Startup: आईआईटी दिल्‍ली ने बनाया 'नैनोशॉट स्‍प्रे', 96 घंटे तक रहता है इसका असर

आईआईटी दिल्‍ली ने बनाया 'नैनोशॉट स्‍प्रे', वायरस और बैक्‍टीरिया को मारने में सक्षम.  (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

आईआईटी दिल्‍ली ने बनाया 'नैनोशॉट स्‍प्रे', वायरस और बैक्‍टीरिया को मारने में सक्षम. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

IIT Delhi Startup: इस NANOSHOT स्‍प्रे की खास बात ये है कि ये वायरस (Virus) और बैक्‍टीरिया (Bacteria) को मारने के साथ जैविक और एल्‍कोहल फ्री भी है. इस स्‍प्रे का इस्‍तेमाल फर्श, कपड़े या बर्तन को छोड़कर हर जगह पर किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 24, 2021, 7:20 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में तेजी से फैल रहे कोरोनावायरस (Coronavirus) के संक्रमण को कम करने के लिए आईआईटी दिल्‍ली (IIT Delhi) ने एक स्‍प्रे (Spray) तैयार किया है. इस स्‍प्रे की खास बात ये है कि इसका असर 96 घंटे यानि 4 दिनों तक बना रहता है. इस स्‍प्रे की खास बात ये है कि ये वायरस (Virus) और बैक्‍टीरिया (Bacteria) को मारने के साथ जैविक और एल्‍कोहल फ्री भी है. इस स्‍प्रे का इस्‍तेमाल फर्श, कपड़े या बर्तन को छोड़कर हर जगह पर किया जा सकता है.

आईआईटी दिल्‍ली के स्‍टार्टअप रामजा जेनोसेंसर ने दावा किया है कि उनकी टीम ने जिस NANOSHOT स्‍प्रे को तैयार किया है उसका असर 4 दिन तक बना रहता है. बहुउद्देशीय कार्बनिक हाइब्र‍िड सरफेस कीटाणुनाशक स्प्रे तैयार करने वाले रमजा जेनोसेंसर की संस्थापक डॉ. पूजा गोस्वामी कहती हैं कि जांच में पाया गया है कि स्‍प्रे सतह पर डालने के 30 सेकंड के अंदर ही बैक्‍टीरिया और वायरस को मारना शुरू कर देता है. इस स्‍प्रे से सभी तरह के वायरस, बैक्टीरिया, कवक का अंत किया जा सकता है. इसकी ताकत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि10 मिनट में 99.9% रोगाणुओं को यह खत्‍म कर सकता है.



NANOSHOT स्‍प्रे के बारे में जानकारी देते हुए पूजा गोस्‍वामी ने बताया कि इसमें किसी भी तरह का टॉक्सिक नहीं है. इसकी जांच में पाया गया है कि इसके इस्‍तेमाल से किसी भी तरह की कोई एलर्जी या चकत्ते या जलन नहीं होती है. इसे तीन अलग अलग तरह के स्‍प्रे पैक में तैयार किया गया है. इसका इस्‍तेमाल किताबें, लिफ्ट कंट्रोल पैनल, कार के डैशबोर्ड, टैबलेट, पर्स, सामान, माइक्रोवेव और अन्य उत्पादों पर किया जा सकता है.
इसे भी पढ़ें :- कोरोनाः सांसों को बचाने की लड़ाई में संजीवनी बन सकती है जायडस की दवा विराफिन, समझें

स्‍प्रे का इस्‍तेमाल से मिलेगी बड़ी राहत

इस स्प्रे का इस्‍तेमाल घर से सोफे, डाइनिंग, मीटिंग रूप की कुर्सियों, मेट्रो, बस, रेलवे, वॉशरूम, रेस्‍तरां, एयरपोर्ट जैसी जगहों पर किया जा सकता है. इसके साथ ही इसे रसोई के स्लैब, डाइनिंग टेबल, बैग, बोतल, फ्रिज की सतहों, कुर्सियों, चाबियों, शो केस, कांच की वस्तुओं, आदि पर भी किया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज