लाइव टीवी

इमरान खान ने फिर बोला झूठ, कहा- भारत ने नहीं दिया पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ होने का सबूत

News18Hindi
Updated: January 24, 2020, 5:49 AM IST
इमरान खान ने फिर बोला झूठ, कहा- भारत ने नहीं दिया पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ होने का सबूत
इमरान खान का दावा, भारत ने नहीं दिया पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ होने का सबूत.

इमरान खान (Imran Khan) ने दावा किया कि पद संभालने के ठीक बाद उन्होंने शांति के प्रस्ताव के साथ भारत से संपर्क किया था लेकिन उन्हें इस दौरान अवरोध का सामना करना पड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 24, 2020, 5:49 AM IST
  • Share this:
दावोस. पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने दुनिया के सामने एक बार फिर भारत की छवि खराब करने की नापाक हरकत की है. दावोस (Davos) में विश्व आर्थिक मंच (World Economic Forum) की बैठक में इमरान खान (Imran Khan) ने दावा किया कि पद संभालने के ठीक बाद उन्होंने शांति के प्रस्ताव के साथ भारत से संपर्क किया था लेकिन उन्हें इस दौरान अवरोध का सामना करना पड़ा.

विश्व आर्थिक मंच 2020 के सम्मेलन से इतर पत्रिका 'फॉरेन पॉलिसी' को दिए एक साक्षात्कार में खान ने यह भी कहा कि उन्होंने भारत से कहा था कि अगर पुलवामा आतंकी हमले में पाकिस्तानी संलिप्तता का कोई भी सबूत दिया गया तो पाकिस्तान सख्ती से कार्रवाई करेगा. लेकिन भारत ने सबूत देने के बजाय पाकिस्तान पर ही हमला कर दिया.

पिछले साल जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के बाद दोनों पड़ोसी देशों के बीच तनाव और गहरा गया है. उसके बाद से खान तनाव कम करने के लिए लगातार वैश्विक दखल की मांग कर रहे हैं. साक्षात्कार में खान ने कहा कि उनका अटूट विश्वास है कि सैन्य तरीके से संघर्ष का समाधान नहीं हो सकता. खान ने कहा कि पद संभालने के बाद उन्होंने तुरंत भारत से संपर्क किया. लेकिन, प्रतिक्रिया देखकर वह भौचक रह गए. खान ने कहा कि उपमहाद्वीप में दुनिया के सबसे ज्यादा गरीब लोग हैं और गरीबी से मुकाबले के लिए सबसे बेहतर तरीका है कि दो देशों के बीच हथियारों पर धन खर्च करने की जगह कारोबारी संबंध हो. यही बात मैंने भारत से कही थी लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी.

इसे भी पढ़ें :- डोनाल्ड ट्रंप ने माना भारत और चीन ने विकासशील देश होने का उठाया फायदा

दुनिया से मदद की गुहार लगा चुके हैं इमरान
गौरतलब है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान संयुक्त राष्ट्र और अमेरिका समेत अंतरराष्ट्रीय शक्तियों से भारत के साथ तनाव कम करने में मदद का अनुरोध करते हुए कहा था कि उन्हें दोनों परमाणु हथियार रखने वाले देशों को उस स्थिति में पहुंचने से रोकने के लिए 'निश्चित रूप से कदम उठाने चाहिए' जहां से वापस नहीं लौटा जा सके. डॉन अखबार के मुताबिक, इमरान खान ने दावा किया कि भारत, नागरिकता संशोधन कानून और कश्मीर के मुद्दे को लेकर घरेलू प्रदर्शनों से ध्यान हटाने के लिए सीमा पर तनाव बढ़ा सकता है.

इसे भी पढ़ें :- FATF मीटिंग में चीन का फिर जगा ‘आतंक’ प्रेम, टेरर फंडिंग रोकने में की PAK की सराहना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 24, 2020, 5:49 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर