बंगाल में भारी पड़ रहा चुनाव प्रचार, तेजी से फैल रहा कोरोना, डेथ रेट में महाराष्ट्र के बराबर

बंगाल में कोरोना के मामले कई रिकॉर्ड तोड़ते हुए रफ्तार से आगे बढ़ रहा है.

बंगाल में कोरोना के मामले कई रिकॉर्ड तोड़ते हुए रफ्तार से आगे बढ़ रहा है.

West Bengal Assembly Elections 2021: पश्चिम बंगाल में अब भी 4 चरणों का चुनाव बाकी है. 17, 22, 26 और 29 अप्रैल को अभी मतदान होना है. उससे पहले चुनाव प्रचार जोरों पर है. ऐसे में एक्सपर्ट्स चिंता जता रहे हैं कि राज्य में कोरोना का कहर बढ़ सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 2:01 PM IST
  • Share this:
West Bengal Assembly Elections 2021: पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव को लेकर गहमागहमी जारी है. तृणमूल कांग्रेस (TMC), बीजेपी और कांग्रेस-लेफ्ट गठबंधन लगातार रैलियां कर रहे हैं. जनसभाओं और रोड शो में लाखों की भीड़ इकट्ठी की जा रही है, जिनमें कोरोना गाइडलाइंस की भी अनदेखी हो रही है. ऐसे में बंगाल में कोरोना के मामले कई रिकॉर्ड तोड़ते हुए रफ्तार से आगे बढ़ रहे हैं. सोमवार को राज्य में कोरोना के 4511 नए मामले आए हैं. यह संख्या पिछले साल महामारी की शुरुआत होने के बाद से एक दिन में हुई सर्वाधिक वृद्धि है. पश्चिम बंगाल में मृत्यु दर 1.7 फीसदी हो गई है, जो देश में तीसरे नंबर पर है और महाराष्ट्र के बराबर ही है. पश्चिम बंगाल से आगे देश में पंजाब और सिक्किम ही हैं.

बीते 7 दिनों के औसत को देखा जाए, तो बंगाल में हर दिन 3,040 केस मिल रहे हैं. बिहार में यह आंकड़ा 2,122, झारखंड में 1,734 और ओडिशा में 981 है. असम की बात करें तो नए केसों का औसत 234 है, जो बंगाल के मुकाबले 10 फीसदी है. पश्चिम बंगाल पॉजिटिविटी रेट के मामले में भी देश में 7वें नंबर पर आ गया है. बंगाल में कोरोना का पॉजिटिविटी रेट 6.5 फीसदी है, जबकि पूरे देश में यह आंकड़ा 5.2 फीसदी का ही है.

चुनाव आयोग के खिलाफ धरने पर बैठीं ममता, सेना ने कहा- हमने नहीं दी इजाजत

इसका अर्थ ये हुआ कि अगर बंगाल में 100 लोगों का कोरोना टेस्ट हुआ, तो उनमें से 6.5 फीसदी संक्रमित मिल रहे हैं. वहीं, बंगाल के पड़ोसी राज्यों बिहार, झारखंड, असम और ओडिशा से तुलना करें तो पश्चिम बंगाल में केसों में तेजी से इजाफा देखने को मिला है.
चुनाव आयोग का आदेश भी बेअसर

चुनावी रैलियों में भीड़ और कोरोना नियमों की अनदेखी की तस्वीरें सामने आने के बाद चुनाव आयोग हरकत में आया था. आयोग ने सभी राजनीतिक दलों को कोरोना नियमों के पालन का निर्देश दिया था. इसके बाद भी रैलियों और जनसभाओं में चुनाव आयोग का आदेश बेअसर देखा जा रहा है. रैलियों-रोड शो में लाखों की भीड़ जुट रही है और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा.

देश में अब तक कोरोना के कितने केस?



देश में कोरोना से अब तक 1 करोड़ 36 लाख 89 हजार 453 लोग संक्रमित हो चुके हैं. अब तक 1 करोड़ 22 लाख 53 हजार 697 मरीज इस वायरस को मात देकर ठीक हो गए हैं. वहीं, इस वायरस के संक्रमण से अब तक 1 लाख 71 हजार 058 लोगों को जान गंवानी पड़ी है. अभी देश में 12 लाख 64 हजार 698 कोरोना एक्टिव केस हैं. यानी इतने मरीजों का फिलहाल इलाज चल रहा है. सोमवार तक 10 करोड़ 85 लाख 33 हजार 85 लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है.

कोरोना के खिलाफ कितनी असरदार है रूस की वैक्सीन स्पुतनिक-V? जानें हर सवाल का जवाब

भारत दूसरा सबसे संक्रमित देश

कोरोना मामलों में भारत एक बार फिर ब्राजील को पीछे छोड़कर दुनिया का दूसरा सबसे संक्रमित देश बन गया है. भारत में 1.35 करोड़ लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. वहीं, ब्राजील में यह आंकड़ा 1.34 करोड़ है. अमेरिका 3.19 करोड़ संक्रमितों के साथ टॉप पर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज