लाइव टीवी

पाक अगर भारत से अच्छे संबंध चाहता है तो वांछित भारतीय अपराधियों को सौंप दे: जयशंकर

भाषा
Updated: November 16, 2019, 6:44 AM IST
पाक अगर भारत से अच्छे संबंध चाहता है तो वांछित भारतीय अपराधियों को सौंप दे: जयशंकर
विदेश मंत्री एस जयशंकर से पाकिस्तानी विदेश मंत्री के हालिया बयान के बारे में सवाल किया गया था जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत के साथ संबंध ‘लगभग न के बराबर’ हैं. (फाइल फोटो)

विदेश मंत्री एस जयशंकर (Foreign Minister S Jaishankar) ने कहा, ‘कई वर्षों से यह संबंध मुश्किल भरे रहे हैं, क्योंकि पाकिस्तान (Pakistan) ने एक अहम आतंकवादी उद्योग (Terrorism Industry) विकसित किया है और हमले करने के लिए आतंकियों (Terrorists) को भारत भेजता है. पाकिस्तान (Pakistan) खुद इस स्थिति से इनकार नहीं करता है.’

  • Share this:
लंदन. विदेश मंत्री एस जयशंकर (Foreign Minister S Jaishankar) ने कहा है कि पाकिस्तान (Pakistan) के साथ संबंध मुश्किल बने हुए हैं, क्योंकि वह खुले तौर पर भारत (India) के खिलाफ आतंकवाद (Terrorism) को बढ़ावा देता है. उन्होंने यह भी कहा कि अगर इस्लामाबाद (Islamabad) नई दिल्ली (New Delhi) के साथ सहयोग करने के प्रति गंभीर है तो उसे आतंकवादी गतिविधियों के लिए वांछित उन भारतीयों को सौंप देना चाहिए जो पाकिस्तान में रह रहे हैं. उन्होंने फ्रांसीसी दैनिक ‘ला मोंडे’ के साथ एक व्यापक साक्षात्कार में कहा कि पाकिस्तान भारत में आतंकवादियों को भेजने से इनकार नहीं करता है.

आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले पड़ोसी के साथ कौन बात करने को तैयार होगा
विदेश मंत्री ने कहा, ‘अब, मुझे बताएं, कौन सा देश ऐसे पड़ोसी के साथ बातचीत करने के लिए तैयार होगा जो उसके खिलाफ खुलेआम आतंकवाद को बढ़ावा देता है... हमें ऐसी कार्रवाइयों की आवश्यकता है जो सहयोग करने की वास्तविक इच्छा प्रदर्शित करें.’ उन्होंने कहा, ‘उदाहरण के लिए, आतंकवादी गतिविधियों के लिए वांछित भारतीय अपराधी पाकिस्तान में रह रहे हैं. हम पाकिस्तान से उन्हें सौंप देने को कह रहे हैं.’ वह स्पष्ट रूप से माफिया सरगना दाऊद इब्राहिम जैसे अपराधियों का जिक्र कर रहे थे जिनके बारे में माना जाता है कि वे पाकिस्तान में छिपे हैं.

कश्मीर में अब सामान्य हो रही है स्थिति

कश्मीर की स्थिति के बारे में जयशंकर ने कहा कि अगस्त में सुधारों के कारण कुछ एहतियाती उपाय किए गए ताकि कट्टरपंथी और अलगाववादी तत्वों की ओर से हिंसक कार्रवाई के खतरे को टाला जा सके. स्थिति अब सामान्य हो रही है. अगस्त में भारत ने प्रदेश को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को रद्द कर दिया था.

जल्द ही कश्मीर में विदेशी पत्रकारों का स्वागत किया जाएगा
विदेश मंत्री ने कहा कि, ‘इन प्रतिबंधों को धीरे-धीरे कम कर दिया गया है और स्थिति सामान्य होने के साथ-साथ टेलीफोन और मोबाइल लाइनों को बहाल कर दिया गया है. दुकानें खुली हुई हैं और सेब की खेती हो रही है. स्थिति पुन: सामान्य हो गई हैं. क्षेत्र में जैसे ही चीजें सुरक्षित हो जाएंगी, विदेशी पत्रकारों का स्वागत किया जाएगा.
Loading...

ये भी पढे़ं - 

चिन्मयानंद मामला: सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश पर लगाई रोक

योजना के अनुसार भारत को S-400 प्रक्षेपास्त्र प्रणाली दी जाएगी: व्लादिमीर पुतिन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 16, 2019, 5:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...