खुशखबरी! देश में एक्टिव मामलों की तुलना में दोगुनी हो रही रिकवरी, 62% लोग हो रहे ठीक

खुशखबरी! देश में एक्टिव मामलों की तुलना में दोगुनी हो रही रिकवरी, 62% लोग हो रहे ठीक
भारत में प्रति दस लाख की जनसंख्या पर सबसे कम मामले हैं

स्वास्थ्य मंत्रालय के ओएसडी राजेश भूषण (Rajesh Bhushan, OSD, Ministry of Health) ने कहा कि देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के रिकवर केस और एक्टिव केसों के बीच का अंतर अब लगातार बढ़ता जा रहा है. भारत में अभी 476378 रिकवर केस और 269789 एक्टिव केस हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Health and Family Welfare) ने गुरुवार को बताया कि देश में कोविड-19 (Covid-19) से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. मंत्रालय ने कहा कि वर्तमान में कोरोना वायरस (Coronavirus) के सक्रिय मामलों की तुलना में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या लगभग दोगुनी हो गई है. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हम दुनिया के दूसरे सबसे अधिक आबादी वाले देश हैं. भारत 1.3 बिलियन लोगों की आबादी के बावजूद, अपेक्षाकृत अच्छी तरह से कोविड-19 का प्रबंधन करने में सक्षम रहा है. यदि आप प्रति दस लाख जनसंख्या के मामलों को देखें तो यह अभी भी दुनिया में सबसे कम है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के ओएसडी राजेश भूषण ने कहा कि आज हमारी प्रति 10 लाख की आबादी पर 538 मामले हैं, यह डब्ल्यूएचओ की स्थिति रिपोर्ट के अनुसार है. कुछ देशों में प्रति 10 लाख आबादी पर मामले भारत की तुलना में कम से कम 16-17 गुना अधिक हैं. हमारी प्रति 10 लाख की जनसंख्या में 15 मौतें हो रही हैं जबकि ऐसे कई देश हैं जहां यह 40 गुना अधिक है. उन्होंने कहा कि जब हम भारत में कोविड-19 के केस लोड की बात करते हैं, तो यह 2,69,000 लोग हैं. यह हमें बताता है कि आखिरकार हम एक ऐसी स्थिति लाने में कामयाब हो गए हैं, जहां हमारी स्वास्थ्य देखभाल के बुनियादी ढांचे पर बोझ नहीं है और यह दबाव के कारण चरमरा नहीं रहा है.

यह भी पढ़ें:- डायमंड सिटी सूरत से अपने घर को लौट रहे हैं लाखों मजदूर, जानें क्या है वजह?



बढ़ता जा रहा है एक्टिव और रिकवर केस के बीच अंतर
राजेश भूषण ने कहा कि रिकवर केस और एक्टिव केसों के बीच का अंतर अब लगातार बढ़ता जा रहा है. भारत में अभी 476378 रिकवर केस और 269789 एक्टिव केस हैं. देश में कोविड-19 से हो रही मौतों की बात की जाए तो कुल जनसंख्या में कोविड-19 से हो रही मृत्यु और उनके प्रतिशत का आयु वार वितरण- 45-59% वर्ष के लोगों का जनसंख्या में 15% है, इसमें 32% मौतें हुई हैं. 60-74 वर्ष के लोगों की आबादी 8% है और इस आयु वर्ग में 39% मौतें हुई हैं.

भारत में कोरोना की जांच को लेकर आईसीएमआर ने बताया कि हमारी क्षमता प्रति दिन 2.6 लाख से अधिक परीक्षण करने की है और यह एंटीजेन टेस्ट के साथ बढ़ेगी.

यह भी पढ़ें:- क्या 15 अगस्त तक आ जाएगा कोरोना का टीका? स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिया यह जवाब

दिल्ली में एकजुट रणनीति से हो रहा काम
प्रेस कॉन्फ्रेंस में गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने कहा कि 8 जुलाई तक दिल्ली में 6,79,831 कोविड-19 टेस्ट किए गए यानी प्रति 10 लाख की आबादी पर 35,780 टेस्ट. 9 जुलाई को दिल्ली में लगभग 23452 एक्टिव केस हैं और रिकवरी दर 72% से अधिक है. डबलिंग रेट लगभग 30 दिन हो गया है. श्रीवास्तव ने कहा कि एनसीआर में हमारे पास एक रणनीति है जिसमें सभी का सहयोग शामिल है. एक एकजुट रणनीति.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस दौरान वैक्सीन को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि भारत बायोटेक (Bharat BioTech) और ज़ाइडस कैडिला (Zaidus Cadilla) ने पशुओं पर अध्ययन पूरा कर लिया है. यह DCGI के साथ साझा किया गया था जिसके बाद अनुमति मिली है. इसका ह्यूमन ट्रायल अभी शुरू नहीं किया गया है.



गौरतलब है कि देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 7 लाख 67 हजार 296 हो गई है. 24 घंटे में कोरोना के 24879 नए केस आए हैं और 487 मरीजों की जान गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा अपडेट के मुताबिक, देश में अब कोरोना के 2 लाख 69 हजार 789 एक्टिव केस हैं. इस वायरस से अब तक 21 हजार 129 लोगों की मौत हो गई है. वहीं, अब तक 4 लाख 76 हजार 377 मरीज रिकवर हो चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading