लाइव टीवी

हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर: एनकाउंटर में मारे गए चारों आरोपियों की लाश 10 दिन बाद भी क्यों पड़ी है हॉस्पिटल में? जानें वजह

News18Hindi
Updated: December 15, 2019, 9:18 AM IST
हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर: एनकाउंटर में मारे गए चारों आरोपियों की लाश 10 दिन बाद भी क्यों पड़ी है हॉस्पिटल में? जानें वजह
इसी जगह हुआ था एनकाउंटर

हैदराबाद में महिला वेटनरी डॉक्टर से गैंगरेप और फिर मारकर जलाने के चारों आरोपियों का पुलिस ने नेशनल हाईवे 44 के पास एनकाउंटर (Hyderabad Encounter) किया था, लेकिन अभी तक परिवारवालों को शव नहीं दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 15, 2019, 9:18 AM IST
  • Share this:
हैदराबाद. तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में महिला वेटनरी डॉक्टर (Veterinary Doctor) से गैंगरेप के बाद हत्या के मामले में जांच लगातार चल रही है. एनकाउंटर में चारों आरोपियों की मौत के बाद सुप्रीम कोर्ट ने जांच आयोग गठित की है, लेकिन इस बीच एनकाउंटर के 10 दिन बाद भी चारों आरोपियों की लाश हॉस्पिटल में पड़ी है. घर वाले अभी तक इनका दाह संस्कार नहीं कर सके हैं. इनकी बॉडी घरवालों को कब सौंपी जाएगी इसको लेकर फिलहाल सस्पेंस बना हुआ है.

क्यों नहीं दी जा रही है बॉडी?
चारों आरोपियों की मौत 6 दिसंबर को पुलिस एनकाउंटर में हुई थी. हैदराबाद में चारों आरोपियों को नैशनल हाईवे 44 के पास एनकाउंटर के दौरान गोली मार कर मौत के घाट उतार दिया गया था. ये वही राजमार्ग था, जहां से 27 साल की डॉक्टर का जला शव मिला था. इस एनकाउंटर पर कई तरह के सवाल उठाए गए हैं. कई संगठनों ने इसे फर्जी करार दिया. लिहाजा आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट ने घटना के दिन ही चारों शवों को 13 दिसंबर तक संरक्षित करने का आदेश दिया था. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल उनके आखिरी आदेश तक आरोपियों के शव सुरक्षित रखा जाएगा. छह महीने के अंदर सुप्रीम कोर्ट में जांच की रिपोर्ट सौंपी जाएगी.

डेड बॉडी की हो रही है जांच

दरअसल सुप्रीम कोर्ट की बेंच को बताया गया है कि एक विशेष जांच दल चार लोगों के मारे जाने के मामले की जांच कर रहा है. जांच टीम डेड बॉडी को देख कर ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या पुलिस ने अपने बचाव में इन पर गोलियां चलाई या फिर जानबूझ कर इन्हें मारा गया. तेलंगाना पुलिस ने कहा था कि छह दिसंबर को पुलिस के साथ मुठभेड़ में ये चारों मारे गए थे. इन चारों आरोपियों पर पुलिस ने मौत के बाद एफआईआर भी दर्ज किया है.

ऐसे हुआ था एनकाउंटर
ये घटना सुबह साढ़े तीन बजे की है. रिमांड के दौरान पुलिस चारों आरोपियों को घटनास्थल पर ले गई. पुलिस पूरे घटना को आरोपियों की नजर से समझना चाह रही थी. पुलिस ने बताया कि इसी दौरान इन चारों ने उन पर गोलियां बरसानी शुरू कर दी. ऐसे में पुलिस के सामने गोली चलाने के अलावा कोई चारा नहीं था. उन्होंने इन्हें पकड़ने के लिए गोलियां बरसा दी. देखते ही देखते चारों आरोपी वहीं ढेर हो गया. बाद में इन सबकी लाश को सरकारी अस्पताल भेज दिया गया.


ये भी पढ़ें: 
दिल्ली: शालीमार बाग में एक मकान में लगी आग, 3 महिलाओं की मौत, 5 झुलसे

आम आदमी पर पड़ेगी महंगाई की मार! अगले सप्ताह GST काउंसिल ले सकती है ये फैसले

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 15, 2019, 8:59 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर