ICMR ने कहा- संक्रमण फैलने से रोकने के लिए कोविड-19 की जांच में लानी होगी तेजी

आईसीएमआर के मुताबिक 22 जून तक 71,37,716 नमूनों की जांच की गई है
आईसीएमआर के मुताबिक 22 जून तक 71,37,716 नमूनों की जांच की गई है

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामलों के बीच भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research) ने टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 23, 2020, 11:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के 14,933 नये मामले सामने आने के बाद मंगलवार को कुल संक्रमितों की संख्या 4,40,215 हो गई है. वहीं, 312 और लोगों की मौत के साथ ही मृतक संख्या 14,011 पर पहुंच गई है. देश में बढ़ते मामलों के बीच भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research) ने टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए हैं. आईसीएमआर (ICMR) ने सभी संबंधित राज्य सरकारों, सार्वजनिक और निजी संस्थानों/अस्पतालों को कोविड-19 की जांच (Covid-19 testings) को बढ़ाने के लिए आवश्यक कदम उठाने की सलाह दी है. आईसीएमआर ने कहा कि जांच बढ़ाने के लिए विभिन्न परीक्षणों के संयोजन को लागू किया जा सकता है जिसमें रीयल-टाइम RT-PCR, रैपिड एंटीजन परीक्षण और सेरोस्वेरी के लिए एंटीबॉडी परीक्षण शामिल हैं.

आईसीएमआर ने मंगलवार को एक आदेश जारी कर कहा कि क्योंकि टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट ही कोरोना वायरस को फैलने से रोकने और लोगों की जान बचाने का उपाय है, ऐसे में ये अनिवार्य है कि देश के सभी हिस्सों में लक्षणों वाले सभी लोगों की जांच की जाए और संक्रमण को रोकने के लिए ऐसे लोगों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग अच्छे से की जाए. भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के मुताबिक 22 जून तक 71,37,716 नमूनों की जांच की गई है कोविड-19 की जांच करने वाली प्रयोगशालाओं की संख्या बढ़ कर 992 हो गई है. आईसीएमआर के इसी निर्देश के बाद बीएमसी (BMC) ने भी मिशन यूनिवर्सल टेस्टिंग प्रोग्राम लॉन्च करने की घोषणा की है जिसमें कि कुछ तय लोग खुद ही जांच कर सकेंगे.





भारत में प्रति लाख में एक व्यक्ति की मौत
वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 से भारत में प्रति एक लाख आबादी में एक व्यक्ति की मौत हुई है, जबकि इसका वैश्विक औसत 6.04 है. साथ ही, मंत्रालय ने देश में इस महामारी से होने वाली मौत की दर कम रहने का श्रेय मामलों का समय पर पता लगाये जाने, संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आये लोगों का व्यापक स्तर पर पता लगाने और कारगर चिकित्सा प्रबंध को दिया है.

मंत्रालय के मुताबिक मंगलवार सुबह आठ बजे तक (पिछले 24 घंटे में) 312 संक्रमित व्यक्तियों की मौत होने के साथ आज तक, भारत में कोरोना वायरस संक्रमण से कुल 14,011 लोगों की मौत हुई है. वहीं, संक्रमण के 14,933 नये मामले आने के साथ कुल आंकड़ा बढ़ कर 4,40,215 पहुंच गया है.

भारत में रिकवरी रेट 56.38 प्रतिशत
विश्व स्वास्थ्य संगठन की 22 जून की स्थिति रिपोर्ट 154 का जिक्र करते हुए मंत्रालय ने कहा कि कोविड-19 से ब्रिटेन में प्रति एक लाख आबादी पर 63.13, स्पेन में 60.60, इटली में 57.19, अमेरिका में 36.30, जर्मनी में 27.32, ब्राजील में 23.68 और रूस में 5.62 मौत दर्ज की गईं. मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘भारत में, मामलों का शुरुआत में ही पता लगाये जाने, समय पर जांच करने एवं निगरानी रखने, संक्रमित मरीजों के संपर्क में आये लोगों का पता लगाने तथा कारगर चिकित्सा प्रबंध ने मृत्यु दर को नियंत्रित करने में मदद की है.’’

मंत्रालय ने कहा कि यह कोविड-19 से एहतियात बरतने और इसके प्रसार को रोकने के लिये राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के साथ मिल कर केंद्र द्वारा क्रमिक और सक्रियता से उठाये गये कदमों को भी प्रदर्शित करता है. मंत्रालय ने कहा, इस रोग से मरीजों के उबरने की दर आज की तारीख में 56.38 प्रतिशत है. (भाषा के इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज