Home /News /nation /

पीएम मोदी को मिले उपहारों की नीलामी अंतिम चरण में, नमामी गंगे परियोजना पर खर्च होगी राशि

पीएम मोदी को मिले उपहारों की नीलामी अंतिम चरण में, नमामी गंगे परियोजना पर खर्च होगी राशि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिले उपहारों की नीलामी कर देश की जीवन रेखा यानि पावन गंगा के लिए फंड दान करने का फैसला लिया है.(फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिले उपहारों की नीलामी कर देश की जीवन रेखा यानि पावन गंगा के लिए फंड दान करने का फैसला लिया है.(फाइल फोटो)

PM Narendra Modi Gifts: पीएम को मिले अमूल्य तोहफों और यादगार उपहारों की नीलामी का तीसरा दौर 17 सितंबर को शुरु हुआ और ये 7 अक्टूबर तक चलेगा. इसके लिए एक वेब पोर्टल भी बनाया गया है जिसका नाम है www.pmmementos.gov.in.

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का सपना निर्मल गंगा का है. जब भी मां गंगा का जिक्र आता है, तो पीएम मोदी इसे लेकर देश की सांस्कृतिक विरासत और लोगों की मान्यताओं का जिक्र करना नहीं भूलते. जब पीएम मोदी वाराणसी (Varanasi) से पहली बार चुनाव लड़ने पहुंचे थे तो कहा था कि मां गंगा ने उन्हें बुलाया है. उत्तराखंड के गौमुख से शुरु होकर गंगा पश्चिम बंगाल (West Bengal) से निकलते हुए बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) में जा मिलती है और उसकी भव्यता इसी से साबित होती है कि देश की कई सभ्यताएं यहीं पनपीं और देश की आबादी का आधा हिस्सा इसी पवित्र गंगा के इर्द गिर्द रहता है और अपना जीवन यापन कर रहा है. इसलिए पीएम मोदी का पूरा ध्यान इसी बात पर है कि देश की इस लाइफ लाइन यानि जीवन रेखा को कैसे बचाया जाए.

आजादी के 75वें साल मे सरकार ने जब अमृतोत्सव मनाने की योजना बनायी तो पीएम मोदी के खुद आगे आ कर उन्हें मिले उपहारों को नीलामी के लिए आगे कर दिया. साथ ही इस बात का ऐलान की इस नीलामी से मिली राशि को नमामी गंगे को दे दिया जाएगा.

पीएम को मिले अमुल्य तोहफों और यादगार उपहारों की नीलामी का तीसरा दौर 17 सितंबर को शुरु हुआ और ये 7 अक्टूबर तक चलेगा. इसके लिए एक वेब पोर्टल भी बनाया गया है जिसका नाम है www.pmmementos.gov.in. नरेन्द्र मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने मिले उपहारों की नीलामी कर देश की जीवन रेखा यानि पावन गंगा के लिए फंड दान करने का फैसला लिया है. वो भी एक ऐसे विभाग नमामी गंगे के माध्यम से जो उन्होंने प्रधानमंत्री बनते ही बनाया और इसे सिर्फ निर्मल गंगा करने के काम में लगाया.

पीएम मोदी को मिले उपहारों की नीलामी के इस दौर में 1348 मेमेंटोज का ई-ऑक्शन हो रहा है. इसमें पीएम मोदी को टोक्यो ऑलंपिक और पैरालिंपिक में भाग लिए खिलाड़ियों द्वारा दिए गए तोहफे हैं. ये नई दिल्ली के नेशनल गैलरी ऑफ नेशनल आर्ट्स में प्रदर्शन के लिए रखे गए हैं. अब तक इनमें से 1083 मेमेंटोज के लिए बोली लग चुकी है. तोहफा नंबर जी 1656 जो कि एक सजावट का सामान है, उसके लिए सबसे ज्यादा 52 लोगों ने बोली लगायी है और इसकी कीमत 2500 डॉलर से 101000 डॉलर तक पहुंच चुकी है. टोक्यों में पदक जीतने वाली पीवी सिंधू के रैकेट का बेस प्राइस 80 लाख रुपये रखा गया है तो नीरज चोपड़ा का स्वर्ण पदक जीतने वाले जैवलीन की कीमत भी करोड़ों मे लगायी गयी है.

साथ ही यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा भेंट किया गया अयोध्या के राम मंदिर का मॉडल, सतपाल महाराज का तोहफा लकड़ी का बना चारधाम, रुद्राक्ष कंवेशन सेंटर जैसे तोहफे भी नीलामी के लिए रखे हैं. पिछली बार ऐसी नीलामी 2019 में हुई थी. तब सरकार को पूरी नीलामी से 15.13 करोड रुपये मिले थे. उस बार भी पीएम मोदी के निर्देश के बाद पूरा पैसा नमामी गंगे कोश में दे दिया गया ताकि गंगा साफ और स्वच्छ रहे. इस बार भी नीलामी के पैसे नमामी गंगे कोश में जाएंगे. जाहिर है पीएम मोदी गोमुख से बंगाल की खाडी तक एक निर्मल अविरल गंगा देखना चाहते हैं और उनका योगदान अमिट रहेगा.

Tags: E-auction, Gifts, Pm narendra modi

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर