विधान सभा उपचुनाव: केरल की पाला सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला तय

सत्ताधारी एलडीएफ ने नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के नेता मणि.सी. कप्पेन को चौथी बार मुकाबले में उतारा है वहीं यूडीएफ केरल कांग्रेस (एम ) के नेता होजे टॉम पुलिककुन्नेल को मैदान में उतारने की तैयारी में है.

News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 1:17 PM IST
विधान सभा उपचुनाव: केरल की पाला सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला तय
इस साल हुए लोकसभा के चुनावों में भी एनडीए पाला क्षेत्र में अपना सिक्का जमाने में कामयाब रही थी
News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 1:17 PM IST
तिरुवनंतपुरम: पाला विधानसभा क्षेत्र में एक बार फिर से लगभग 2016 के चुनावों की स्थिति बनती नज़र आ रही है. सीपीएम (CPM) के नेतृत्व वाली लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट और बीजेपी (BJP) के नेतृत्व वाली एनडीए ने 23 सितम्बर को होने वाले उपचुनावों में अपने उन्हीं उम्मीदवारों को उतारने का फैसला किया है जो 2016 में मैदान में उतरे थे.

कौन है एन. हरी?
एनडीए ने एन. हरी के नाम की घोषणा की है जोकि कोट्ट्यम में बीजेपी के जिला अध्यक्ष हैं. ये वही हरी हैं जिन्होंने तीन साल पहले हुए विधानसभा चुनावों में त्रिकोणीय मुकाबले में 17. 76 प्रतिशत वोट पाकर एलडीएफ और यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट को सकते में ला दिया था.

कांग्रेस के उम्मीदवार

सत्ताधारी एलडीएफ ने नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के नेता मणि.सी. कप्पेन को चौथी बार मुकाबले में उतारा है वहीं यूडीएफ केरल कांग्रेस (एम ) के नेता होजे टॉम पुलिककुन्नेल को मैदान में उतारने की तैयारी में है. पुलिककुन्नेल उस सीट पर पहली बार चुनावी उम्मीदवार हैं जो पचास सालों से भी ज्यादा समय से केएम मणि के अधिकार में रही है.

होगा दमदार मुकाबला
पिछले विधानसभा चुनावों में बीजेपी द्वारा ली गयी बढ़त ने केरल के राजनीति में सभी को हैरान कर दिया था क्योंकि बीजेपी को मिले वोटों में तुलनात्मक रूप से लगभग चार गुने से भी ज्यादा की वृद्धि दर्ज़ की थी. 2011 चुनावों में जहां बीजेपी को केवल 6359 वोट ही मिले थे वह बढ़कर 2016 के चुनावों में 24821 तक पहुंच गए थे. दिलचस्प बात यह है कि यह यूडीएफ का परंपरागत क्षेत्र रहा है जहां बीजेपी को इतनी बढ़त हासिल हुई और वोटों का मार्जिन 4703 तक पहुंच गया था.
Loading...

मुश्किल में  एलडीएफ
इस साल हुए लोकसभा के चुनावों में भी एनडीए पाला क्षेत्र में अपना सिक्का जमाने में कामयाब रही थी जहां एलडीएफ ने अपना वोट शेयर बढ़ाने के चक्कर में बुरी तरह मात खायी थी. कोट्ट्यम लोकसभा क्षेत्र के एनडीए प्रत्याशी और पूर्व यूनियन मिनिस्टर पी. सी. थॉमस इस विधानसभा उपचुनावों में वोटों की संख्या को 26533 तक ले जा सकते हैं जबकि सीपीएम नेता और एलडीएफ के प्रत्याशी वी.एन. वासवन को 20682 वोटों का नुक़सान हुआ था और वह केवल 33499 वोट ही हासिल कर पाए थे और ये बीस हज़ार वोट का नुकसान 33472 वोट पाने वाले केरल कांग्रेस (एम) के प्रत्याशी थॉमस चैहिककडन के जीत की मार्जिन के बराबर था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 1:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...