ओबामा ने अपनी किताब में राहुल गांधी को बताया नर्वस, 5 साल पहले PM नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कही थी ये बात

ओबामा अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर 2017 में भारत दौरे पर आए थे.
ओबामा अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर 2017 में भारत दौरे पर आए थे.

Barack Obama on Modi: आज वो दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के लीडर हैं और एक गरीब बच्चे से प्रधानमंत्री बनने तक की उनकी कहानी उभरते भारत की गतिशीलता, जोश और क्षमताओं को दिखाती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2020, 8:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा (Barack Obama) की ऑटोबायोग्राफी 'अ प्रॉमिस्ड लैंड' इस वक्त भारत में सुर्खियों में है. इस किताब में ओबामा ने राहुल गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का जिक्र किया है. उन्होंने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को नर्वस बताया है. ओबामा अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर 2017 में भारत दौरे पर आए थे. ऐसे में लोग अब साल 5 पहले टाइम मैगजीन में ओबामा के लिखे उस लेख को याद कर रहे हैं, जिसमें उन्होंने नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ की थी. उस लेख में उन्होंने मोदी को भारत का रिफॉर्मर इन चीफ करार दिया था.

मोदी की जमकर तारीफ
ओबामा ने ये लेख दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली शख्सियतों की लिस्ट निकालने के मौके पर लिखा था. ओबामा ने लिखा था, 'मोदी बचपन में अपने परिवार को चलाने के लिए चाय बेचने में पिता का हाथ बंटाया करते थे. आज वो दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के लीडर हैं और एक गरीब बच्चे से प्रधानमंत्री बनने तक की उनकी कहानी उभरते भारत की गतिशीलता, जोश और क्षमताओं को दिखाती है'.

 मोदी का मकसद गरीबी कम करना
ओबामा ने आगे लिखा था, 'मोदी ने भारत को आगे ले जाने के लिए दृढ़ संकल्प हैं. मोदी का मकसद गरीबी को कम करना, शिक्षा को बढ़ावा देना, महिलाओं और लड़कियों का सशक्तिकरण है. भारत की तरह, वो आधुनिकता और परंपरा को साथ लेकर चल रहे हैं. भारतीय नागरिकों से ट्विटर के जरिए जुड़ते हैं और डिजिटल इंडिया का सपना देखते हैं.'





ये भी पढ़ें:- आयुर्वेद दिवस पर दो संस्थान राष्ट्र को समर्पित, PM बोले- यह भारत की विरासत

एक प्रेरणादायक मॉडल
ओबामा ने इसके अलावा लिखा था, वॉशिंगटन आने पर नरेंद्र और मैं डॉक्टर मार्टिन लूथर किंग जूनियर के स्मारक पर गए थे. हमने गांधी और किंग की शिक्षाओं को याद किया कि कैसे हमारे देश में पृष्ठभूमि और आस्था की विविधता एक ताकत है जिसकी हमें रक्षा करनी है. भारत में एक अरब से भी ज्यादा लोग साथ-साथ रह रहे हैं और आगे बढ़ रहे हैं, ये पूरी दुनिया के लिए एक प्रेरणादायक मॉडल हो सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज