होम /न्यूज /राष्ट्र /भाजपा की सरकार में जनता को कर्फ्यू का मतलब भी पता नहीं- विनोद तावड़े

भाजपा की सरकार में जनता को कर्फ्यू का मतलब भी पता नहीं- विनोद तावड़े

विनोद तावड़े ने गुजरात में ताबड़तोड़ चुनाव प्रचार किया.

विनोद तावड़े ने गुजरात में ताबड़तोड़ चुनाव प्रचार किया.

Gujarat Election News: गुजरात में विधानसभा चुनाव के करीब आते ही राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई है. सत्‍तारूढ़ भाजपा समेत कांग् ...अधिक पढ़ें

    अहमदाबाद. गुजरात विधानसभा का प्रचार अभियान चरम पर है. भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री विनोद तावड़े ने छोटा उदयपुर और पंचमहल जिले के जेतपुर पावी, हलोल, कालोल और गोधरा विधानसभा की जन सभाओं को संबोधित किया. छोटा उदयपुर के जेतपुर पावी में जनसभा को संबोधित करते हुए विनोद तावड़े ने कहा कि आजादी के 75 साल में सर्वाधिक समय सत्ता में कांग्रेस पार्टी रही. अपने कार्यकाल में कांग्रेस ने जनजातीय समुदाय को मात्र वोट बैंक के रूप में उपयोग किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जनजातीय समुदाय को समाज और विकास की मुख्यधारा से जोड़ा गया. आज जनजातीय युवा कौशल और आर्थिक रूप से सशक्त हो रहे हैं. पहली बार एक साधारण जनजातीय परिवार से आने वाली महिला देश के सर्वोच्च पद राष्ट्रपति बनी हैं. आज भारत के प्रधानमंत्री जब जी20 देशों के राष्ट्र प्रमुखों से मिलते हैं तो गुजरात के जनजाति समाज से आने वाले व्यक्ति के हाथ की बनी पेंटिंग, माता की पचेड़ी, पाटन में बना दुप्पटा, चांदी बावल जैसे गिफ्ट देते हैं, जो भारतीय संस्कृति की सच्ची झलक है.

    विनोद तावड़े ने कहा कि गुजरात की गली से दिल्ली, दिल्ली से दुनिया में सवा सौ करोड़ भारतीयों का गौरव बढ़ाने वाले प्रधानमंत्री मोदी का साथ देना हमारा कर्तव्य है. विनोद तावड़े ने पंचमहल जिले में आयोजित जनसभाओं में साल 2002 में हुए निर्मम गोधरा हत्याकांड का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि 1992 में राम मंदिर निर्माण आंदोलन के अनेकों कार सेवकों के त्याग और योगदान की वजह से आज राम मंदिर निर्माण कार्य पूर्ण होने जा रहा है और उस आंदोलन में शामिल रहे एक कारसेवक जो कालोल से भाजपा उम्मीदवार हैं, उनका जीतना एक अलग महत्व रखता है.

    बीजेपी नेता ने कहा कि कांग्रेस की मिलीभगत से गोधरा में हुए निर्मम हत्याकांड के ज़ख्म हम भूले नहीं हैं. उन्‍होंने कहा कि भाजपा सरकार ने गोधरा में 680 करोड़ रुपए की लागत से मेडिकल कॉलेज व स्किल यूनिवर्सिटी को तैयार करने का काम किया है. कांग्रेस के शासन में कर्फ्यू से लोग परेशान थे, वहीं भाजपा के कार्यकाल में जनता को कर्फ्यू का मतलब भी पता नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में शांति की स्थापना हुई है. भाजपा सरकार आने के बाद गुजरात व देश दंगा मुक्त हुआ है, क्योंकि हम पहले की सरकारों की तरह दंगा करने वालों को सम्मानित नहीं करते, बल्कि कड़ाई से सजा देते हैं.

    महाराष्ट्र की राजनीति में मजबूत पकड़ रखने वाले विनोद तावड़े भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री हैं. वह बाल स्वयं सेवक भी रहे हैं. कुशल संगठनकर्ता के साथ कुशल प्रशासक भी माने जाते हैं. साल 1995 में उन्हें पहली बार बीजेपी की तरफ से महाराष्ट्र महासचिव बनाया गया. उनके सांगठनिक क्षमता को देखते हुए नेतृत्व ने उन्हें 2002 में ये जिम्मेदारी फिर से सौंपी. तावड़े का सियासी सफर आगे बढ़ता गया और 1999 में उन्हें मुंबई महानगर इकाई के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी बीजेपी ने दी. बताया जाता है कि इस पद के लिए चुने गए सबसे कम उम्र के उम्मीदवार होने का रिकॉर्ड उनके नाम है. विनोद तवड़े को बिहार और हरियाणा की जिम्मेदारी भी दी जा चुकी है.

    Tags: Assembly election, Assembly elections, Assembly Elections 2022, Gujarat Election

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें