• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Coronavirus Third Wave: कोरोना की दूसरी लहर ने जिन जिलों में बरपाया कहर, वहां कम घातक होगी तीसरी लहर: ICMR

Coronavirus Third Wave: कोरोना की दूसरी लहर ने जिन जिलों में बरपाया कहर, वहां कम घातक होगी तीसरी लहर: ICMR

देश में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका बनी हुई है. (Pic- AP)

देश में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका बनी हुई है. (Pic- AP)

Covid 19 in India: आईसीएमआर के मुता‍बिक जिन जिलों में दूसरी लहर के दौरान कम कहर दिखा, उन जिलों में अधिक लोग अतिसंवेदनशील होंगे.

  • Share this:

    नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर ने काफी कोहराम मचाया था. इस लहर के दौरान बड़ी संख्‍या में लोगों की मौत हुई है. ऐसे में अब विशेषज्ञ कोरोना की तीसरी लहर (Corona Third Wave) के आने की भी आशंका जता चुके हैं. इस बीच इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (ICMR) का कहना है कि देश के जिन जिलों में कोरोना वायरस (Covid 19 in India) की दूसरी लहर ने कहर बरपाया है, उन जिलों में तीसरी लहर के दौरान उतना कहर नहीं बरपेगा. यह तीसरी लहर उन जिलों में कम घातक होगी.

    आईसीएमआर ने राज्‍यों से कोरोना की तीसरी लहर के संबंध में जिला स्‍तर पर तैयारियां करने और स्‍थानीय डाटा के आधार पर स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी कदम उठाने की योजना बनाने को कहा है. आईसीएमआर के एपिडिमियोलॉजी एंड कम्‍यूनिकेबल डिसीज डिविजन के हेड और वरिष्‍ठ एपिडिमियोलॉजिस्‍ट समिरन पांडा का कहना है कि महराष्‍ट्र जैसे राज्‍यों को जिला स्‍तर पर विविधता पर ध्‍यान देना होगा.

    उनका कहना है कि पूरे राज्‍य में एक कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर की बात करना मददगार नहीं होगा, क्‍योंकि सभी जिलों में एकसमान रूप से कोरोना की तीसरी लहर नहीं आएगी. हमें जिला स्‍तर पर संक्रमण नियंत्रण और उसके प्रबंधन का कार्य करने की जरूरत है.

    समिरन पांडा ने यह भी कहा कि इसका मतलब यह भी है कि जिन जिलों में दूसरी लहर के दौरान कहर नहीं दिखा उन जिलों में अधिक लोग अतिसंवेदनशील होंगे. ऐसे में इन अतिसंवेदनशील लोगों के समूहों के बीच टीकाकरण को बढ़ाया जाना चाहिए.

    इसे देखते हुए महाराष्‍ट्र के राज्‍य टास्‍क फोर्स के सदस्‍य ने जिला स्‍तर पर सीरो सर्वे करने को कहा है. इसमें उन जगहों के लोगों पर अधिक ध्‍यान होगा, जहां कोरोना की दूसरी लहर का प्रभाव कम था. वहीं केंद्र ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सलाह दी है कि वे आईसीएमआर के परामर्श से सीरो सर्वेक्षण करें ताकि स्थानीय स्तर पर सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों को तैयार करने में आवश्यक सीरोप्रीवैलेंस पर जिला-स्तरीय आंकड़ा तैयार किया जा सके.

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण द्वारा सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के अतिरिक्त मुख्य सचिवों, प्रधान सचिवों, सचिवों (स्वास्थ्य) को लिखे गए एक पत्र में यह कहा गया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज