वंदे भारत के तहत DGCA ने दी 870 चार्टर्ड उड़ानों को भी अनुमति दी, लाये गये 2 लाख यात्री

वंदे भारत के तहत DGCA ने दी 870 चार्टर्ड उड़ानों को भी अनुमति दी, लाये गये 2 लाख यात्री
इन फ्लाइट्स के जरिये करीब 2 लाख यात्री वापस लाये गये (सांकेतिक फोटो)

DGCA के मुताबिक ये फ्लाइट्स (Flights) लगभग 2 लाख यात्रियों को लेकर आईं. कई एयरलाइंस (Airlines) ने फंसे हुए लोगों को उनके गंतव्य तक ले जाने में इस मानवीय मिशन (Humanitarian Mission) में मदद की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 15, 2020, 10:46 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वंदे भारत मिशन (Vande Bharat Mission) को सुविधाजनक बनाने के लिए DGCA ने लगभग 870 अतिरिक्त चार्टर्ड उड़ानों (Chartered Flights) की अनुमति दी. ये विमान इनबाउंड (In bound) और आउटबाउंड (Out bound) दोनों तरह के थे. यानि ऐसे विमान जो सिर्फ एक तरफ की यात्रा करके लोगों को पहुंचाने वाले (आउटबाउंड) और कुछ ऐसे जो देश से ही फंसे हुये लोगों को लेने जाते हैं और फिर उन्हें लेकर लौटने वाले (इनबाउंड) भी हैं. इस बात की जानकारी DGCA ने दी.

DGCA के मुताबिक ये फ्लाइट्स (Flights) लगभग 2 लाख यात्रियों को लेकर आईं. कई एयरलाइंस (Airlines) ने फंसे हुए लोगों को उनके गंतव्य तक ले जाने में इस मानवीय मिशन (Humanitarian Mission) में मदद की.

डीजीसीए ने बताया कि दुनिया की कई बड़ी एयरलाइंस ने भी लिया इस अभियान में हिस्सा
DGCA ने बताया कि कुछ बड़ी एयरलाइंस जिसमें कतर एयरवेज-81, केएलएम डच-68, कुवैत एयर-41, ब्रिटिश एयरवेज-39, फ्लायदुबई-38, एयर फ्रांस-32, जजीरा-30, एयर अरेबिया-20, गल्फ एयर-19, श्रीलंका-19, बिमान बांग्लादेश-15, कोरियाई एयर-14, डेल्टा-13, सऊदिया-13 और एयर निप्पॉन-12 शामिल हैं, ने इस संचालन में भाग लिया.
कई अन्य एयरलाइंस ने भी फंसे हुए भारतीयों को वापस भारत पहुंचाने में की मदद


DGCA के मुताबिक इसके अतिरिक्त कई एयरलाइंस जैसे एयर न्यूजीलैंड-12, थाई एयर एशिया-11, यूनाइटेड एयरलाइंस-11, इराकी एयरवेज-11, ओमान एयर-10, यूराल एयरलाइंस-9, लुफ्थांसा-8, सोमन एयर-8, कोंडौर -8, एमिरेट्स-5, एतिहाद-5, एयरोफ्लोट-4 और वर्जिन अटलांटिक-4 ने भी इस चार्टर्ड ऑपरेशंस में हिस्सा लिया.

'वंदे भारत मिशन' भारत में संपूर्ण लॉकडाउन लगाये जाने के बाद विदेशों में फंसे भारतीयों को देश में वापस लाने के लिये चलाया जा रहा है. इसके अंतर्गत अब तक तीन चरण में लोगों को दुनिया के अलग-अलग देशों में फंसे भारतीयों को वापस ला जाया चुका है. इस मिशन में प्रयोग में लाये गये ज्यादातर विमान एयर इंडिया के थे लेकिन जैसा कि डीजीसीए ने बताया कई विदेशी एयरलाइंस ने भी इसमें पूरा सहयोग दिया है.

यह भी पढ़ें: बड़ा झटका! केंद्रीय कर्मियों को वेतनवृद्धि के लिए अगले साल तक करना होगा इंतजार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज