लाइव टीवी

‘2+2’ वार्ता के बाद एक साथ बोले भारत-जापान: 'सभी देशों को आतंकवादियों के ठिकाने जड़ से खत्म करने की जरूरत'

भाषा
Updated: November 30, 2019, 9:16 PM IST
‘2+2’ वार्ता के बाद एक साथ बोले भारत-जापान: 'सभी देशों को आतंकवादियों के ठिकाने जड़ से खत्म करने की जरूरत'
राजनाथ सिंह और एस जयशंकर ने भारतीय शिष्टमंडल का नेतृत्व किया (PTI Photo/Kamal Singh)

भारत एवं जापान (India and Japan) ने सभी देशों से यह सुनिश्चित करने की अपील की कि उनके नियंत्रण वाले किसी क्षेत्र का इस्तेमाल किसी अन्य देश पर आतंकवादी हमले (Terrorist Attack) करने के लिए नहीं किया जाए.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत एवं जापान (India and Japan) ने विशेष रूप से समुद्री क्षेत्र (Marine Area) में अपनी विशेष रणनीतिक साझेदारी (Special Strategic Partnership) को और अधिक गति प्रदान करने के लिये शनिवार को विदेश और रक्षा मंत्री स्तर (Foreign and Defense Minister Level) की पहली बैठक की.

अधिकारियों ने बताया कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने भारतीय शिष्टमंडल का नेतृत्व किया, जबकि जापान का नेतृत्व वहां के विदेश मंत्री तोशीमित्शु मोतेगी और रक्षा मंत्री तारो कोनो ने किया. इस वार्ता को ‘टू प्लस टू’ (2+2) नाम दिया गया है.

इस बातचीत के जरिए संबंधों की नई रूपरेखा तय कर रहे भारत-जापान
पिछले साल 13 वें भारत-जापान वार्षिक सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और उनके जापानी समकक्ष शिंजो आबे द्वारा लिये गये एक फैसले के बाद नई रूपरेखा के तहत वार्ता हो रही है.

दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय सुरक्षा एवं रक्षा सहयोग को और मजबूत करने तथा दोनों देशों के बीच विशेष रणनीतिक एवं वैश्विक साझेदारी को और अधिक प्रगाढ़ करने के लिये नया तंत्र गठित करने का फैसला किया. वार्ता में दोनों देशों ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र (Indo-Pacific Area) में स्थिति पर विचारों का आदान प्रदान किया और शांति, समृद्धि एवं प्रगति के साझा लक्ष्य को हासिल करने का संकल्प लिया. बैठक में भारत-जापान के बीच रक्षा एवं सुरक्षा सहयोग के विभिन्न महत्वपूर्ण आयामों पर भी चर्चा की गई.

अपने क्षेत्र का इस्तेमाल दूसरे देश पर आतंकवादी हमले के लिए नहीं होने दें देश: भारत-जापान
भारत एवं जापान ने सभी देशों से यह सुनिश्चित करने की अपील की कि उनके नियंत्रण वाले किसी क्षेत्र का इस्तेमाल किसी अन्य देश पर आतंकवादी हमले (Terrorist Attack) करने के लिए नहीं किया जाए. भारत और जापान ने ‘टू प्लस टू’ वार्ता में पाकिस्तान से आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम दे रहे आतंकवादी नेटवर्कों से क्षेत्रीय सुरक्षा को पैदा हो रहे खतरे का जिक्र किया.भारत और जापान ने पाकिस्तान से अपील की कि वह आतंकवादी नेटवर्कों (Terrorist Networks) के खिलाफ ठोस एवं स्थायी कदम उठाए और अंतरराष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं का पूरा पालन करे. भारत एवं जापान ने सभी देशों से अपील की कि वे आतकंवादियों की पनाहगाह नष्ट करने के लिए और उन्हें वित्तीय मदद देने वाले माध्यमों को समाप्त करने लिए ठोस कदम उठाएं.

यह भी पढ़ें: एक दूसरे को सहयोग करें भारत और चीन ताकि एशियाई सदी हो साकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 9:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर