वैक्सीन बनाने के लिए ICMR ने दी 15 अगस्त की डेडलाइन, लेकिन विशेषज्ञों ने जताई चिंता

वैक्सीन बनाने के लिए ICMR ने दी 15 अगस्त की डेडलाइन, लेकिन विशेषज्ञों ने जताई चिंता
ICMR द्वारा ऐसी डेडलाइन जारी किए जाने को लेकर कई एक्सपर्ट्स चिंता भी जाहिर कर रहे हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

ICMR ने भारत बायोटेक (Bharat Biotech) से कहा है कि वैक्सीन बनाने के काम को पहली प्राथमिकता पर रखा जाए. लेकिन एक्सपर्ट्स का कहना है कि वैक्सीन बनाने का काम दबाव में पूरा नहीं किया जा सकता.

  • Share this:
नई दिल्ली. मेडिकल रिसर्च में भारत की अग्रणी संस्था ICMR (Indian Council of Medical Research) ने भारत बायोटेक को भेजे एक आंतरिक पत्र में कहा है कि क्लिनिकल ट्रायल की प्रक्रिया को तेज किया जाए. दिलचस्प है कि इस लेटर में ICMR ने 15 अगस्त तक वैक्सीन न तैयार हो सकने की स्थिति में परिणाम भुगतने जैसी चेतावनी भी शामिल की है. भारत बायोटेक से कहा गया है कि वैक्सीन बनाने के काम को पहली प्राथमिकता पर रखा जाए. लेकिन ICMR द्वारा ऐसी डेडलाइन जारी किए जाने को लेकर कई एक्सपर्ट्स चिंता भी जाहिर कर रहे हैं. उनका कहना है कि वैक्सीन बनाने का काम दबाव में नहीं पूरा किया जा सकता.

जल्द शुरू होगा ट्रायल
गौरतलब है कि बीते दिनों ही हैदराबाद की फार्मा कंपनी भारत बायोटेक ने दावा किया था कि उसे वैक्सीन के फेज-1 और फेज-2 के ह्यूमन ट्रायल के लिए डीसीजीआई से हरी झंडी भी मिल गई है. कंपनी ने यह भी कहा है कि ट्रायल का काम जुलाई के पहले हफ्ते में शुरू किया जाएगा.

जल्दीबाजी ठीक नहीं
न्यूज़18 से बातचीत के दौरान डॉ. अनंत भान ने कहा है. 'आज तक कोई भी वैक्सीन बनाने के लिए लिए ऐसी तेज रफ्तार प्रक्रिया नहीं अपनाई गई है. ये बहुत जल्दीबाजी में किया जा रहा है और इसके अपने खतरे भी हैं. अनंत भान ग्लोबल हेल्थ रिसर्चर हैं.'



नेशनल प्राइड को रखना होगा अलग
वहीं एक अन्य न्यूरोसाइंटिस्ट सुमैया शेख का कहना है कि अगर सही प्रक्रिया का पालन नहीं किया जाएगा तो कई तरह के खतरे उत्पन्न हो सकते हैं. साथ ही विज्ञान एक टीम वर्क है. भारत बायोटेक पहले से ही अमेरिका के साथ मिलकर दो वैक्सीन पर काम कर रहा है तो ऐसे में एक और नई वैक्सीन के तेज ट्रायल की जरूरत क्या है. दरअसल ये वैक्सीन निर्माण से ज्यादा नेशनल प्राइड की तरह है. कौन पहले नंबर पर आएगा की रेस है. कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के बीच ये रेस समझ में भी आती है लेकिन एक सही वैक्सीन तैयार करना इस वक्त नेशनल प्राइड से बड़ी चीज है.

कई बड़ी बीमारियों की वैक्सीन तैयार कर चुकी है भारत बायोटेक
भारत बायोटेक की ओर से बनाई गई पहले की वैक्सीन दुनियाभर के देशों में जाती हैं. भारत बायोटेक कंपनी ने इससे पहले पोलियो, रेबीज, चिकनगुनिया, जापानी इनसेफ्लाइटिस, रोटावायरस और जिका वायरस के लिए भी वैक्सीन बनाई है. (Sneha Mordani की स्टोरी से इनपुट्स के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज