लाइव टीवी

सबरीमाला: फैसला कल, मंदिर के आसपास 10,000 से अधिक पुलिसकर्मी होंगे तैनात, CM ने खुद लिया सुरक्षा जायजा

News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 8:46 PM IST
सबरीमाला: फैसला कल, मंदिर के आसपास 10,000 से अधिक पुलिसकर्मी होंगे तैनात, CM ने खुद लिया सुरक्षा जायजा
दो महीने की तीर्थयात्रा के दौरान सबरीमला में भगवान अयप्पा के मंदिर और उसके आसपास 10,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात किये जाएंगे (फाइल फोटो, Reuters)

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का फैसला मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) की अगुवाई वाली एलडीएफ सरकार (LDF Government) के लिए भी अहम है क्योंकि बस तीन दिन बाद सबरीमाला (Sabrimala) में वार्षिक तीर्थयात्रा शुरू होने जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 8:46 PM IST
  • Share this:
तिरुवनंतपुरम. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) द्वारा सबरीमला मंदिर में सभी आयुवर्ग की महिलाओं (Women) के प्रवेश की इजाजत के अपने फैसले की समीक्षा के मामले में गुरुवार को फैसला सुनाए जाने से पूर्व केरल (Kerala) में राजनीतिक दलों, दक्षिणपंथी संगठनों (Right-wing Organisation) और श्रद्धालुओं की धड़कनें तेज हो गई हैं.

केरल में पिछले साल शीर्ष अदालत (Supreme Court) के आदेश को लागू करने के माकपा नीत वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (LDF) सरकार के फैसले को लेकर श्रद्धालुओं और दक्षिणपंथी संगठनों के विरोध प्रदर्शन से माहौल गर्मा गया था.

16 नवंबर की शाम को खोले जाएंगे दरवाजे
सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का फैसला मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) की अगुवाई वाली एलडीएफ सरकार (LDF Government) के लिए भी अहम है क्योंकि बस तीन दिन बाद सबरीमाला (Sabrimala) में वार्षिक तीर्थयात्रा शुरू होने जा रही है.

केरल (Kerala) में पथनमथिट्टा (Pathanamthitta) जिले के पश्चिमी घाटी पर संरक्षित वनक्षेत्र में स्थित इस पहाड़ी धार्मिक स्थल के द्वार 16 नवंबर की शाम को दो महीने तक चलने वाले मंडलम मकराविलाक्कू के लिए खोले जायेंगे.

मुख्यमंत्री ने लिया तैयारियों का जायजा
विजयन ने निर्बाध तीर्थयात्रा सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न विभागों द्वारा की जा रही तैयारियों का शनिवार को जायजा लिया था. पुलिस महानिदेशक लोकनाथ बेहरा ने कहा है कि इस तीर्थयात्रा (Pilgrimage) मौसम के दौरान कड़ी सुरक्षा होगी.
Loading...

दो महीने की तीर्थयात्रा के दौरान सबरीमला में भगवान अयप्पा के मंदिर और उसके आसपास 10,000 से अधिक पुलिसकर्मी (Police Personnel) तैनात किये जाएंगे.

प्रदेश भाजपा को उम्मीद- श्रद्धालुओं के पक्ष में आएगा फैसला
प्रदेश भाजपा (State BJP) ने बुधवार को उम्मीद जतायी कि समीक्षा याचिकाओं पर आदेश श्रद्धालुओं के पक्ष में आएगा जबकि मंदिर का प्रबंधन संभालने वाले स्वायत्त निकाय त्रावणकोर देवस्वओम बोर्ड (Travancore Devaswom Board) ने लोगों से फैसले को स्वीकार करने की अपील की है, चाहे यह (फैसला) जो भी हो.

शीर्ष अदालत ने 28 सितंबर, 2018 को उस पाबंदी को हटा लिया था जिसमें 10 से 50 साल तक की उम्र की महिलाओं के अयप्पा मंदिर (Ayyappa Temple) में प्रवेश पर रोक थी और सदियों पुरानी इस धार्मिक परंपरा को अवैध और असंवैधानिक (Illegal and Unconstitutional) करार दिया था.

यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट में कल रहेगी गहमागहमी, सबरीमाला और राफेल पर आएगा फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 8:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...