विदेश मंत्री के बाद अब पीएम इमरान की गुहार, प्लीज! बातचीत शुरू करे भारत

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पीएम नरेन्द्र मोदी को लिखे एक खत में एक बार फिर दोनों देशों के बीच की समस्याओं को सुलझाने के लिए बातचीत का प्रस्ताव रखा है.

News18Hindi
Updated: June 8, 2019, 4:10 AM IST
विदेश मंत्री के बाद अब पीएम इमरान की गुहार, प्लीज! बातचीत शुरू करे भारत
अब पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुद खत लिखकर भारत से बातचीत की गुजारिश की है (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: June 8, 2019, 4:10 AM IST
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार फिर भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सामने दोनों देशों के बीच की समस्याओं को सुलझाने के लिए बातचीत का प्रस्ताव रखा है. ऐसा उन्होंने पीएम नरेन्द्र मोदी को लिखे एक खत में लिखा. यह भारत के बार-बार पाकिस्तान से किसी भी बातचीत से मनाही के बाद भी पाकिस्तान की ओर से एक और गुजारिश है.

प्रधानमंत्री को लिखे एक पत्र में इमरान खान ने उन्हें आम चुनावों के बाद भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर दूसरे कार्यकाल के लिए बधाई दी है. खान ने लिखा है कि पाकिस्तान की इच्छा है कि विवादित कश्मीर के मुद्दे के साथ ही पाकिस्तान की दोनों के बीच सभी मुद्दों को सुलझाने की इच्छा है.



पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने अपने खत में यह भी लिखा कि दोनों देशों की मदद के लिए बातचीत ही एकमात्र हल है. ताकि लोग गरीबी से उबर सकें और दोनों के बीच क्षेत्रीय विकास के लिए भी यह महत्वपूर्ण है. खान ने लिखा कि पाकिस्तान दक्षिण एशियाई क्षेत्र में शांति चाहता है. और इसके साथ ही स्थिरता और क्षेत्र को आगे ले जाने के लिए यह आवश्यक है.

पुलवामा हमले के बाद कई बार पाक ने की है बातचीत की गुजारिश

पुलवामा आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया. भारत के सैन्य विमानों द्वारा 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर को भारत ने हमला कर ध्वस्त कर दिया था.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान
इसके बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 26 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात की और क्षेत्र में शांति और समृद्धि के लिए एक साथ काम करने की इच्छा व्यक्त की थी. उस वक्त भी पीएम मोदी ने क्षेत्र में शांति और समृद्धि को बढ़ावा देने से पहले आतंकवाद को खत्म करने की बात कही थी.
Loading...

चीन-रूस के राष्ट्रपतियों से इस दौरान मिलेंगे प्रधानमंत्री
पीएम मोदी और इमरान खान दोनों ही 13 और 14 जून को शंघाई सहयोग संगठन के शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में होंगे. इस दौरान पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार पीएम मोदी, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे. उनका इमरान खान के साथ बातचीत का कोई कार्यक्रम नहीं है. भारत ने पाकिस्तान की वार्ता की पेशकश को अस्वीकार कर दिया है, और उसका कहना है कि आतंकवाद और वार्ता एक साथ नहीं चल सकते.

पाक विदेश सचिव के भारत आने से लग रहे थे बातचीत के आसार
पाकिस्तान के विदेश सचिव और पहले भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त रह चुके सोहेल महमूद भारत आए हुए हैं. महमूद निजी यात्रा पर हैं. दरअसल अभी उनका परिवार यहीं पर हैं. वह इस बार अपने परिवार को वापस ले जा सकते हैं. बुधवार को ईद के मौके पर उन्हें जामा मस्जिद में नमाज पढ़ते देखा गया था. जिसके बाद दोनों देशों के बीच संबंध सुधरने और दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच द्विपक्षीय वार्ता होने के कयास लगाए जा रहे थे.महमूद की यात्रा के बाद कयास थे कि दोनों देशों के बीच पुलवामा हमले और बालाकोट की एयर स्ट्राइक के बाद बातचीत की शुरुआत हो सकती है, लेकिन अब भारत की ओर से इसकी कोई उम्मीद नहीं है. ऐसे में पाकिस्तानी विदेश मंत्री अब पत्र लिखकर भारत से संबंध सुधारने की गुजारिश कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: आखिर पाकिस्तानी सेना ने क्यों कर ली अपने बजट में कटौती
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...