Home /News /nation /

दिल्‍ली में CM बघेल के शक्ति प्रदर्शन में जुटे 40 से अधिक MLA छत्‍तीसगढ़ लौटे

दिल्‍ली में CM बघेल के शक्ति प्रदर्शन में जुटे 40 से अधिक MLA छत्‍तीसगढ़ लौटे

दिल्‍ली से विधायकों को चार्टर्ड विमान द्वारा रायपुर भेजा गया.

दिल्‍ली से विधायकों को चार्टर्ड विमान द्वारा रायपुर भेजा गया.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री (Chhattisgarh CM) भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) के समर्थन में पिछले 4 से 5 दिनों में दिल्ली में जमा हुए, कांग्रेस के 40 से अधिक विधायक रायपुर लौट गए हैं. हालांकि छत्‍तीसगढ़ कांग्रेस (Chhattisgarh Congress) के अधिकतर विधायकों का कहना था कि वह देश की राजधानी दिल्ली में निजी यात्रा के लिए आए हैं लेकिन इन विधायकों का मकसद, सीएम भूपेश बघेल के पक्ष में दबाव की रणनीति और शक्ति प्रदर्शन को अंजाम देना था.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली.  नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री (Chhattisgarh CM) भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) के समर्थन में पिछले 4 से 5 दिनों में दिल्ली में जमा हुए, कांग्रेस के 40 से अधिक विधायक रायपुर लौट गए हैं. हालांकि छत्‍तीसगढ़ कांग्रेस (Chhattisgarh Congress)  के अधिकतर विधायकों का कहना था कि वह देश की राजधानी दिल्ली में निजी यात्रा के लिए आए हैं लेकिन इन विधायकों का मकसद, सीएम भूपेश बघेल के पक्ष में दबाव की रणनीति और शक्ति प्रदर्शन को अंजाम देना था. इस दौरान छत्तीसगढ़ के प्रभारी पीएल पुनिया भी दिल्ली में मौजूद नहीं थे. सभी विधायक चार्टर्ड विमान से एक साथ रायपुर लौटे.

पिछले दिनों से चले आ रहे घटनाक्रम में तमाम दावे और तर्क दिए जा रहे थे, लेकिन दिल्‍ली में जमेे विधायकों ने पार्टी आलाकमान सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मिलने का कोई वक्त नहीं मांगा. इनमें से एक विधायक ने न्यूज़ 18 इंडिया को अपना नाम न लिखे जाने की शर्त पर बताया कि दरअसल अटकलें थी कि 7 अक्टूबर को छत्तीसगढ़ में नेतृत्व परिवर्तन का फैसला लिया जा सकता है. इस खबर के बाद से छत्‍तीसगढ़ सरकार में हड़कंप मचा और बाद में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पक्ष में शक्ति प्रदर्शन के लिए ये सभी विधायक जुट गए.

ये भी पढ़ें :  OPINION: कोरोना के खिलाफ जंग में भारत ने पीएम मोदी की अगुआई में दुनिया के सामने रखी एक मिसाल

ये भी पढ़ें :   आरएसएस पर अपमानजनक टिप्पणी करने के लिए जावेद अख्तर के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर

दरअसल छतीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव के बीच छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री के पद को लेकर तनातनी जारी है. हालांकि कभी कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है लेकिन छत्तीसगढ़ को लेकर बार-बार यह कहा जाता है कि चुनाव के बाद कांग्रेस की जीत के बाद भूपेश बघेल और टीएस सिंह देव के बीच ढाई ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद के फार्मूले पर बात हुई थी. हालांकि भूपेश बघेल ने ढाई ढाई साल के फार्मूले की बात को खारिज किया है और टी एस सिंहदेव पार्टी आलाकमान पर फैसला छोड़ने की बात करते हैं.

दिल्ली में मौजूद छतीसगढ़ कांग्रेस के विधायक दिल्ली के अलग अलग जगह रुके थे. कुछ विधायक छतीसगढ़ भवन, कुछ छतीसगढ़ सदन और बाकी दिल्ली के अलग अलग होटलों में रुके थे. हालांकि विधायकों का दावा था कि वह निजी यात्रा पर हैं और छत्तीसगढ़ के सियासत या राजनीति से कोई लेना-देना नहीं लेकिन विधायकों के रुख से साफ था कि वह पार्टी आलाकमान को एक संदेश देना चाहते थे कि छत्तीसगढ़ में अगर मौजूदा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को बदलने की कोई संभावना हो तो ऐसा ना किया जाए. दिल्ली में जुटे विधायक भूपेश बघेल का ही नेतृत्व छतीसगढ़ में बने रखना चाहते हैं.

Tags: Bhupesh Baghel, Chhattisgarh CM, Chhattisgarh Congress

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर