IIT admission 2020: कोरोना के कारण एडमिशन के क्राइटेरिया में होगा बदलाव, मिलेगी ये छूट

IIT admission 2020: कोरोना के कारण एडमिशन के क्राइटेरिया में होगा बदलाव, मिलेगी ये छूट
इस बार प्रवेश मानदंडों में छूट देगा आईआईटी : निशंक

IIT admission 2020: रमेश पोखरियाल निशंक (HRD Minister Ramesh Pokhriyal) ने ट्वीट किया, 'बोर्डो द्वारा 12वीं कक्षा की परीक्षा को आंशिक रूप से रद्द करने के मद्देनजर संयुक्त नामांकन बोर्ड (जेएबी) ने इस बार जेईई एडवांस 2020 पास छात्रों के लिये दाखिला मानदंडों में छूट देने का निर्णय किया है.'

  • Share this:
नई दिल्ली. मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक (HRD Minister Ramesh Pokhriyal) ने शुक्रवार को घोषणा की कि विभिन्न बोर्ड द्वारा 12वीं कक्षा की परीक्षा को आंशिक रूप से रद्द करने के मद्देनजर इस वर्ष भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान/आईआईटी (IIT) ने प्रवेश मानदंडों में छूट देने का निर्णय किया है. रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट किया, 'बोर्डो द्वारा 12वीं कक्षा की परीक्षा को आंशिक रूप से रद्द करने के मद्देनजर संयुक्त नामांकन बोर्ड (जेएबी) ने इस बार जेईई एडवांस (JEE Advanced) 2020 पास छात्रों के लिये दाखिला मानदंडों में छूट देने का निर्णय किया है.'

निशंक ने कहा कि ऐसे पात्र उम्मीदवार जिन्होंने 12वीं कक्षा की परीक्षा पास की है, वे दाखिला लेने के पात्र होंगे और उन्हें मिले अंकों से कोई फर्क नहीं पड़ेगा. निशंक ने कहा कि आईआईटी में दाखिले के लिये जेईई एडवांस में पास होने होने के अलावा 12वीं बोर्ड की परीक्षा में न्यूनतम 75 प्रतिशत अंक प्राप्त करना होगा अथवा पात्रता परीक्षा में शीर्ष 20 पर्सेंटाइल में स्थान बनाने की पात्रता होती है.

IIT, JEE का सिलेबस बदलने पर क्या बोले आईआईटी और एनटीए के अधिकारी
देशभर में लॉकडाउन की वजह से शैक्षण‍िक संस्‍थानों के सामने कम समय में स‍िलेबस पूरा करने की चुनौती है. ऐसे में सीबीएसई, सीआईएससीई और गुजरात बोर्ड, उत्‍तर प्रदेश बोर्ड और हर‍ियाणा बोर्ड से स‍िलेबस में कटौती की खबरें सामने आ चुकी हैं. सीबीएसई ने 2020-21 सेशन में कक्षा 9वीं से 12वीं तक के सिलेबस को कम करने का फैसला लिया है. काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन ने साल 2021 के लिए 10वीं, 12वीं के सिलेबस को 25 फसदी तक घटाने का ऐलान कर दिया है. बोर्ड के चीफ एग्जीक्यूटिव और सेक्रेटरी ने तो ये तक कहा कि हमें सिलेबस को और भी कम करना पड़ सकता है, 50% की कमी भी करनी पड़ सकती है.
cbse समेत तमाम बोर्ड की तरफ से सिलेबस में कटौती के फैसले के बाद से ही इसके आधार पर होने वाली मुख्य प्रवेश परीक्षाओं जेईई (JEE) और नीट (NEET)की तैयारी को लेकर काफी सवाल उठाए जा रहे हैं. ऐसे में सवाल रहा है कि क्या इन प्रवेश परीक्षाओं के सिलेबस में भी बदलाव होगा. नव भारत टाइम्स ने आईआईटी दिल्ली के निदेशक वी रामगोपाल राव के हवाले से लिखा, 'हमें सिलेबस के कंटेंट और उसमें हुए बदलावों को देखना होगा. बदलाव को देखकर इसे कमिटी और प्रश्नपत्र बनाने वालों को सौंपना होगा. क्योंकि प्रश्नपत्र सेट करने से पहले ये समझना होगा कि कुछ टॉपिक्स अब सिलेबस का हिस्सा नहीं हैं. हालांकि इस पर अभी चर्चा होनी जरूरी है.' नव भारत टाइम्स ने (NTA) के एक अधिकारी के हवाले से लिखा, 'जब हमने अपने वर्तमान सिलेबस को सीबीएसई के बदले हुए सिलेबस से मिलाया, तो उसमें बड़ा अंतर पाया. स्टडेंट्स इन परीक्षाओं के लिए काफी पहले से तैयारी शुरू कर देते हैं. ऐसे में सिलेबस में हुए बदलावों को नजरअंदाज नहीं कर सकते.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज