देश की 'सांस' थामते वायुदूत, 8.5 लाख मील का सफर तय कर पहुंचाई ऑक्सीजन और वेंटिलेटर

देश में मेडिकल सप्लाई पहुंचाने में लगातार जुटी है वायुसेना.

देश में मेडिकल सप्लाई पहुंचाने में लगातार जुटी है वायुसेना.

कोरोना से जंग लड़ने में देश के वैज्ञानिकों और डॉक्टरों के साथ-साथ भारतीय सेना भी दिन-रात मेहनत कर रही है. विदेशों से मेडिकल सप्लाई लाने और उन्हें देश के अलग-अलग राज्यों तक पहुंचाने में वायुसेना लगातार जुटी हुई है. सेना के तीनों अंग इस वक्त महामारी से देश को उबारने में हमारी सबसे बड़ी ताकत बने हुए हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना के खिलाफ जंग में भारतीय वायुसेना भी लगातार जुटी हुई है. चाहे ऑक्सीजन सिलेंडर और कंसंट्रेटर पहुंचाने की बात हो, या फिर मेडिकल उपकरण एक जगह से दूसरी जगह तक ले जाना, भारतीय वायुसेना देश की ताकत बनकर खड़ी है. इसी कड़ी में वायुसेना के एयक्राफ्ट्स ने कुछ ही घंटों में 11 हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर को देश के अलग-अलग हिस्सों में मरीजों की मदद के लिए पहुंचाया. ये ऑक्सीजन कंसंट्रेटर विदेशों से देश के उन मरीजों के लिए मंगाए गए थे, जिन्हें कोविड संक्रमण के दौरान सांस लेने में तकलीफ हो रही है.

कोविड एयर सपोर्ट मैनेजमेंट सेल ने पालम में अपना एयरबेस बना रखा है. यहां विदेशों से लाए जा रहे मेडिकल सपोर्ट को वायुसेना कुछ ही घंटों के अंदर ज़रूरतमंद लोगों तक पहुंचा रही है. यहां से 2950 वेंटिलेटर्स को भी अलग-अलग राज्यों में पहुंचाया गया है, जबकि दूसरे देशों से भेजे गए 672 टन मेडिकल ऑक्सीजन को भी देश के उन हिस्सों तक वायुसेना के सैनिक पहुंचा चुके हैं, जहां इनकी आवश्यकता है. भारतीय वायुसेना ने 700 ऑक्सीजन कंटेनर्स और टैंकर्स लाने-ले जाने के लिए अब तक 8.5 लाख मील का सफर कर लिया है. ये सफर ज्यादातर दूसरे देशों से भारत तक ऑक्सीजन सप्लाई पहुंचाने के लिए किया गया है.

Youtube Video

ये भी पढ़ें- आरोग्य सेतु बताएगा Corona Vaccination का भी स्टेटस, अपग्रेड हुआ ऐप
वायुसेना के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया- सेना के C-130J सुपर हरक्यूलस और एंटोनोव-32 ट्रांसपोर्ट प्लेन 700 घंटे काम करने के बाद देश में 11 हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और 7000 ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचा चुके हैं, ताकि देश के अहम शहरों में इसकी आपूर्ति की जा सके. वायुसेना ने मित्र देशों की ओर से भेजे गए 6450 ऑक्सीजन सिलेंडर भी लाने का काम किया है.

विदेशों से आ रहे मेडिकल उपकरणों और सहायता को सरकार की ओर से बनाई गई वरिष्ठ अधिकारियों की एक समिति के निर्देशानुसार उचित जगहों पर आवंटित किया जा रहा है. आंकड़ों के मुताबिक अब तक विदेशों से भारत में 2950 वेंटिलेटर्स आ चुके हैं. इनमें से सबसे ज्यादा 670 वेंटिलेटर केरल पहुंचे हैं, जबकि कर्नाटक में 400 वेंटिलेटर्स भेजे गए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज