चेक बाउंस मामले में अंतरिम मुआवजा का प्रावधान भविष्य में होगा लागू: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एनआई एक्ट के सेक्शन 143ए के तहत शिकायतकर्ता द्वारा शिकायत करने के बाद आरोपी को चेक की रकम का 20 फीसदी अंतरिम मुआवजा देना होगा.

भाषा
Updated: August 1, 2019, 1:17 PM IST
चेक बाउंस मामले में अंतरिम मुआवजा का प्रावधान भविष्य में होगा लागू: सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: August 1, 2019, 1:17 PM IST
सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि पिछले साल सितंबर से लागू हुए और चेक बाउंस होने के मामले में शिकायतकर्ता को अंतरिम मुआवजा मुहैया करने वाला कानून ‘नेगोशिएबल इंस्टूमेंट एक्ट’ का एक प्रावधान आगे भी लागू होगा. कोर्ट ने कहा कि एनआई एक्ट के सेक्शन 143ए के तहत शिकायतकर्ता द्वारा शिकायत करने के बाद आरोपी को चेक की रकम का 20 फीसदी अंतरिम मुआवजा देना होगा.

सुप्रीम कोर्ट ने एक सवाल का निपटारा करने के दौरान यह फैसला सुनाया है. दरअसल, कोर्ट से यह बताने का अनुरोध किया गया था कि क्या कानून की धारा 143-ए अतीत से लागू होगी या नहीं?

न्यायमूर्ति यू यू ललित और न्यायमूर्ति विनीत सरन की पीठ ने सुनवाई के दौरान मद्रास हाईकोर्ट के उस आदेश को निरस्त कर दिया जिसमें आरोपी जेजे राजा को शिकायतकर्ता (तेजरात सुराणा) को 20 प्रतिशत अंतरिम मुआवजा देने का आदेश जारी किया गया था. गौरतलब है कि निचली अदालत द्वारा कानून की धारा 143-ए के तहत अंतरिम मुआवजा देने का आदेश दिया गया था.

ईडी ने कार्ति चिदंबरम को भेजा नोटिस, जोरबाग आवास खाली करने का आदेश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 1, 2019, 1:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...