पश्चिम बंगाल: चुनावी सरगर्मी के बीच खूब फल-फूल रहा कोरोना, 30 दिनों में 15 गुना बढ़े केस

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की रैली के दौरान समर्थकों की भीड़. (फोटो: PTI)

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की रैली के दौरान समर्थकों की भीड़. (फोटो: PTI)

West Bengal Coronavirus Cases: पश्चिम बंगाल में 27 मार्च को मतदान शुरू हुआ था. यह प्रक्रिया आगामी 29 अप्रैल तक जारी रहेगी. इस सियासी दौर में राज्य में राजनीतिक दलों ने जमकर चुनाव प्रचार (Election Campaign) किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 1:24 PM IST
  • Share this:
(माजिद आलम)

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में सियासी गहमागहमी के साथ कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रकोप भी बढ़ रहा है. बीते 30 दिनों में राज्य में रोज मिलने वाले मरीजों की संख्या 15 गुना बढ़ गई है. वहीं, एक्टिव केस भी 6 गुना तक बढ़ गए हैं. राज्य में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) का दौर जारी है. यहां शनिवार को चौथे चरण का मतदान जारी है. 294 सीटों वाले राज्य में कुल 8 चरणों में मतदान प्रक्रिया पूरी होगी.

बीते 24 घंटों में बंगाल में 3 हजार 648 नए मरीज मिले हैं. यह आंकड़ा साल 2021 में सबसे ज्यादा है. शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग के हेल्थ बुलेटिन में जानकारी दी गई है कि नए आंकड़ों को मिलाकर राज्य में मरीजों की संख्या 6 लाख 6 हजार 455 पर पहुंच गई है. बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 10 हजार 378 मरीज जान गंवा चुके हैं.

एक महीने पहले ही यानि 10 मार्च को बंगाल में 241 नए मरीज मिले थे. उस दौरान यहां एक्टिव मरीजों का आकंड़ा 3 हजार 127 था. उस दिन दो मौतें हुई थीं. 10 मार्च से लेकर 10 अप्रैल तक माले 241 से बढ़कर 3 हजार 648 पार हो गए थे. 10 मार्च को एक्टिव केस 3 हजार 127 था और 10 अप्रैल को यह आंकड़ा 18 हजार 603 पर पहुंच गया था. इसके अलावा बीते 30 दिनों में मौत का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ा है.
यह भी पढ़ें: West Bengal Election 2021: 'मोदी हैं पॉपुलर, TMC के लिए एंटी इनकंबेंसी का डर'- प्रशांत किशोर का कथित ऑडियो लीक

पश्चिम बंगाल में 27 मार्च को मतदान शुरू हुआ था. यह प्रक्रिया आगामी 29 अप्रैल तक जारी रहेगी. इस सियासी दौर में राज्य में राजनीतिक दलों ने जमकर चुनाव प्रचार किया. इस दौरान कोविड नियमों को तोड़ते हुए बड़ी रैलियां, रोड शो और जनसभाएं भी आयोजित हुईं. चुनाव आयोग को कार्यक्रम के अनुसार, 2 मई को मतगणना की जानी है.





3 से 9 मार्च के बीच बंगाल में साप्ताहिक मामले 1539 पर थे. 3 से 9 अप्रैल के बीच ये बढ़कर 16 हजार 533 पर पहुंच गए. इस दौरान 10 गुना इजाफा दर्ज किया गया. इसके अलावा साप्ताहिक मौतों का आंकड़ा भी 11 से 43 पर पहुंच गया. जब कोलकाता में 6 मौतें हुईं, तो हावड़ा और मुर्शिदाबाद में एक-एक मरीज ने जान गंवाई थी. बुलेटिन के अनुसार, सभी 8 मौतें गंभीर बीमारी के कारण हुईं थीं, जहां कोविड-19 आकस्मिक था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज