Home /News /nation /

चीन से खरीदी रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट किट पर विवाद, ICMR ने राज्यों से कहा- न करें इस्तेमाल

चीन से खरीदी रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट किट पर विवाद, ICMR ने राज्यों से कहा- न करें इस्तेमाल

दिल्ली से लौटी गोरखपुर की महिला में कोरोना की पुष्टि (फाइल फोटो)

दिल्ली से लौटी गोरखपुर की महिला में कोरोना की पुष्टि (फाइल फोटो)

ICMR ने राज्य सरकारों को रैपिड एंटीबॉडी ब्लड टेस्ट (Rapid Antibody Blood Test) को लेकर एक संशोधित सलाह जारी की है. ICMR ने उन्हें ग्वांगझाऊ वोंडफो बायोटेक (Guangzhou Wondfo Biotech) और झुहाई लिवजॉन डायग्नोस्टिक किट्स निर्मित रैपिड एंटीबॉडी ब्लड टेस्ट किट का इस्तेमाल न करने को कहा है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. ICMR ने राज्य सरकारों को रैपिड एंटीबॉडी ब्लड टेस्ट (Rapid Antibody Blood Test) को लेकर एक संशोधित सलाह जारी की है.  कोविड-19 (Covid-19) से लड़ाई में टेस्टिंग सबसे महत्वपूर्ण हथियार है और ICMR, टेस्टिंग बढ़ाने के लिए सारे प्रयास कर रहा है. इसके लिए किट खरीदे जाने और राज्यों को उनकी आपूर्ति किए जाने की जरूरत है. यह खरीद तब की जा रही है, जब वैश्विक स्तर (Global Scale) पर इन परीक्षण किटों की भारी मांग है और विभिन्न देश इन्हें पाने के लिए अपनी पूरी ताकत, पैसे और कूटनीति का इस्तेमाल कर रहे हैं.

    इसी बीच ICMR ने राज्य सरकारों को रैपिड एंटीबॉडी ब्लड टेस्ट (Rapid Antibody Blood Test) को लेकर एक संशोधित सलाह जारी की है. ICMR ने उन्हें ग्वांगझाऊ वोंडफो बायोटेक (Guangzhou Wondfo Biotech) और झुहाई लिवजॉन डायग्नोस्टिक किट्स निर्मित रैपिड एंटीबॉडी ब्लड टेस्ट किट का इस्तेमाल न करने को कहा है.



    ICMR की टेस्टिंग किट खरीदने के दूसरे प्रयास में वोंडफो हुई थी सेलेक्ट
    ICMR के इन्हें खरीदने के पहले प्रयास पर सप्लायर्स (Suppliers) की ओर से कोई से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई. इसके बाद दूसरे प्रयास पर उसे पर्याप्त प्रतिक्रियाएं मिली. इन प्रतिक्रियाओं में, संवेदनशीलता और विशिष्टता को ध्यान में रखते हुए 2 कंपनियों (बायोमेडिक्स और वोंडफो) की किट्स खरीदना निश्चित किया गया. दोनों कंपनियों के पास आवश्यक अंतरराष्ट्रीय प्रमाणपत्र थे.

    वोंडफो (Wondfo) के मामले में, मूल्यांकन समिति को 4 दामों, 1204 रुपये, 1200 रुपये, 844 रुपये और 600 रुपये की बोलियां मिलीं. इसी के अनुसार 600 रुपये की बोली के ऑफर को L-1 माना गया यानी वह रकम मानी गयी जिस पर खरीद को अनुमति मिली.

    वोंडफो कंपनी की किट के साथ थीं ये समस्याएं
    इस दौरान CGI के माध्यम से ICMR ने चीन में वोंडफो कंपनी से सीधे किट खरीदने का प्रयास भी किया. हालांकि सीधी खरीद के मामले में जो दाम की सूची मिली, उसमें ये समस्याएं थीं-
    -- दाम की सूची फ्री ऑन बोर्ड यानी बिना किसी डिलिवरी (Delivery) के मुद्दे की प्रतिबद्धता के बिना थी.
    -- यह दाम की सूची 100% डायरेक्टर एडवांस की बिना किसी गारंटी के मांग करती थी.
    -- इसकी डिलिवरी की समय सीमा पर भी कोई प्रतिबद्धता नहीं जताई गई थी.
    -- दाम अमेरिकी डॉलर में बताए गए थे, जिसमें दामों के उतार-चढ़ाव की स्थिति में कोई निर्देश नहीं थे.

    ऐसे में यह तय किया गया कि वोंडफो के भारत में स्थित डिस्ट्रीब्यूटर के पास जाया जाएगा.

    भारत सरकार को टेस्टिंग किट का प्रयोग रोकने से एक रुपये का नुकसान नहीं
    यह याद रखने की जरूरत है कि यह किसी भी भारतीय एजेंसी (Indian Agency) का ऐसी किट खरीदने का पहला प्रयास था और बोली लगाने वालों के जरिए बोला गया दाम केवल एक संदर्भ बिंदु था.

    कुछ किट्स की सप्लाई होने के बाद, ICMR ने इनका जमीनी स्थितियों पर दोबारा क्वालिटी चेक किया. उनके प्रदर्शन के वैज्ञानिक मूल्यांकन के आधार पर इन्हें अच्छा प्रदर्शन न करने वाला पाया गया और ऑर्डर को रद्द कर दिया गया.

    यहां यह बता देने की जरूरत है कि अब तक ICMR ने कोई भी भुगतान नहीं किया था. क्योंकि जिस प्रक्रिया का पालन किया गया (जिसमें 100% रकम एडवांस नहीं दी जानी थी) उसमें भारत सरकार को एक रुपये का नुकसान नहीं हुआ.

    यह भी पढ़ें:- कोरोना वायरस से लड़ने में जानिए कितने प्रतिशत भारतीयों ने माना कि मोदी सरकार बेहतर!

    Tags: Coronavirus, Coronavirus pandemic, COVID 19, COVID 19 Test, COVID test, COVID-19 pandemic, Covid19

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर