारियों ने और सबूतों की मांग की है, जिसके कारण जांच पूरी होने में समय लग रहा है.

ये भी पढ़ें: एक स्कूल में की पढ़ाई, एक साथ बने सेना में अफसर, यहां पढ़ें इन जुड़वा भाइयों की कहानी

सूत्रों के अनुसार, इस पूरे मामले में दो अधिकारियों की भारी चूक सामने आई है. जो हेलीकॉप्‍टर क्रैश का कारण था. श्रीनगर में उस दिन यही दोनों अधिकारी एयर डिफेंस सिस्‍टम को कंट्रोल कर रहे थे. ऐसा भी कहा जा रहा है कि दोषी पाए जाने वाले लोगों के लिखाफ सख्‍त कार्रवाई की जा सकती है.



क्या है मामला?

बता दें कि एमआई-17 हैलीकॉप्टर क्रैश के मामले में कोर्ट ऑफ इन्क्यॉरी चल रही है. पिछले महीने एक आदेश जारी कर श्रीनगर एयर बेस के सीनियर ऑफिसर का इसी जांच के मद्देनज़र ट्रांसफर कर दिया गया था. 27 फरवरी को जब आसमान में भारत और पाकिस्तान के जेट एक दूसरे के खिलाफ गरज रहे थे तो उस वक्त रूस निर्मित एमआई-17 हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया था और इसमें सवार छह लोग मारे गए थे.



इससे एक दिन पहले ही भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्म्मद के आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर पर हवाई हमला किया था. बता दें कि इस हैलीकॉप्टर का ब्लैक बॉक्स भी अभी तक बरामद नहीं हो सका है. वायुसेना ने शक जताया है कि जिस गांव में ये हैलीकॉप्टर क्रैश हुए वहीं के स्थानीय लोगों ने इसे चुरा लिया है.

क्या वायुसेना ने खुद ही उड़ा दिया हैलीकॉप्टर?

पाकिस्तानी वायुसेना ने 27 फरवरी को कश्मीर में भारतीय सेना के प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने की असफल कोशिश की थी. सूत्रों ने बताया कि कोर्ट ऑफ इनक्वायरी के तहत खासकर कई लोगों की भूमिका की जांच हो रही है, जिनमें वे लोग भी हैं जिनके हाथों में एयर डिफेंस सिस्‍टम का नियंत्रण था. हेलीकॉप्टर सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइल का निशाना बना था.

IAF Mi-17 crash, Probe in final stage, 2 officers likely to face court martial, एमआई-17 क्रैश, दो अधिकारियों का हो सकता है कोर्ट मार्शल

ये भी पढ़ें: देश को मिले 382 जांबाज अफसर, PHOTOS में देखें IMA पासिंग आउट परेड 2019

वायुसेना कोर्ट ऑफ इनक्वायरी की रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई करेगी जिसमें दोषी को गैर इरादतन हत्या का आरोपी भी बनाया जा सकता है. कोर्ट ऑफ इनक्वायरी में इसकी भी जांच की जा रही है कि हेलीकॉप्टर पर आइडेंटिफिकेशन ऑफ फ्रेंड और फो (आईएफएफ) तंत्र बंद तो नहीं था? ईएफएफ वायुसेना के रडारों को इसकी पहचान में मदद करता है कि कोई विमान या हेलीकॉप्टर अपना है या किसी दुश्मन का.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 9, 2019, 8:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...