रोहिंग्या को यहां बसने दिया तो भारत में बन जाएंगे 10 और कश्मीर: रामदेव

रामदेव ने शुक्रवार को ये बातें हरियाणा के रोहतक में दयानंद मठ में कही. रोहिंग्याओं को भारत में शरण देने पर रामदेव ने चिंता जाहिर करते हुए कहा, 'पहले ही एक कश्मीर की समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा. अब जिस तरह से लोग अवैध रूप से भारत में घुसते जा रहे हैं, उससे 10 कश्मीर और तैयार होने जा रहे हैं.'

News18Hindi
Updated: August 11, 2018, 1:31 PM IST
रोहिंग्या को यहां बसने दिया तो भारत में बन जाएंगे 10 और कश्मीर: रामदेव
बाबा रामदेव (फाइल)
News18Hindi
Updated: August 11, 2018, 1:31 PM IST
असम के राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्ट्रर (NRC) पर विवाद थमता नहीं दिख रहा. योग गुरु बाबा रामदेव ने एनआरसी को देश के हित में और अवैध प्रवासियों को भारत के लिए खतरा बताया है. रामदेव का कहना है, 'भारत में तीन से चार करोड़ लोग अवैध तरीके से रहते हैं. इसमें रोहिंग्या ऊपर से और आ गए, जिनको गलत तरीके से ट्रेनिंग दी गई है. वो (रोहिंग्या) यहां बस गए, तो यहां 10 कश्मीर और तैयार हो जाएंगे.'

बाबा रामदेव की पतंजलि लॉन्च करेगी दूध समेत ये नए प्रोडक्ट्स

रामदेव ने ये बातें शुक्रवार को हरियाणा के रोहतक में दयानंद मठ में कही. रोहिंग्याओं को भारत में शरण देने पर रामदेव ने चिंता जाहिर करते हुए कहा, 'पहले ही एक कश्मीर की समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा. अब जिस तरह से लोग अवैध रूप से भारत में घुसते जा रहे हैं, उससे 10 कश्मीर और तैयार होने जा रहे हैं.'

रामदेव ने कहा, 'चाहे वो बांग्लादेशी, पाकिस्तानी, रोहिंग्या या यहां तक कि अमेरिकी ही क्यों न हों, अवैध प्रवासियों ने हमेशा से भारत की सुरक्षा के लिए एक बड़ा खतरा पैदा किया है. इस लिहाज से उन सभी को निर्वासित किया जाना चाहिए.'




उन्होंने कहा कि हम एक ही कश्मीर को संभालने में सक्षम नहीं हैं और अगर रोहिंग्याओं को यहां रहने की इजाजत दे दी गई, तो सोचिए क्या हालात हो जाएंगे.

बाबा रामदेव के पतंजलि की रफ्तार हुई धीमी! आमदनी में बड़ी ग्रोथ की नहीं उम्मीद

योगगुरु ने यह भी कहा कि देश को ऐसे कानूनों की जरूरत है, जो खासतौर पर पिछड़े वर्गों में क्रीमी लेयर्स को परिभाषित करें. क्रीमी लेयर्स को आरक्षण में शामिल नहीं किया जाना चाहिए. रामदेव ने कहा कि आज भी समाज में ऐसे कई वर्ग हैं, जिन्हें आरक्षण की सख्त जरूरत है, लेकिन आर्थिक रूप से सुरक्षित लोग, चाहे वे किसी भी जाति या धर्म से संबंधित हों, उन्हें आरक्षण नहीं दिया जाना चाहिए.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर