CM बनने के बाद क्या बहुमत साबित कर पाएंगे येदियुरप्पा?

बीजेपी दावा कर रही है कि आंकड़े उनके पक्ष में हैं. लेकिन कानूनी दांव पेंच और स्पीकर ने मामले को पेचीदा बना दिया है.

News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 1:06 PM IST
CM बनने के बाद क्या बहुमत साबित कर पाएंगे येदियुरप्पा?
बीएस येदियुरप्पा चौथी बार आज कर्नाटक के मुख्यमंत्री बनेंगे.
News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 1:06 PM IST
बीएस येदियुरप्पा चौथी बार आज कर्नाटक के मुख्यमंत्री बनेंगे. शाम 6 बजे वो शपथ लेने वाले हैं. इसके बाद 31 जुलाई को उन्हें बहुमत साबित करना होगा. लेकिन लाख टके का सवाल ये है कि क्या वो बहुमत साबित कर पाएंगे. बीजेपी दावा कर रही है कि आंकड़े उनके पक्ष में है. लेकिन कानूनी दांव पेंच और स्पीकर ने मामले को पेचीदा बना दिया है. ऐसा लग रहा है कि येदियुरप्पा के लिए बहुमत साबित करना मुश्किल चुनौती होगी.

स्पीकर ने फंसाया पेंच
स्पीकर के.आर. रमेश ने मामले को पेचीदा बना दिया है. उन्होंने गुरुवार को कांग्रेस के तीन विधायकों को दलबदल कानून के तहत अयोग्य घोषित कर दिया है. ये तीनों अब अगले विधानसभा चुनाव यानी साल 2023 से पहले चुनाव नहीं लड़ सकते. अगर स्पीकर बाक़ी बचे 14 विधायकों को डिस्क्वालीफाई नहीं करते हैं तो फिर येदियुरप्पा के लिए मुश्किलें खड़ी हो जाएंगी.

ऐसा हुआ तो येदियुरप्पा साबित कर देंगे बहुमत

अभी तक सिर्फ तीन विधायकों को अयोग्य ठहराया गया है. अगर बाक़ी बचे विधायकों को भी डिस्क्वालीफाई कर दिया जाता है तो फिर विधानसभा में कुल विधायकों की संख्या 224 से घट कर 205 पर पहुंच जाएगी. ऐसे में 105 विधायकों के साथ बीजेपी बड़े आराम से बहुमत साबित कर देगी.

अगर ऐसा नहीं हुआ तो
अगर स्पीकर बाकी बचे विधायकों को डिस्क्वालीफाई नहीं करते हैं तो फिर बहुमत साबित करने के लिए 110 या 111 सदस्यों की जरूरत पड़ेगी. ऐसे में बीजेपी के लिए सरकार बनाना आसान नहीं होगा. उन्हें कम से कम 6 विधायकों को अपने पाले में करना होगा. बीजेपी सरकार बनाने के लिए मुंबई से इन विधायकों को वापस ला सकती है. लेकिन उन्हें इस बात का डर सता रहा है कि ये विधायक एक बार फिर से कांग्रेस और जेडीएस में वापसी न कर लें. ऐसे में एक बार फिर से राज्य में राजनीतिक अस्थिरता का दौर शुरू हो जाएगा. पिछले साल मुख्यमंत्री बनने के बाद येदियुरप्पा बहुमत साबित नहीं कर पाए थे. बाद में उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था.
Loading...

मंत्रिमंडल को लेकर माथापच्ची
बीजेपी के लिए मंत्रिमंडल तैयार करना भी मुश्किल चुनौती होगी. 34 विधायकों को कैबिनेट में जगह मिल सकती है. इन पदों के लिए बीजेपी में करीब 60 दावेदार हैं. इसके अलावा 10 बागी विधायकों को भी मंत्रिमंडल में शामिल करना होगा. ऐसे में पार्टी के कई सीनियर नेता नाराज हो सकते हैं.

6 वोट से हार गए थे कुमारस्वामी
23 जुलाई को विधानसभा में हुए शक्ति-परीक्षण में कुमारस्वामी सरकार अल्पमत में आ गई थी. कुमारस्वामी द्वारा पेश विश्वास प्रस्ताव के पक्ष में 99 और विरोध में 105 वोट पड़े थे.

ये भी पढ़ें: अमेरिका दौरे से क्या लेकर लौटे पाकिस्तानी PM इमरान खान?

रामदेव की बड़ी जीत! लंबे इंतज़ार के बाद पतंजलि की हुई ये कंपनी
First published: July 26, 2019, 12:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...