अपना शहर चुनें

States

'निवार' के बाद एक और चक्रवाती तूफान का खतरा, केरल में भारी बारिश का रेड अलर्ट

निवार के बाद तमिलनाडु में आ सकता है एक और तूफान: IMD (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-AP)
निवार के बाद तमिलनाडु में आ सकता है एक और तूफान: IMD (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-AP)

बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) में बन रहे गहरे दबाव के चलते 1 दिसंबर से 4 दिसंबर के बीच केरल (Kerala) के कई जिलों में भारी बारिश की आशंका जताई गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 1, 2020, 6:14 AM IST
  • Share this:
तिरुवनंतपुरम. अगले तीन से चार दिनों में केरल (Kerala) में जबरदस्त बारिश की आशंका है. भारतीय मौसम विभाग (India Meteorological Department) ने तिरुवनंतपुरम के साथ कोल्लम्, पथनमथित्ता, अलापुझा और इडुक्की जिले के लिए रेड और ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. रविवार की शाम को ही भारी बारिश के खतरे को देखते हुए मछुआरों को 30 नवंबर की आधी रात से समुद्र में जाने पर रोक लगा दी गई है.

निवार के बाद तमिलनाडु में आ सकता है एक और तूफान: IMD
वहीं, तमिलनाडु में चक्रवाती तूफान निवार के दस्तक देने के एक सप्ताह से कम समय के अंदर दक्षिणी राज्य में एक और तूफान के आने की आशंका है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को यह जानकारी दी. आईएमडी ने कहा कि यह तूफान दो दिसंबर को श्रीलंका के समुद्र तट को पार करेगा और इससे तमिलनाडु तथा केरल में भारी बारिश होने का पूर्वानुमान है. पिछले सप्ताह 'बहुत भीषण चक्रवाती तूफान' निवार तमिलनाडु के तट से टकराया था. राज्य में सुरक्षा उपायों के तहत करीब ढाई लाख लोगों को आश्रय शिविरों में ठहराया गया. तूफान से किसी की जान जाने की कोई खबर नहीं है.

आईएमडी ने संभावित तूफान के मद्देनजर तमिलनाडु और केरल के दक्षिणी इलाकों में 'रेड-कलर कोडेड' चेतावनी जारी की है और कहा है कि इन क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है. इस दौरान मछुआरों को एक दिसंबर की रात से दक्षिण पूर्व तथा पास के लगे दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी क्षेत्र में तथा दो दिसंबर से अगले 24 घंटे के लिए पूर्वी श्रीलंका के तटीय क्षेत्रों, कोमोरिन क्षेत्र, मन्नार की खाड़ी और तमिलनाडु-केरल के तटों के पास नहीं जाने की सलाह दी गयी है.
मौसम विभाग ने कहा कि जो लोग समुद्र में गये हैं, उन्हें 30 नवंबर तक तटों पर लौटने की सलाह दी जाती है. आईएमडी के अनुसार बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है. आईएमडी ने कहा, 'इसके अगले 24 घंटे में और गहरे दबाव में बदलने की संभावना है. यह चक्रवाती तूफान का आकार भी ले सकता है.' आईएमडी के चक्रवात चेतावनी विभाग ने कहा, 'यह तीन दिसंबर की सुबह करीब के पश्चिमी इलाकों की ओर बढ़ सकता है और उसके बाद कोमोरिन क्षेत्र में पहुंच सकता है.'



समुद्र में जाने पर पूरी तरह से रोक
चेन्नई स्थित क्षेत्रीय साइक्लोन वॉर्निंग सेंटर (Regional Cyclone Warning Center) के मुताबिक दक्षिण अंडमान और उससे सटे दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी के क्षेत्र और भूमध्यरेखीय हिंद महासागर में एक कम दबाव वाला क्षेत्र बनने के कारण भारी बारिश का अनुमान है. आईएमडी ने कहा कि अगले 24 घंटों के दौरान उसके चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की आशंका है.

मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण केरल में 3 दिसंबर को भारी बारिश हो सकती है और साथ ही 1 दिसंबर और 4 दिसंबर को भी भयंकर बारिश होने की आशंका है. लक्षद्वीप में 3 और 4 दिसंबर को भारी बारिश हो सकती है.

भारतीय मौसम विभाग (IMD) केरल के डॉ. संतोष ने कहा कि बंगाल की खाड़ी के दक्षिण पूर्व में गहरे दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. इसके 1 दिसंबर तक और खतरनाक होने की उम्मीद है. इसके चलते 3 और 4 दिसबंर को मछुआरों के समुद्र में जाने पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है.




मौसम विभाग के पैमानों के मुताबिक रेड अलर्ट 24 घंटे में 20 सेमी से अधिक की भारी वर्षा का संकेत है, जबकि ऑरेंज अलर्ट (6 सेमी से 20 सेमी) और यलो अलर्ट (6-11 सेमी) बारिश को इंगित करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज