Home /News /nation /

अमेरिका से छह खरब के हथ‌ियार खरीदेगा भारत, धरती-आकाश-पाताल से ढूंढकर करेगा दुश्मनों का खात्मा

अमेरिका से छह खरब के हथ‌ियार खरीदेगा भारत, धरती-आकाश-पाताल से ढूंढकर करेगा दुश्मनों का खात्मा

भारत और अमेरिका हथ‌ियारों को लेकर बड़ी डील करने वाले हैं.

भारत और अमेरिका हथ‌ियारों को लेकर बड़ी डील करने वाले हैं.

भारत ने इस बड़ी खरीदारी की दिशा में पहला कदम बढ़ा भी दिया है. पिछले ही सप्ताह अमेरिका से आठ लॉन्ग रेंज मेरिटाइम पेट्रोल एयरक्राफ्ट पी-8आई की खरीदने पर अंतिम मुहर लगा दी गई थी.

    भारत सरकार देश की सुरक्षा को लेकर कई बड़े कदम उठा रही है. इनमें सबसे अहम अमेरिका के साथ हो रहे रक्षा सौदे हैं. मोदी सरकार दूसरे कार्यकाल के पूर्वाद्ध में ही अमेरिका से करीब 10 बिलियन अमेरिकी डॉलर यानी करीब छह खरब रुपये का रक्षा हथ‌ियारों के लिए अनुबंध करने जा रही है.

    अमेरिका के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह विदेशी सैन्य बिक्री कार्यक्रम के तहत सौदे करने जा रहे हैं. इसके लिए रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) का गठन किया गया है. इसकी अध्यक्षता की जिम्मेदारी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को दी गई है. जानकारी के अनुसार इस परिषद ने काम करना भी शुरू कर दिया है.

    हो चुकी है खरीदारी की शुरुआत
    सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भारत ने इस बड़ी खरीदारी की दिशा में पहला कदम बढ़ा भी दिया है. पिछले सप्ताह अमेरिका से आठ लॉन्ग रेंज मेरिटाइम पेट्रोल एयरक्राफ्ट पी-8आई की खरीद पर अंतिम मुहर लगा दी गई थी. भारत ने पहले भी इसी श्रेणी के विमान खरीदे थे, लेकिन वे पी-12 आई थे, पर इसकी रेंज ज्यादा है. अमेरिका ये विमान आगामी अगस्त महीने तक भारत के सुपुर्द कर देगा.



    इस विमान की खूबी है कि ये सेंसर, हारपून ब्लॉक-2 मिसाइल, एमके-54 लाइट टॉरपीड और रॉकेट जैसी नई तकनीक से लैस है. यह सबमरीन को डिटेक्ट करके खत्म करने की क्षमता रखता है. सेना से मिली एक जानकारी के मुता‌बिक नौसेना एक दर्जन से ज्यादा पी-8आई विमान खरीदने की संस्तुति कर चुकी है.

    2.5 अरब डॉलर के ड्रोन खरीद रहा है भारत
    इसी तरह भारत की 2.5 अरब डॉलर के 30 सशस्त्र सी गार्जियन (प्रीडेटर-बी) ड्रोन की खरीद पर सहमति बन गई है. ये नौसेना और वायुसेना को दिए जाएंगे. इस मामले को भी डीएसी के पास भेज दिया गया है.

    यह भी पढ़ेंः भारत में 100 रु. लीटर के पार जा सकती है पेट्रोल की कीमत!

    इसी के साथ ही 24 नेवल मल्टी-रोल एमएच60 रोमियो हेलीकॉप्टर (2.6 बिलियन डॉलर) खरीदे जाएंगे. बताया जा रहा है यह खासतौर पर दिल्ली की सुरक्षा के लिए खरीदे जाएंगे. बताया जा रहा है कि नेशनल एडवांस सर्वेस टू एयर मिसाइल सिस्टम-2 (लगभग एक बिलियन डॉलर) और छह अपाचे हेलीकॉप्टर (930 मिलियन डॉलर) खरीदे जाने को लेकर भी सहमति बन गई है. इससे दिल्ली को पूरी तरह से पैक रखा जाएगा. दिल्ली में किसी भी तरह की घटना की आहट मात्र पर ये रक्षा प्रणाली काम करना शुरू कर देगी.



    अमेरिकी विदेश सचिव आ रहे हैं भारत
    उल्लेखनीय है कि इन दिनों भारत और अमेरिका के व्यापार और इमिग्रेशन पर कई तरह के तनाव की खबरें आ रही हैं. यही नहीं अक्टूबर 2018 में रूस के साथ एस-400 ट्रायम्फ मिसाइल खरीदने के बाद भी अमेरिका ने भारत के साथ रिश्ते तल्‍ख कर लिए थे. हालांकि इसके बाद भी मार्च 2019 में भारत ने परमाणु क्षमता वाली हमलावर पनडुब्बी अकुला-1 को 10 साल के लिए पट्टे पर रूस से लिया था. तब ये माना जा रहा था अब भारत और अमेरिका के रिश्ते और ज्यादा खराब हो सकते हैं. लेकिन अब मामला आखिरकार सुलझा लिया गया है. बताया जा रहा है कि आगामी मंगलवार को अमेरिका के विदेश सचिव माइक पॉम्पियो इसी सिलसिले में भारत आ रहे हैं.

    यह भी पढ़ेंः ईरान के साथ बातचीत के लिए कोई पूर्व शर्त नहीं - ट्रंप

    Tags: Donald Trump, Indian Airforce, Indian army, Indian navy, Rajnath Singh

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर