ICMR की राज्यों से अपील, कोरोना की एंटीजन टेस्ट की संख्या बढ़ाएं

ICMR की राज्यों से अपील, कोरोना की एंटीजन टेस्ट की संख्या बढ़ाएं
आईसीएमआर ने कंटेनमेंट ज़ोन और अस्पतालों में कोरोना के मरीजों का तुरंत पता लगाने के लिए एंटीजन-आधारित टेस्ट की की सलाह दी थी (फोटो-AP)

ICMR के डायरेक्टर जनरल डॉक्टर बलराम भार्गव ने कहा कि एंटीजन जांच (Antigen Testing) को लेकर आईसीएमआर को सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनिया, छोटे निजी और सरकारी संस्थानों, मंदिरों से कई अनुरोध मिले हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. देशभर में इन दिनों कोरोना (Coronavirus) के रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं. औसतन हर रोज़ 30 हज़ार से ज्यादा नए केस देखने को मिल रहे हैं. देश भर में मरीजों की कुल संख्या 10 लाख को पार कर गई है. इस बीच भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने सभी राज्यों से कहा है कि वो अपने-अपने जिलों में कोविड-19 की एंटीजन टेस्ट की संख्या में तेजी लाएं. ICMR के मुताबिक पीएसयू, सरकारी और प्राइवेट संस्थानों की तरफ से टेस्ट कराने की मांग की जा रही है.

ICMR ने लिखी चिट्ठी
कोरोना टेस्ट की संख्या बढ़ाने को लेकर ICMR के डायरेक्टर जनरल डॉक्टर बलराम भार्गव ने सभी राज्यों को चिट्ठी लिखी है. उन्होंने इस तरह के जांच के आंकड़े आईसीएमआर की पोर्टल पर भी अपलोड करने का आदेश दिया है, जिससे कि मरीजों के आइसोलेशन और इलाज पर तुरंत ध्यान दिया जा सके. उन्होंने लिखा है, 'एंटीजन टेस्ट के जरिए ज्यादा से ज्यादा टेस्ट हो रहे हैं. ऐसे में एंटीजन जांच के सभी केंद्र आरटी-पीसीआर जांच केंद्र से जुड़े होने चाहिए.'

 एंटीजन टेस्ट की भारी मांग
भार्गव ने कहा कि एंटीजन जांच को लेकर आईसीएमआर को सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनिया, छोटे निजी और सरकारी संस्थानों, मंदिरों से कई अनुरोध मिले हैं. उन्होंने कहा कि सुरक्षित स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए सभी सरकारी अस्पताल, लैब और एनएबीएच या एनएबीएल मान्यता प्राप्त सभी प्राइवेट अस्पताल और लैब एंटीजन जांच शुरू कर सकते हैं . साथ ही उन्हें आईसीएमआर पोर्टल पर डाटा एंट्री लॉगिन के लिए आवेदन करना होगा. राज्यों से एक नॉडल ऑफिसर भी नियुक्त करने को कहा गया है जो ICMR से सीधे बात करे और ये सुनिश्चित करे कि टेस्ट के सारे मांपदड पूरे हो रहे हों.



 एंटीजन टेस्ट बेहद अहम
आईसीएमआर ने कंटेनमेंट ज़ोन और अस्पतालों में कोरोना के मरीजों का तुरंत पता लगाने के लिए एंटीजन-आधारित टेस्ट की की सलाह दी थी. बता दें कि दक्षिण कोरियाई कंपनी, एसडी बायोसेंसर द्वारा पहली किट 14 जून को ICMR और दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) द्वारा संयुक्त रूप से भारत में उपयोग के लिए मान्य की गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज