पीएम मोदी ने भ्रष्टाचार-परिवारवाद को बताया दीमक, इससे लड़ाई में मांगा देशवासियों का साथ

पीएम मोदी ने लाल किले से देश को संबोधित करते हुए देशवासियों से पांच संकल्पों को अपनाने का अनुरोध किया. उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में, हमें 'पंचप्राण' पर ध्यान देना होगा. पहला- विकसित भारत के बड़े संकल्पों और संकल्प के साथ आगे बढ़ना, दूसरा- दासता के सभी निशान मिटा दें, तीसरा- हमारी विरासत पर गर्व करें, चौथा- एकता की ताकत और पांचवां- नागरिकों के कर्तव्य जिनमें पीएम और सीएम शामिल हैं.

नई दिल्लीः भारत आज अपना 76वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है. आजादी के इस अमृत महोत्सव के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले पर झंडारोहण करने के बाद राष्ट्र को संबोधित किया. यह लगातार 9वां मौका था जब पीएम मोदी लाल किले से देश को संबोधित कर रहे थे. पीएम मोदी ने इस मौके पर देशवासियों से पांच संकल्पों को अपनाने का अनुरोध किया. उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में, हमें ‘पंचप्राण’ पर ध्यान देना होगा. पहला- विकसित भारत के बड़े संकल्पों और संकल्प के साथ आगे बढ़ना, दूसरा- दासता के सभी निशान मिटा दें, तीसरा- हमारी विरासत पर गर्व करें, चौथा- एकता की ताकत और पांचवां- नागरिकों के कर्तव्य जिनमें पीएम और सीएम शामिल हैं.

पीएम मोदी ने लाल किले से ‘भ्रष्टाचार और परिवारवाद’ के खिलाफ मोर्चा खोला. उन्होंने कहा कि आज हम दो बड़ी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं, ‘भ्रष्टाचार और परिवारवाद या भाई-भतीजावाद.’ भ्रष्टाचार देश को दीमक की तरह खोखला कर रहा है, हमें इससे लड़ना है. हमें अपनी संस्थाओं की ताकत का एहसास करने के लिए? योग्यता के आधार पर देश को आगे ले जाने के लिए परिवारवाद के खिलाफ जागरूकता बढ़ानी होगी. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार की बुराई करने वालों को दंडित करने के लिए हमें एक समाज के रूप में एक साथ आने की जरूरत है. जब तक लोगों में भ्रष्टों को दंडित करने की मानसिकता नहीं होगी, राष्ट्र इष्टतम गति से प्रगति नहीं कर सकता. हमारे कई संस्थान परिवार के शासन से प्रभावित हैं, यह हमारी प्रतिभा, राष्ट्र की क्षमताओं को नुकसान पहुंचाते हैं और भ्रष्टाचार को जन्म देते हैं. पीएम मोदी ने इन दो दीमकों के खिलाफ लड़ाई में देशवासियो का समर्थन मांगा.

पीएम मोदी ने कहा कि लाल बहादुर शास्त्री जी का ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा हमें हमेशा याद रहता है. बाद में अटल बिहारी वाजपेयी ने इस नारे में ‘जय विज्ञान’ जोड़ा. अब एक और बात जोड़ने की आवश्यकता है- ‘जय अनुसंधान’ (अनुसंधान और नवाचार). जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान. पीएम मोदी ने ‘आत्मनिर्भर भारत’ पर जोर दिया, इसे ‘जन आंदोलन’ के रूप में आगे बढ़ाने की जरूरत बताई. उन्होंने कहा कि 75 साल में पहली बार लाल किले से औपचारिक तोपों की सलामी के लिए मेड इन इंडिया गन का इस्तेमाल किया गया है. भारत विनिर्माण क्षेत्र में इतिहास रच रहा है. मैं उन बच्चों को सलाम करता हूं जो आयातित खिलौनों को ना कह रहे हैं; जब 5 साल का बच्चा कहता है ‘विदेशी नहीं’, ‘आत्मनिर्भर भारत’ उसकी रगों में दौड़ता है.

अधिक पढ़ें ...
15 Aug 2022 09:02 (IST)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'जय हिंद' के साथ अपने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन का समापन किया

15 Aug 2022 09:01 (IST)

भ्रष्टाचार करने वालों को दंडित करने के लिए हमें एक समाज के रूप में एक साथ आने की जरूरत- PM मोदी

पीएम मोदी- भ्रष्टाचार की बुराई करने वालों को दंडित करने के लिए हमें एक समाज के रूप में एक साथ आने की जरूरत है. जब तक लोगों में भ्रष्टों को दंडित करने की मानसिकता नहीं होगी, राष्ट्र इष्टतम गति से प्रगति नहीं कर सकता. हमारे कई संस्थान परिवार के शासन से प्रभावित हैं, यह हमारी प्रतिभा, राष्ट्र की क्षमताओं को नुकसान पहुंचाते हैं और भ्रष्टाचार को जन्म देते हैं.

15 Aug 2022 08:59 (IST)

आज हम दो बड़ी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं - भ्रष्टाचार और परिवारवाद' या भाई-भतीजावाद- PM मोदी

पीएम मोदी ने कहा- आज हम दो बड़ी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं – भ्रष्टाचार और ‘परिवारवाद’ या भाई-भतीजावाद. भ्रष्टाचार देश को दीमक की तरह खोखला कर रहा है, हमें इससे लड़ना है. हमें अपनी संस्थाओं की ताकत का एहसास करने के लिए, योग्यता के आधार पर देश को आगे ले जाने के लिए ‘परिवारवाद’ के खिलाफ जागरूकता बढ़ानी होगी.

15 Aug 2022 08:57 (IST)

हमारे सामने कई चुनौतियाँ हैं, नए भारत के लिए उनसे पार पाने की क्षमता है- PM मोदी

पीएम मोदी ने भ्रष्टाचार और परिवारवाद को बताया दीमक. उन्होंने कहा कि भारत में, जहां लोग गरीबी से लड़ रहे हैं, हमें पूरी ताकत से भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने की जरूरत है. हमारे सामने कई चुनौतियाँ हैं, कई प्रतिबंध हैं, कई मुद्दे हैं लेकिन हमारे पास नए भारत के लिए उनसे पार पाने की क्षमता है.

15 Aug 2022 08:50 (IST)

हमें देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ पूरी ताकत से लड़ना होगा- PM मोदी

15 Aug 2022 08:49 (IST)

हमारे भविष्य का समाधान अंतरिक्ष और समुद्र की गहराई में है- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा- हमारा प्रयास है कि देश के युवाओं को अंतरिक्ष से लेकर समुद्र की गहराई तक सभी क्षेत्रों में अनुसंधान के लिए हर संभव सहयोग मिले. इसलिए हम अपने स्पेस मिशन और डीप ओशन मिशन का विस्तार कर रहे हैं. हमारे भविष्य का समाधान अंतरिक्ष और समुद्र की गहराई में है.

15 Aug 2022 08:45 (IST)

आजादी के अमृत काल के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 'पंच प्रण'

1- विकसित भारत

2- गुलामी के हर अंश से मुक्ति

3- विरासत पर गर्व

4- एकता और एकजुटता

5- नागरिकों का कर्तव्य

15 Aug 2022 08:42 (IST)

जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि लाल बहादुर शास्त्री जी का ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा हमें हमेशा याद रहता है. बाद में अटल बिहारी वाजपेयी ने इस नारे में ‘जय विज्ञान’ जोड़ा. अब एक और बात जोड़ने की आवश्यकता है- ‘जय अनुसंधान’ (अनुसंधान और नवाचार). जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान.

15 Aug 2022 08:41 (IST)

पीएम मोदी ने 'आत्मनिर्भर भारत' पर जोर दिया, इसे 'जन आंदोलन' के रूप में आगे बढ़ाने की जरूरत बताई

पीएम मोदी ने ‘आत्मनिर्भर भारत’ पर जोर दिया, इसे ‘जन आंदोलन’ के रूप में आगे बढ़ाने की जरूरत बताई. उन्होंने कहा कि 75 साल में पहली बार लाल किले से औपचारिक तोपों की सलामी के लिए मेड इन इंडिया गन का इस्तेमाल किया गया है. भारत विनिर्माण क्षेत्र में इतिहास रच रहा है. मैं उन बच्चों को सलाम करता हूं जो आयातित खिलौनों को ना कह रहे हैं; जब 5 साल का बच्चा कहता है ‘विदेशी नहीं’, ‘आत्मनिर्भर भारत’ उसकी रगों में दौड़ता है.

15 Aug 2022 08:36 (IST)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को महिलाओं का अनादर बंद करने का संकल्प लेने का संदेश दिया

15 Aug 2022 08:35 (IST)

आज भारत के हर कोने में आकांक्षाएं ऊंची हैं, हमें इस बात पर गर्व है- प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- मैं देख सकता हूं कि नागरिक आकांक्षी हैं. एक आकांक्षी समाज किसी भी देश के लिए एक संपत्ति है और हमें इस बात पर गर्व है कि आज भारत के हर कोने में आकांक्षाएं ऊंची हैं. हर नागरिक चीजों को बदलना चाहता है लेकिन इंतजार करने को तैयार नहीं है. वे गति और प्रगति चाहते हैं.

15 Aug 2022 08:33 (IST)

अंतिम व्यक्ति को सक्षम बनाने में मैंने खुद को समर्पित कर दिया- PM मोदी

पीएम मोदी ने कहा- अंतिम व्यक्ति की देखभाल करने का महात्मा गांधी का सपना, अंतिम व्यक्ति को सक्षम बनाने की उनकी आकांक्षा – मैंने खुद को उसी के लिए समर्पित कर दिया. आठ वर्षों और स्वतंत्रता के कई वर्षों के अनुभव के परिणामस्वरूप, मैं स्वतंत्रता के 75 वर्षों में एक क्षमता देख सकता हूं.

15 Aug 2022 08:27 (IST)

जो बाइडन ने भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर दी बधाई

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर देश को शुभकामनाएं और बधाई दी. उन्होंने कहा- विश्वास है कि आने वाले वर्षों में हमारे 2 लोकतंत्र नियम-आधारित व्यवस्था की रक्षा के लिए एक साथ खड़े रहेंगे, हमारे लोगों के लिए अधिक शांति, समृद्धि और सुरक्षा को बढ़ावा देंगे, एक स्वतंत्र और खुले इंडो-पैसिफिक को आगे बढ़ाएंगे और दुनिया भर में हमारे सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करेंगे.

15 Aug 2022 08:21 (IST)

हमें अपनी क्षमताओं पर विश्वास करना होगा- पीएम मोदी

पीएम मोदी- आज, हम डिजिटल इंडिया पहल देख रहे हैं, देश में स्टार्टअप बढ़ रहे हैं, और टियर 2 और 3 शहरों से बहुत सारी प्रतिभाएं आ रही हैं. हमें अपनी क्षमताओं पर विश्वास करना होगा.

15 Aug 2022 08:20 (IST)

प्रधानमंत्री मोदी की 2047 के भारत के लिए 5 प्रतिज्ञाएं

प्रधानमंत्री मोदी की 2047 के भारत के लिए 5 प्रतिज्ञाएं हैं- विकसित भारत बनाना, दासता के किसी भी निशान को हटाना, विरासत में गर्व, एकता और अपने कर्तव्यों को पूरा करना.

15 Aug 2022 08:16 (IST)

भारत को 'पंचप्राण' के संकल्पों को अपनाने का समय आ गया है- पीएम मोदी

पीएम मोदी ने 76वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले से अपने संबोधन में देशवासियों से पंचप्राण के संकल्पों को अपनाने का अनुरोध किया. उन्होंने कहा- आने वाले वर्षों में, हमें ‘पंचप्राण’ पर ध्यान देना होगा- पहला, विकसित भारत के बड़े संकल्पों और संकल्प के साथ आगे बढ़ना; दूसरा, दासता के सभी निशान मिटा दें; तीसरा, हमारी विरासत पर गर्व करें; चौथा, एकता की ताकत और पांचवां, नागरिकों के कर्तव्य जिनमें पीएम और सीएम शामिल हैं.

15 Aug 2022 08:07 (IST)

उतार-चढ़ावों के बीच हम सभी के प्रयास से मुकाम तक पहुंचे- PM मोदी

पीएम मोदी ने कहा- इस 75 साल की यात्रा में, आशाओं, आकांक्षाओं, उतार-चढ़ावों के बीच हम सभी के प्रयास से उस मुकाम तक पहुंचे, जहां हम पहुंच सकते थे. 2014 में, नागरिकों ने मुझे जिम्मेदारी दी- आजादी के बाद पैदा हुआ पहला व्यक्ति जिसे लाल किले से इस देश के नागरिकों की प्रशंसा गाने का अवसर मिला.

15 Aug 2022 08:03 (IST)

भारत एक आकांक्षी समाज है, जहां सामूहिक भावना से परिवर्तन हो रहे हैं- PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- भारत एक आकांक्षी समाज है जहां सामूहिक भावना से परिवर्तन हो रहे हैं. भारत के लोग सकारात्मक बदलाव चाहते हैं और इसमें योगदान भी देना चाहते हैं. हर सरकार को इस आकांक्षी समाज को संबोधित करना होगा.

15 Aug 2022 08:02 (IST)

आजादी के बाद कुछ लोगों ने भारत की सफलता पर संदेह किया, उन्हें नहीं पता था यह मिट्टी खास है

लाल किले की प्राचीर से देश के नाम अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- जब हमें आजादी मिली तो कई संशयवादी थे जिन्होंने हमारे विकास पथ पर संदेह किया. लेकिन, वे नहीं जानते थे कि इस देश के लोगों के बारे में कुछ अलग है. उन्हें नहीं पता था कि यह मिट्टी खास है.

15 Aug 2022 07:59 (IST)

स्वतंत्रता संग्राम की बात करते हैं तो हम आदिवासी समुदाय को नहीं भूल सकते- प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- जब हम स्वतंत्रता संग्राम की बात करते हैं तो हम आदिवासी समुदाय को नहीं भूल सकते. भगवान बिरसा मुंडा, सिद्धू-कान्हू, अल्लूरी सीताराम राजू, गोविंद गुरु- ऐसे असंख्य नाम हैं जो स्वतंत्रता संग्राम की आवाज बने और आदिवासी समुदाय को मातृभूमि के लिए जीने और मरने के लिए प्रेरित किया.

अधिक पढ़ें

नई दिल्लीः भारत आज अपना 76वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है. आजादी के इस अमृत महोत्सव के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले पर झंडारोहण करने के बाद राष्ट्र को संबोधित किया. यह लगातार 9वां मौका था जब पीएम मोदी लाल किले से देश को संबोधित कर रहे थे. पीएम मोदी ने इस मौके पर देशवासियों से पांच संकल्पों को अपनाने का अनुरोध किया. उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में, हमें ‘पंचप्राण’ पर ध्यान देना होगा. पहला- विकसित भारत के बड़े संकल्पों और संकल्प के साथ आगे बढ़ना, दूसरा- दासता के सभी निशान मिटा दें, तीसरा- हमारी विरासत पर गर्व करें, चौथा- एकता की ताकत और पांचवां- नागरिकों के कर्तव्य जिनमें पीएम और सीएम शामिल हैं.

पीएम मोदी ने लाल किले से ‘भ्रष्टाचार और परिवारवाद’ के खिलाफ मोर्चा खोला. उन्होंने कहा कि आज हम दो बड़ी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं, ‘भ्रष्टाचार और परिवारवाद या भाई-भतीजावाद.’ भ्रष्टाचार देश को दीमक की तरह खोखला कर रहा है, हमें इससे लड़ना है. हमें अपनी संस्थाओं की ताकत का एहसास करने के लिए? योग्यता के आधार पर देश को आगे ले जाने के लिए परिवारवाद के खिलाफ जागरूकता बढ़ानी होगी. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार की बुराई करने वालों को दंडित करने के लिए हमें एक समाज के रूप में एक साथ आने की जरूरत है. जब तक लोगों में भ्रष्टों को दंडित करने की मानसिकता नहीं होगी, राष्ट्र इष्टतम गति से प्रगति नहीं कर सकता. हमारे कई संस्थान परिवार के शासन से प्रभावित हैं, यह हमारी प्रतिभा, राष्ट्र की क्षमताओं को नुकसान पहुंचाते हैं और भ्रष्टाचार को जन्म देते हैं. पीएम मोदी ने इन दो दीमकों के खिलाफ लड़ाई में देशवासियो का समर्थन मांगा.

पीएम मोदी ने कहा कि लाल बहादुर शास्त्री जी का ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा हमें हमेशा याद रहता है. बाद में अटल बिहारी वाजपेयी ने इस नारे में ‘जय विज्ञान’ जोड़ा. अब एक और बात जोड़ने की आवश्यकता है- ‘जय अनुसंधान’ (अनुसंधान और नवाचार). जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान. पीएम मोदी ने ‘आत्मनिर्भर भारत’ पर जोर दिया, इसे ‘जन आंदोलन’ के रूप में आगे बढ़ाने की जरूरत बताई. उन्होंने कहा कि 75 साल में पहली बार लाल किले से औपचारिक तोपों की सलामी के लिए मेड इन इंडिया गन का इस्तेमाल किया गया है. भारत विनिर्माण क्षेत्र में इतिहास रच रहा है. मैं उन बच्चों को सलाम करता हूं जो आयातित खिलौनों को ना कह रहे हैं; जब 5 साल का बच्चा कहता है ‘विदेशी नहीं’, ‘आत्मनिर्भर भारत’ उसकी रगों में दौड़ता है.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें