आयकर विभाग ने कोचिंग सेंटर पर छापा मारकर 30 करोड़ की नगदी जब्त की

आयकर विभाग ने तमिलनाडु में एक कोचिंग सेंटर पर छापा मार कर करोड़ों की नगदी जब्त की है (फाइल फोटो)

आयकर विभाग ने तमिलनाडु में एक कोचिंग सेंटर पर छापा मार कर करोड़ों की नगदी जब्त की है (फाइल फोटो)

केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) के मुताबिक आयकर विभाग ने शनिवार को तमिलनाडु (Tamil Nadu) में एक कोचिंग सेंटर (Coaching) पर छापा मार 30 करोड़ रुपये का कथित कालाधन जब्त किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. आयकर विभाग ने शनिवार को तमिलनाडु (Tamil Nadu) में नीट (NEET) जैसी प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले कोचिंग सेंटर (Coaching) में छापेमारी कर 30 करोड़ रुपये का कथित कालाधन जब्त किया. केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने शनिवार को यह जानकारी दी.



बोर्ड ने कहा कि शुक्रवार को नमक्कल में स्थित अज्ञात समूह के 17 परिसरों पर छापेमारी (Raid) की गई और "शुरुआती" अनुमान के अनुसार समूह की कमाई 150 करोड़ रुपये से अधिक है.



17 आवासीय परिसरों में पर हुई छापेमारी

बोर्ड ने एक बयान में कहा कि समूह मुख्य रूप से प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं के लिये शैक्षिक और कोचिंग संस्थान (Coaching Center) चला रहा है और इसमें कई भागीदार कंपनियां और समूह द्वारा नियंत्रित ट्रस्ट शामिल हैं. बोर्ड आयकर विभाग के लिए नीतियां बनाता है.
बयान के अनुसार खुफिया जानकारी के आधार पर नमक्कल, पेरुंदुरई, करूर और चेन्नई में समूह के प्रमोटरों के 17 आवासीय परिसरों में छापेमारी (Raid) की गई.





इस तरह से किया जाता है फर्जीवाड़ा

CBDT ने कहा है कि खुफिया जानकारी में बताया गया था कि ग्रुप स्टूडेंट्स को दी जाने वाली पर्ची में धोखाधड़ी करके करोड़ों रुपये के टैक्स की चोरी कर रहा है.



बोर्ड की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि ग्रुप इस मॉडल पर काम कर रहा था कि यह स्टूडेंट्स से फीस का एक हिस्सा कैश में लेता था और बाकी दूसरे माध्यमों से. फीस का जो हिस्सा कैश में लिया जाता था, उसे बिल के तौर पर दर्ज नहीं किया जाता था. वहीं केवल अलग तरह के माध्यमों से जमा की गई फीस के लिए ही पर्ची दी जाती थी.



इस तरह छिपाई जाती थी धनराशि

बोर्ड ने कहा, "इन फीस की पर्चियों में फीस कम दिखाने के अपराध के सुबूत संस्थान के फॉर्म, डायरियों और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में मेंटेन किए गए बड़ी धनराशि वाले गैर दर्ज एकाउंट देखकर चलता है."



इससे यह भी पता चला कि कोचिंग सेंटर के कर्मचारियों के बैंक लॉकर में इस धनराशि को रखा जाता था. जो बेनामी की तरह से काम करते थे.



यह भी पढ़ें: ईडी ने भूषण पावर एंड स्टील की 4,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति हुई कुर्क
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज