कोरोना वायरस का स्‍ट्रेन किया गया अलग, वैक्‍सीन का 6 महीने में हृयूमन ट्रायल संभव: ICMR

वैक्‍सीन बनाने पर चल रहा काम.
वैक्‍सीन बनाने पर चल रहा काम.

रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर के निदेशक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के प्रमुख डॉ. रजनी कांत ने यह जानकारी दी है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) दुनिया भर में कहर बरपा रहा है. विश्‍व स्‍तर पर वैज्ञानिक इसकी वैक्‍सीन (Covid 19 Vaccine) विकसित करने में जुटे हैं. इस बीच भारत के वैज्ञानिकों ने बड़ा दावा किया है. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) का कहना है कि भारत में अगले 6 महीने में कोविड-19 वैक्सीन के लिए मानव परीक्षण शुरू हो सकते हैं.

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर के निदेशक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के प्रमुख डॉ. रजनी कांत ने इस संबंध में जानकारी दी है. उनके मुताबिक, 'पुणे में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) प्रयोगशाला में वायरस के स्ट्रेन को अलग करने में सफलता मिली है. अब इसका इस्‍तेमाल वैक्सीन बनाने में किया जाएगा. इस स्ट्रेन को सफलतापूर्वक भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड (बीबीआईएल) में स्थानांतरित कर दिया गया है. उम्मीद है कि कम से कम छह महीनों में वैक्सीन के मानव परीक्षण शुरू हो जाएंगे.'

'कोविड-19 मामलों के बढ़ने से नहीं डरना चाहिए'
उनका कहना है कि हमें देश में कोविड 19 केस की संख्या की बजाय कमजोर समूहों की सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए. कांत ने कहा कि हमें कोविड-19 मामलों के बढ़ने से नहीं डरना चाहिए. बुजुर्गों और ऐसे लोग जो पहले से ही किसी बीमारी से ग्रसित हैं, उन लोगों की सुरक्षा की आवश्यकता है. यह अत्यधिक कमजोर समूह है, और हमें इस समूह में मृत्युदर को कम रखने के लिए पर्याप्त संसाधन लगाने और रणनीतियों को विकसित करने की जरूरी है.'
भारत में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के 1 लाख 45 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. कोरोना वायरस के ताजा हालात पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि देश में संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों का प्रतिशत बढ़ रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि दुनिया के बाकी देशों के मुकाबले भारत में कोरोना वायरस के मामले कम हैं. इसके साथ ही मृत्यु दर में भी भारत की स्थिति बेहतर है.



स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के कुल 60,490 मरीज ठीक हो चुके हैं. रिकवरी रेट में सुधार जारी है, वर्तमान में यह 41.61 प्रतिशत है. लव अग्रवाल के मुताबिक, मृत्यु दर में भी कमी आई है, देश में मृत्यु दर 3.3 प्रतिशत से घटकर 2.87 प्रतिशत हो चुकी है.

News18 Polls: लॉकडाउन खुलने पर ये काम कबसे और कैसे करेंगे आप?


यह भी पढ़ें:
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज