यहां दिन में 'गाउन' नहीं पहन सकती महिलाएं, देना पड़ता है 2000 रुपये का जुर्माना

इसपर गांव के बुजुर्गों ने तर्क दिया था कि नाइटी केवल रात में पहनने के लिए है. इसलिए इसको दिन में नहीं पहनना चाहिए.

News18.com
Updated: November 10, 2018, 3:20 PM IST
यहां दिन में 'गाउन' नहीं पहन सकती महिलाएं, देना पड़ता है 2000 रुपये का जुर्माना
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18.com
Updated: November 10, 2018, 3:20 PM IST
आंध्र प्रदेश के एक गांव से हैरान करने वाली खबर सामने आई हैं. यहां दिन के वक्त महिलाओं के नाइटी पहनने पर पाबंदी लगाई गई है. साथ ही इस आदेश का पालन न करने पर जुर्माना भी लगाया गया है. इस आदेश की देखरेख के लिए बाकायदा एक कमेटी बनाई गई है. आंध्र प्रदेश के पश्चिम गोदावरी जिले के टोकलापल्ली गांव में पिछले नौ महीने से महिलाओं के दिन में नाइटी पहनने पर पाबंदी लगाई गई है.

इसपर गांव के बुजुर्गों ने तर्क दिया था कि नाइटी केवल रात में पहनने के लिए है. इसलिए इसको दिन में नहीं पहनना चाहिए. इस गांव के नौ बुजुर्गों ने एक खास रणनीति के तहत इस आदेश को लागू कराने की योजना बनाई है. द टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, सुबह 7 बजे से शाम को 7 बजे के दौरान अगर किसी महिला ने नाइटी पहना तो उसपर 2,000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. साथ ही इस आदेश के उल्लंघन की सूचना देने वाले को 1,000 रुपये पुरस्कार के तौर पर दिए जाएंगे.

ये भी पढ़ें: बहुओं ने पैसे लेकर घर से निकाला, भीख मांगकर लखपति बन गई महिला

इस आदेश के कारण गांव की महिलाएं पिछले नौ महीने से दिन में नाइटी नहीं पहन रही हैं. इस गांव में कुल 1800 महिलाएं हैं. सोशल मीडिया पर यह जानकारी वायरल होने के बाद गुरुवार को राजस्व अधिकारियों की एक टीम ने गांव का दौरा किया है. द टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, दौरे के वक्त गांव के कुछ बुजुर्गों ने बताया कि आदेश देने वाले बुजुर्गों ने धमकी दी है कि अगर इस मामले में कोई महिला दोषी पाए जाने पर जुर्माना देने से इंकार करती है, तो उसका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा. उन्हें यह भी चेतावनी दी गई थी कि वह सरकारी अधिकारियों से कुछ भी नहीं बताएं.

ये भी पढ़ें: ANALYSIS: राजनीति में पाला बदलना कोई चंद्रबाबू नायडू से सीखे!

टोकलापल्ली गांव की सरपंच फंतासिया महालक्ष्‍मी ने टीओआई को बताया कि खुले में कपड़े धोना, दुकानों पर जाना और रात के वक्त महिलाओं का बैठकों में भाग लेना अच्छा नहीं है. हालांकि उन्होंने प्रतिबंध लगाने से इंकार किया है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर