Home /News /nation /

आइसक्रीम, मुफ्त लंच, बारबेक्यू, बोनस... दफ्तर वापसी के लिए कर्मचारियों को कैसे-कैसे प्रलोभन दे रही हैं कंपनियां

आइसक्रीम, मुफ्त लंच, बारबेक्यू, बोनस... दफ्तर वापसी के लिए कर्मचारियों को कैसे-कैसे प्रलोभन दे रही हैं कंपनियां

कोरोना महामारी के दौरान पूरी दुनिया में घर से काम करने का चलन तेजी से बढ़ा है. (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना महामारी के दौरान पूरी दुनिया में घर से काम करने का चलन तेजी से बढ़ा है. (सांकेतिक तस्वीर)

Coronavirus Work From Office: दुनिया के कई बड़े शहरों में कंपनियों ने अपने स्टाफ को वापस दफ्तर बुलाना शुरू कर दिया है. खासतौर पर उन्हें जो वैक्सीन के दोनों डोज लगवा चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली. खुली छत पर तंदूरी खाना, मुफ्त लंच, आइसक्रीम और ना जाने क्या क्या… कंपनियां अपने कर्मचारियों को वापस दफ्तर बुलाने के लिए तमाम तरह के लालच देने में जुटी हुई हैं. कोरोना के आने के बाद से ही लगभग दुनिया के हर कोने में कर्मचारी घर से काम कर रहे हैं, और धीरे धीरे इसे न्यू नॉर्मल कहा जाने लगा है.

    महामारी फिर से नई लहर और म्यूटेशन के खतरे के साथ मुंह उठाने और सब कुछ अस्थिर करने में लगी हुई है. लेकिन दुनिया के कई बड़े शहरों में कंपनियों ने अपने स्टाफ को वापस दफ्तर बुलाना शुरू कर दिया है, खासतौर पर उन्हें बुलाया जा रहा है जिन्हें वैक्सीन के दोनों डोज लग चुके हैं.

    काबुल में ‘पाकिस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लगा रहे थे प्रदर्शनकारी, तालिबान ने बरसाई गोलियां

    गार्डियन में छपी खबर के मुताबिक यूके की एक पेशेवर सेवा फर्म पीडब्ल्यूसी ने अपने 22000 कर्मचारियों को एक बहुत ही लुभावना प्रस्ताव दिया है. जिसके तहत अगर कर्मचारी हायब्रिड माहौल जहां हफ्ते में दो से तीन दिन दफ्तर आना होगा, को चुनते हैं तो उन्हें इस महीने अतिरिक्त 1000 पाउंड दिए जाएंगे.

    अफगानिस्तान के कॉलेजों में शुरू हुई पढ़ाई, लड़कों के साथ ऐसे पढ़ाई करती दिखी लड़कियां

    यूएस बैंक गोल्डमैन सैश ने अपने लंदन के प्लमट्री स्थित दफ्तर के कर्मचारियों को प्रस्ताव दिया है कि अगर वो दफ्तर आते हैं तो उन्हें नाश्ता, लंच और साथ ही दोपहर के वक्त हैक्ने जिलेटो आइसक्रीम दी जाएगी. वहीं वॉलस्ट्रीट की एक संस्था ने अपने 6000 कर्मचारियों को जिम फीस, स्टाफ के लिए रूफटॉप खुलवाने और स्टाफ के बच्चों के लिए दफ्तर में ही देखभाल की व्यवस्था का प्रस्ताव दिया है.

    हिंद प्रशांत क्षेत्र में चीन के बढ़ते दबदबे के बीच टोक्यो पहुंचा ब्रिटेन का विशाल एयरक्राफ्ट

    न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित खबर के अनुसार निवेश कंपनी न्यूवीन अपने दफ्तर का कायाकल्प कर रही है और उसे इस तरह तैयार करने में जिससे कर्मचारियों का प्रकृति से जुड़ाव बना रहे. इसके लिए कंपनी ने 12 करोड़ डॉलर खर्च किये हैं. कुल मिलाकर दुनियाभर की कंपनियां वो सारे तरीके आजमा रही हैं जो वो आजमा सकती हैं. वहीं कुछ कंपनियों ने अपने दफ्तर की जगह को कम कर दिया है और अब उनके कर्मचारी घर से काम करने पर जोर देते हुए दफ्तर आने पर सवाल खड़ा कर रहे हैं. वहीं अमेजन, एप्पल और फेसबुक जैसी संस्थाओं ने डेल्टा वेरियंट के फैलने को देखते हुए अपने कर्मचारियों को दफ्तर बुलाने की योजना को अगले साल तक टाल दिया है.

    पाकिस्तान के राष्ट्रपति ने फिर अलापा ‘कश्मीर राग’, बोले-घाटी के लोगों का करते रहेंगे समर्थन

    विशेषज्ञों का मानना है कि संगठन के लिए ये बहुत अहम वक्त है और उन्हें कोई भी योजना कर्मचारियों को केंद्र में रखकर बनानी चाहिए ताकि जिससे उन्हें दीर्घावधि तक लाभ मिले. जबर्दस्ती बुलाने जैसी बात अब ज्यादा वक्त तक नहीं चलने वाली है. क्योंकि कइयों के पास दूसरे मौके हैं जिसमें घर बैठकर काम करने का विकल्प भी शामिल है, इसलिए नियोक्ताओं का बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है. वैसे भी महामारी के बाद कर्मचारी और नियोक्ता के रिश्तों में बहुत बड़ा बदलाव आ चुका है.

    भारत के क्या हाल हैं
    इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक सॉफ्टवेयर कंपनी जोहो के इस साल जुलाई में किए हुए सर्वेक्षण के मुताबिक 95 फीसद भारतीय फर्म आने वाले दो सालों तक घर से काम जारी रखने की योजना बना रही हैं. हालांकि कुछ ऐसे भी हैं जो जोखिम उठाने को तैयार हैं, मसलन भारत की शीर्ष आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विस ने अपने करीब 5 लाख कर्मचारियों से साल के अंत तक दफ्तर लौटने को कहा है.

    टीसीएस के सीईओ राजेश गोपीनाथन ने अखबार को जानकारी देते हुए बताया कि कंपनी साल के अंत तक 70 से 80 फीसद कर्मचारियों को वापस बुलाने की योजना बना रही है. लेकिन ये सब कुछ तीसरी लहर पर निर्भर करता है. वहीं इन्फोसिस और विप्रो जैसी कंपनी अपने कर्मचारियों को वापस बुलाने की योजना बना रही है उधर एप्पल हायब्रिड तरीके को अपनाने की जुगत में है.

    Tags: Coronavirus, Work From Home

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर