अपना शहर चुनें

States

अच्छी खबर: ICMR प्रमुख का दावा- ब्रिटेन में मिले स्ट्रेन के खिलाफ कोवैक्सीन है कारगर

आईसीएमआर प्रमुख बलराम भार्गव ने कोवैक्सीन पर भरोसा जताया है. (फाइल फोटो: AP)
आईसीएमआर प्रमुख बलराम भार्गव ने कोवैक्सीन पर भरोसा जताया है. (फाइल फोटो: AP)

Covid-19 Update: डॉक्टर बलराम भार्गव ने कहा, 'यह बहुत ही आश्वस्त करने वाली खबर है कि इस वैक्सीन से यूके वैरिएंट का सामना किया जा सकता है.' उन्होंने बताया कि दुनियाभर में वायरस के कई वैरिएंट्स नजर आ रहे हैं, लेकिन मौजूदा समय में भारत में एक यही वैरिएंट है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 6:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को लेकर देश में चिंता बढ़ गई थी. इसी बीच इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के महासचिव डॉक्टर बलराम भार्गव (Balram Bhargava) ने राहत की खबर दी है. उन्होंने बताया है कि भारत बायोटेक (Bharat Biotech) में बनकर तैयार हुई कोवैक्सीन (Covaxin) के जरिए वायरस के इस नए स्ट्रेन का सामना किया जा सकता है. उन्होंने बताया कि देश में अब तक नए स्ट्रेन के 164 मामले सामने आ चुके हैं.

प्रेस ब्रीफिंग के दौरान बलराम भार्गव ने कहा, 'हम यह जानना चाहते थे कि मौजूदा वैक्सींस यूके स्ट्रेन (UK Corona Virus Strain) पर काम कर रहीं या नहीं. कुछ अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट्स थीं, जिनमें कहा गया था कि कुछ वैक्सीन कारगर हैं. हमने कोवैक्सीन पाने वाले मरीजों के डेटा पर गौर किया.' उन्होंने बताया कि मरीजों का खून लेकर उसमें से सीरम निकाला गया और कल्चर्ड वायरस के साथ टेस्ट किया गया.

आईसीएमआर प्रमुख ने कहा, 'हमने पाया कि भारत में सर्कुलेट हो रहे स्ट्रेन के तरह ही यूके का स्ट्रेन भी बेअसर हुआ.' उन्होंने कोवैक्सीन पर भरोसा जताया है. डॉक्टर भार्गव ने कहा, 'यह बहुत ही आश्वस्त करने वाली खबर है कि इस वैक्सीन से यूके वैरिएंट का सामना किया जा सकता है.' उन्होंने बताया कि दुनियाभर में वायरस के कई वैरिएंट्स नजर आ रहे हैं, लेकिन मौजूदा समय में भारत में एक यही वैरिएंट है.



यह भी पढ़ें: फाइजर-बायोटेक का दावा, कोरोना के नए वेरिएंट पर भी असर करेगी उनकी कोविड वैक्सीन
प्रेस ब्रीफिंग के दौरान उन्होंने बताया कि ब्रिटेन में मिला स्ट्रेन दुनिया के 70 देशों तक पहुंच गया है. उन्होंने कहा, 'भारत में हमने इसके 164 मामलों की पहचान की है. 22-23 दिसंबर को हमने यूके वैरिएंट का पहला मामला खोज लिया था.' खास बात है कि ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन की वजह से कई देशों में हड़कंप मच गया था. एक्सपर्ट्स इस नए स्ट्रेन को 70 फीसदी ज्यादा संक्रामक बता रहे थे.

वहीं, भारत में वैक्सीन प्रोग्राम भी पूरी रफ्तार से जारी है. गुरुवार को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने ने कहा, 'आज दोपहर 2 बजे तक प्राप्त डेटा के अनुसार, 25 लाख से ज्यादा वैक्सीन डोज अब तक लगा दिए गए हैं. सक्रिय मामलों की संख्या कम हो रही है. देश में फिलहाल 1 लाख 75 हजार एक्टिव मामले हैं.' उन्होंने जानकारी दी कि देश में कोरोना के मामलों में और गिरावट देखी जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज