जगन रेड्डी ने अमित शाह के सामने रखी आंध्र के लिए 4 नई राजधानियों की योजना

जगन रेड्डी ने अमित शाह के सामने रखी आंध्र के लिए 4 नई राजधानियों की योजना
जगन रेड्डी ने अमित शाह के सामने रखी 4 नई राजधानियों की योजना.

अमित शाह (Amit Shah) के साथ अपनी बैठक के दौरान जगन रेड्डी (Jagan Mohan Reddy) ने अन्य चार शहरों में भी विकास पर जोर देते हुए चार नई राजधानियां और अमरावती को केवल प्रशासनिक राजधानी बनाने के प्रस्ताव के बारे में बताया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2019, 1:59 PM IST
  • Share this:
आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी (Jagan Mohan Reddy) ने सोमवार को दिल्ली के अपने दौरे के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) और जल शक्ति मंत्री गजेंद्र शेखावत से मुलाकात की. इस मुलाकात में उन्होंने राज्य के लिए चार नई राजधानियां (New Capitals) बनाने को लेकर अपनी योजना के बारे में बताया. रेड्डी माओवादी प्रभावित क्षेत्रों में की जा रही विकास पहलों पर अंतर्राज्यीय परिषद की बैठक के लिए दिल्ली में मौजूद थे. उन्होंने राज्य में राजधानी के तौर पर विजयनगरम, काकीनाडा, गुंटूर और कडप्पा का नाम बताया. उनकी ये योजना विकास कार्यों को राज्य के हर क्षेत्रों तक सुचारू ढंग से पहुंचाने के लिए है.

चार नई राजधानियों की मांग की वजह

वाईएसआरसीपी सूत्रों के मुताबिक, अमित शाह के साथ अपनी बैठक के दौरान रेड्डी ने अन्य चार शहरों में भी विकास पर जोर देते हुए अमरावती को केवल प्रशासनिक राजधानी बनाने के प्रस्ताव के बारे में बताया. इसके लिए राज्य सरकार क्षेत्रीय विकास बोर्ड स्थापित करने की योजना बना रही है.कृष्णा नदी की हालिया बाढ़ के बाद अमरावती और विजयवाड़ा के बीच सड़क संपर्क कट गया था. जिसको लेकर कई नेताओं, स्थानीय किसानों और व्यवसायिक बिरादरी के सदस्यों ने राजधानी चुनने जाने को लेकर सवाल उठाए थे.



गृहमंत्री अमित शाह के साथ जगन रेड्डी.




अमरावती की राजधानी के तौर पर हैं कई दिक्कतें

नगरपालिका मामलों के राज्य मंत्री बोत्सा सत्यनारायण ने कहा कि शहर में 8 लाख क्यूसेक पानी आ जाने बाद अमरावती राजधानी के तौर पर अब सुरक्षित नहीं है. मंत्री के इस बायान के बाद काफी विवाद भी हुआ था. ये पानी प्रकाशम बैराज के माध्यम से शहर में प्रवेश कर गया था. इसके बाद आस-पास के इलाकों में बढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई थी. निर्माण की लागत भी अमरावती में राज्य के दूसरे इलाकों की तुलना में काफी ज्यादा बताई जाती है. विपक्षी तेलुगु देशम पार्टी और जनसेना सहित कई राजनीतिक दलों ने राजधानी को अमरावती से स्थानांतरित करने की सरकार की योजनाओं का विरोध किया है.

योजना पर विपक्षी पार्टियों का विरोध और सरकार का पक्ष

उनके विरोध पर प्रतिक्रिया देते हुए राज्य सरकार के मंत्री सत्यनारायण ने कहा कि इस मुद्दे पर चर्चा चल रही है. उन्होंने सरकार के द्वारा जमीन के सौदों में संभावित भ्रष्टाचार का हवाला देते हुए पिछली चंद्रबाबू नायडू सरकार को दोषी ठहराया. उन्होंने कहा, "पिछली टीडीपी सरकार और नेताओं ने राजधानी की घोषणा करने से पहले भारी मात्रा में जमीन खरीदी थी. हमारी सरकार उन लोगों के नाम और उनके विवरण का पता लगाएगी जो इसमें शामिल थे. हम इसपर आगे की चर्चा के बाद ही अधिक स्पष्टता दे सकते हैं." आंध्र प्रदेश के सीएम और अमित शाह के बीच चर्चा के दौरान उठाए गए दूसरे मुद्दों में राज्य को वित्तीय सहायता, पोलावरम हेडवर्क्स और हाइडल पावर प्रोजेक्ट के संबंध में रिवर्स टेंडरिंग जैसे मुद्दे शामिल थे.

इसे भी पढ़ें: ट्रंप के एक ट्वीट ने बढ़ाया भारतीयों की शादी का खर्च!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading