पी चिदंबरम की फांस बना इंद्राणी मुखर्जी का बयान! जानें INX केस में कब क्या हुआ

आईएनएक्स मीडिया (INX Media) केस में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है. आइए एक नज़र डालते हैं इस केस में कब-क्या हुआ और इंद्राणी मुखर्जी (Indrani Mukerjea) का बयान कैसे चिदंबरम के गले की फांस बन गया...

News18Hindi
Updated: August 21, 2019, 11:40 AM IST
पी चिदंबरम की फांस बना इंद्राणी मुखर्जी का बयान! जानें INX केस में कब क्या हुआ
पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम (फ़ाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: August 21, 2019, 11:40 AM IST
देशभर की निगाहें आज सुप्रीम कोर्ट पर टिकी हैं. INX मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम (Palaniappan Chidambaram) आज गिरफ्तार होंगे या नहीं, इसका फैसला अदालत कर सकती है. आइए एक नज़र डालते हैं इस केस में कब क्या हुआ और इंद्राणी मुखर्जी (Indrani Mukerjea) का बयान कैसे चिदंबरम के गले की फांस बन गया...

15 मई 2017: सीबीआई ने पी. चिदंबरम (P. Chidambaram) के खिलाफ यह आरोप लगाते हुए FIR दर्ज की है कि विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (FIPB) से फंड ट्रांसफर करने में अनियमितता बरती गई. साल 2007 में INX मीडिया को विदेश से 305 करोड़ का फंड मिला था. उस वक्त पी चिदंबरम वित्त मंत्री थे और आरोप है उनके बेटे कार्ति चिदंबरम ने इस लेन-देन में उनकी मदद ली थी.

16 जून 2017: गृह मंत्रालय ने कार्ति चिदंबरम के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया.

10 अगस्त 2017: मद्रास हाईकोर्ट ने कार्ति चिदंबरम (Karti Chidambaram) और चार और लोगों के खिलाफ जारी लुकआउट नोटिस पर रोक लगा दी.

14 अगस्त 2017: सुप्रीम कोर्ट ने लुकआउट नोटिस पर मद्रास होईकोर्ट की रोक को खारिज कर दिया.

18 अगस्त 2017: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कार्ति चिदंबरम को 23 अगस्त तक सीबीआई के सामने पेश होने को कहा.

22 सितंबर 2017: सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि कार्ति चिदंबरम को विदेश जाने से रोक दिया गया है क्योंकि उन्हें शक है कि वो वहां अपने बैंक खातों को बंद कर सबूतों को मिटा सकते हैं.
Loading...

9 अक्टूबर 2017: कार्ति चिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट से ब्रिटेन जाने की अनुमति मांगी. उन्होंने कहा कि वो वहां अपनी बेटी के कॉलेज में एडमिशन के सिलसिले में जाना चाहते हैं. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में ये भी कहा कि वो वहां किसी बैंक में नहीं जाएंगे. इस बीच उनके पिता पी चिदंबरम ने आरोप लगाया कि बीजेपी उनके बेटे के खिलाफ राजनीतिक भावनाओं से कार्रवाई कर रही है.

20 नवंबर 2017: सुप्रीम कोर्ट ने कार्ति चिदंबरम को ब्रिटेन जाने की अनुमति दे दी.

8 दिसंबर 2017: एयरसेल मैक्सिस डील में सीबीआई द्वारा जारी समन के खिलाफ कार्ति चिदंबरम सुप्रीम कोर्ट पहुंचे

16 फरवरी 2018: कार्ति चिदंबरम के चार्टड अकाउंटेंट एस भाष्करमण को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया.

28 फरवरी 2018: विदेश से लौटते ही कार्ति चिदंबरम को सीबीआई ने चेन्नई में गिरप्तार कर लिया और फिर उन्हें दिल्ली लाया गया.

23 मार्च 2018: 23 दिन जेल में बिताने के बाद कार्ति चिदंबरम को जमानत मिल गई.

25 जुलाई 2018: हाईकोर्ट ने पी चिदंबरम को गिरफ्तारी से बचने के लिए अंतरिम राहत दे दी.

11 अक्टूबर 2018: ईडी ने कार्ति चिदंबरम की 54 करोड़ की संपत्ति अटैच कर दी. उनकी ये प्रॉपर्टी भारत, ब्रिटेन और स्पेन में थी. ये कार्रवाई INX मीडिया में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों में की गई.

11 जुलाई 2019: इंद्राणी मुखर्जी इस केस में सरकारी गवाह बन गई. मुखर्जी अपने पति पीटर के साथ INX मीडिया की मालिक थी. ईडी के मुताबिक, इंद्राणी ने अपने बयान में कहा, 'पीटर ने चिदंबरम के साथ बातचीत शुरू की और INX मीडिया की एफडीआई अर्जी पीटर ने अर्जी की कॉपी भी उन्हें सौंपी. FIPB की मंजूरी के बदले चिदंबरम ने पीटर से कहा कि उनके बेटे कार्ति के बिजनेस में मदद करनी होगी.' इस बयान को ईडी ने चार्जशीट में दर्ज किया और कोर्ट में भी इसे सबूत के तौर पर पेश किया गया.

20 अगस्त 2019: दिल्ली हाईकोर्ट ने पी चिदंबरम की ज़मानत याचिका खारिज कर दी.

ये भी पढ़ें: मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री बाबूलाल गौर का निधन

इन रूट पर चलेगी देश की पहली 'प्राइवेट ट्रेन', रेलवे का फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 10:54 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...